Create
Notifications
New User posted their first comment
Advertisement

महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी में 5 महत्वपूर्ण जीत जिन्हें भूला दिया गया

ऋषि
ANALYST
Modified 19 Nov 2017, 09:30 IST
Advertisement

महेंद्र सिंह धोनी वह नाम है जो भारतीय क्रिकेट इतिहास में हमेशा के लिए दर्ज हो गया है। धोनी आईसीसी की तीनों ट्रॉफी (वर्ल्ड टी20, विश्वकप और चैंपियंस ट्रॉफी) जीतने वाले दुनिया के एकमात्र कप्तान हैं। इसके अलावा उनकी ही कप्तानी में भारतीय टीम पहली बार आईसीसी टेस्ट रैंकिंग में पहले स्थान पर पहुंची है।

धोनी ने लगभग 10 सालों तक भारतीय टीम को कमान सम्भाली है। इस दौरान टीम ने 331 मैचों खेले जिसमें 178 जीत (27 टेस्ट, 110 एकदिवसीय और 41 टी20) हासिल हुए है। सबसे ज्यादा मैचों में कप्तानी का रिकॉर्ड भी धोनी के पास ही है। धोनी की कप्तानी में भारत को कई यादगार जीत मिली है, जिसमें 3 आईसीसी ख़िताब, 2014 में लॉर्ड्स पर टेस्ट जीत, 2010 एशिया कप और कई अन्य।

धोनी ने अपनी कप्तानी में कई बड़ी जीत हासिल की है लेकिन कई महत्वपूर्ण जीतों को लोग भूल भी गये हैं। आज हम धोनी की कप्तानी में मिली ऐसी ही 5 जीत के बारे में बात करेंगे जिसे लोग भुला चुके हैं

#5 दूसरा टी20 अंतरराष्ट्रीय बनाम श्रीलंका (मोहाली) 2009

80bc1-1510766245-800

Advertisement

दिसम्बर 2009 तक टी20 क्रिकेट जगह में पांव फैला चुका था। टी20 विश्वकप और आईपीएल के 2-2 संस्करण हो चुके थे और कई अन्य लीग भी जन्म ले चुकी थी।

आईपीएल की वजह से टी20 क्रिकेट का केंद्र बन चुका भारत उस समय क्रिकेट के छोटे प्रारूप में कुछ खास नहीं कर पा रहा था। श्रीलंका के खिलाफ मोहली में होने वाले टी20 मैच से पहले भारतीय टीम उस साल खेले 9 टी20 अंतरराष्ट्रीय मैच में 6 हार झेल चुकी थी।

सीरीज में 1-0 की बढ़त बना चुकी श्रीलंका की टीम टॉस जीतकर बल्लेबाजी करते हुए मोहाली की सपाट पिच पर 206 रन बना दिए। सीरीज के पहले भी मैच में श्रीलंका की टीम ने 200 का आंकड़ा पार किया था।

फील्डिंग में भारतीय टीम का प्रदर्शन काफी निराशाजनक रहा था और टीम ने उस मैच में कुल 6 कैच छोड़े थे। इसके अलावा गेंदबाजों ने 17 वाइड गेंदें भी फेंकी और 7 रन लेग-बाई से मिली जिसकी मदद से अतरिक्त रनों की संख्या 24 हो गयी।

वीरेंदर सहवाग और गौतम गंभीर की सलामी जोड़ी ने टीम को शानदार शुरुआत दी। दोनों ने पॉवरप्ले के 6 ओवरों में 58 रन जुटाए और गम्भीर पॉवरप्ले की अंतिम गेंद पर आउट हो गये। पहला विकेट गिरने के बाद सभी को चौंकते हुए कप्तान धोनी बल्लेबाजी करने आये।

सहवाग ने 36 गेंदों पर 64 रनों की धुआंधार पारी खेली और कप्तान के साथ 50 रनों की साझेदारी निभाकर 11वें ओवर में आउट हो गये।उनके विकेट गिरने पर बल्लेबाजी करने आये बर्थडे बॉय युवराज सिंग ने 25 गेंदों पर 60 रन बनाकर मैच भारत के खाते में डाल दिया। उन्होंने अपनी इस आकर्षक और तेजतर्रार पारी में 3 चौके और 5 छक्के लगाये। भारत ने उस समय के टी20 अंतरराष्ट्रीय मैचों का सबसे बड़ा लक्ष्य हासिल कर सीरीज 1-1 से बराबर कर लिया।

संक्षिप्त स्कोर: भारत 211/4 (सहवाग 64, युवराज 60 नाबाद, धोनी 46, मलिंगा 1/28) ने हराया श्रीलंका 206/7 (संगकारा 59, जयसिंघे 38, युवराज 3/23)

1 / 5 NEXT
Published 19 Nov 2017, 09:30 IST
Advertisement
Fetching more content...
App download animated image Get the free App now
❤️ Favorites Edit