Create

5 ऐसी सलामी जोड़ी जो कि हम एकदिवसीय क्रिकेट में कभी नहीं देखेंगे

सालों से एकदिवसीय क्रिकेट में शीर्ष क्रम पर लगातार बड़े बदलाव होते नज़र आये हैं। जबकि 70 के दशक मेंऔर 80 के दशक के दौरान सलामी बल्लेबाज बड़ी ही सावधानी से खेलते थे। एक महत्वपूर्ण बदलाव 90 के दशक में हुआ, जिसमें टीमों ने आक्रामक बल्लेबाजों को सलामी बल्लेबाजों के रूप में प्रस्तुत किया। पिछले कुछ सालों के दौरान, स्ट्रोक मारने वाले बहुत सारे खिलाड़ी आये और छोटी होती सीमाओं पर नयी गेंद के खिलाफ खुद के शॉट खेलने शुरू कर दिए हैं। यहां हम उन सलामी बल्लेबाजों के बारे में बात करेंगे जिनकी जोड़ी हमें देखने को नहीं मिल सकती है। इस लिस्ट में हमने से कम से कम 1000 रन बनाने वाले सलामी बल्लेबाजों को जगह दी है। # 5 वीरेंदर सहवाग और रोहित शर्मा आंकड़ों और प्रतिष्ठा की परवाह न करने वाला कुछ है, तो वो शीर्ष पर वीरेंद्र सहवाग की मौजूदगी थी। जो हर गेंदबाज़ को डरा देने के लिए पर्याप्त थी। सहवाग का पारी की पहली गेंद को सीमा पार पहुँचाना, उनकी कला का एक हिस्सा था। नजफगढ़ के 'नवाब' ने सचिन तेंदुलकर के साथ मिलकर भारत के लिए एक विश्वसनीय सलामी जोड़ी बनाई। हालांकि उन्होंने अक्सर आक्रामक शुरुआत की थी, लेकिन महान तेंदुलकर के साथ उनकी जोड़ी काफी सफल रही। सहवाग जिस तरह से पारी की शुरुआत करते हैं उसकी वजह से रोहित शर्मा को अपने शॉट खेलने से पहले जमने के लिए काफी समय मिलता। हालांकि एक बार जम जाने पर रोहित शर्मा भी काफी आक्रामक तरीके से खेलने में सक्षम हैं। यह ध्यान देने योग्य है कि उन्होंने सहवाग के साथ 39 वनडे खेले हैं। हालांकि इनमें से एक बार भी रोहित शर्मा ने सहवाग के साथ पारी की शुरुआत नहीं की। अगर सहवाग और रोहित शर्मा भारतीय टीम की सलामी जोड़ी होते तो लगभग हर मैच में भारत को विस्फोटक शुरुआत मिल सकती थी। सलामी बल्लेबाज के रूप में आकड़े: वीरेंदर सहवाग - 36.49 के औसत से 214 एकदिवसीय मैच में 7518 रन, 104.72 की स्ट्राइक रेट, जिसमें 14 शतक और 35 अर्धशतक शामिल हैं रोहित शर्मा - 53.76 की औसत से 85 एकदिवसीय मैचों में 4086 रन और 90.05 की स्ट्राइक रेट, जिसमें 12 शतक और 22 अर्धशतक शामिल हैं # 4 मार्कस ट्रेस्कोथिक और एलेक्स हेल्स 30f47-1508709752-800 एक दौर में जहां इंग्लैंड एक मध्यम-स्तरीय एकदिवसीय टीम थी, मार्कस ट्रेस्कोथिक क्रमश: शीर्ष क्रम में अपने दमदार शॉट से सुर्खियों में आए । साल 2000 में द ओवल में जिम्बाब्वे के खिलाफ शुरू किए गए बेहतरीन प्रदर्शन को बाएं हाथ वाले इस विस्फोटक बल्लेबाज़ ने लगातार जारी रखा। हालांकि साल 2006 में बीमारी के चलते उन्होंने क्रिकेट को अलविदा कह दिया। 2015 विश्व कप में बांग्लादेश टीम के हाथों एक अपमानजनक हार के बाद इंग्लैंड ने अपनी एकदिवसीय टीम को आक्रामक बल्लेबाजों के साथ लाइनअप तैयार करते हुए, सुधार लाने में कामयाबी हासिल कर ली है। उनमें से सबसे महत्वपूर्ण एलेक्स हेल्स हैं। दाएं हाथ का ये बल्लेबाज खुल कर नई गेंद पर शॉट लगाता है। अगर पिछली पीढ़ी में मार्कस ट्रेस्कोथिक के साथ हेल्स की सलामी जोड़ी रही होती तो शायद इंग्लिश क्रिकेट की कहानी कुछ और होती। सलामी बल्लेबाज के रूप में आंकड़े: मार्कस ट्रेस्कोथिक - 37.37 की औसत से 123 वनडे में 4335 रन और 85.21 की स्ट्राइक रेट, जिसमें 12 शतक और 21 अर्धशतक शामिल हैं एलेक्स हेल्स - 39.04 की औसत से 48 एकदिवसीय मैचों में 1796 रन और 97.44 की स्ट्राइक रेट, जिसमें 5 शतक और 10 अर्धशतक शामिल हैं # 3 नाथन एस्टल और मार्टिन गप्टिल 864aa-1508710207-800 नाथन एस्टल को बल्लेबाज़ी करते हुए देखना एक सुखद अनुभव होता है। एक खतरनाक सलामी बल्लेबाज होने के अलावा, वह एक उपयोगी मध्यम तेज गेंदबाज और एक विश्वसनीय क्षेत्ररक्षक भी साबित हो सकते हैं । इस ऑलराउंडर ने अपने कप्तान स्टीफन फ्लेमिंग के साथ लगातार ओपनिंग की । न्यूजीलैंड के छोटे मैदानों पर या फ्लैट पिचों वाले मैदानों पर मार्टिन गप्टिल के पास विपक्षी गेंदबाजों की गेंदों को मैदान के बाहर भेजने की क्षमता है। हालांकि स्विंग गेंदबाजी के खिलाफ वो थोड़ा कमजोर साबित हुए हैं फिर भी अगर ये जोडी न्यूजीलैंड के लिए सलामी बल्लेबाज की भूमिका निभाती तो कीवी टीम की कहानी कुछ और होती। सलामी बल्लेबाज के रूप में आंकड़े: नाथन एस्टल - 191 मैच में 34.8 9 की औसत से 6176 रन और 72.72 की स्ट्राइक रेट, जिसमें 14 शतक और 37 अर्धशतक शामिल हैं मार्टिन गप्टिल - 45.43 के औसत से 125 एकदिवसीय मैचों में 4907 रन और 88.71 की स्ट्राइक रेट, जिसमें 12 शतक और 27 अर्धशतक शामिल हैं # 2 गॉर्डन ग्रिनीज और क्रिस गेल 0f4c7-1508710709-800 जब गॉर्डन ग्रिनीज पिच पर आते थे, तो विरोधी उनके नाम से ही कांपते थे। डेसमंड हेंस के साथ वो ओपनिंग करते थे और 80 के दशक में गेंदबाजों के लिए सबसे बड़ी चुनौती थे। उनकी बल्लेबाजी ने कई बार वेस्टइंडीज को मैच जिताया। हालांकि 64.65 का उनका स्ट्राइक रेट उन लोगों को काफी निराशाजनक लग सकता है जिन्होंने उन्हें खेलते नहीं देखा है। लेकिन उस समय के हिसाब से ये काफी अहम है। इस सलामी बल्लेबाज ने अपनी टीम को जैसी शुरुआतें दी है, यदि वह हाल के दिनों में होते तो एक अलग कहानी लिख रहे होते। क्रिस गेल की ग्रिनीज़ के साथ एक खतरनाक जोड़ी बन सकती थी। अपने कम से कम फुटवर्क के साथ-साथ बल्लेबाजी के लिए मशहूर जमैका का ये खिलाड़ी जब अपने पूरे फॉर्म में होता है तो एक अलग ही लय में होता है। लंबे-लंबे छक्के मारने की उनकी क्षमता ने आधुनिक युग में उन्हें सबसे लोकप्रिय क्रिकेटर बना दिया है। सलामी बल्लेबाज के रूप में आंकड़े: गॉर्डन ग्रिनीज - 45.39 के औसत से 120 वनडे में4993 रन, 64.65 स्ट्राइक रेट के साथ 11 शतक और 31 अर्धशतक क्रिस गेल - 259 एकदिवसीय मैचों में 39.19 की औसत से 9093 रन, और 86.46 की स्ट्राइक रेट, जिसमें 22 शतक और 47 अर्धशतक शामिल हैं # 1 एडम गिलक्रिस्ट और डेविड वॉर्नर e6947-1508710960-800 एडम गिलक्रिस्ट की मैथ्यू हेडन के साथ सलामी जोड़ी 2000 के दशक के शुरूआती दौर में ऑस्ट्रेलिया के प्रभुत्व का आधार था। टेस्ट के विपरीत जहां वह तेज़ी से आगे नही बढ़े, गिलक्रिस्ट का टीम प्रबंधन द्वारा एकदिवसीय मैचों में एक अलग भूमिका में प्रयोग किया जाता था। गिलक्रिस्ट की बहुमुखी प्रतिभा ने खेल के दोनों प्रमुख प्रारूपों में उनकी टीम को मजबूत किया था। गेंदबाजों के लिए अपेक्षाकृत अनुकूल एक युग के दौरान 98.02 के अपने आश्चर्यजनक स्ट्राइक रेट से वो सभी को हैरत में डाल देते थे। हालाँकि हेडन की क्रीज पर एक शानदार जोड़ी रही थी उनके साथ, लेकिन डेविड वॉर्नर के काफी अच्छे स्ट्राइक रेट से पता चलता है कि वह गिलक्रिस्ट के साथ और अधिक आक्रमण करने वाली सलामी साझेदारी बना सकते थे। अपने पहले 100 वनडे में, बाएं हाथ के बल्लेबाज ने 14 शतक जमाए हैं। आने वाले वर्षों में यह आकड़े बढ़ते हुए ही दिखेंगे। सलामी बल्लेबाज के रूप में आंकड़े: एडम गिलक्रिस्ट - 260 एकदिवसीय मैच में 36.50 की औसत से 9200 रन और 98.02 की स्ट्राइक रेट, जिसमें 16 शतक और 53 अर्धशतक शामिल हैं डेविड वॉर्नर - 44.72 की औसत से 100 वनडे में 4249 रन और 96.24 की स्ट्राइक रेट, जिसमें 14 शतक और 17 अर्धशतक शामिल हैं।

Edited by Staff Editor
Be the first one to comment