Create
Notifications
New User posted their first comment
Advertisement

प्रथम श्रेणी मैचों में पारी के सभी 10 विकेट लेने वाले 5 भारतीय

Daya Sagar
ANALYST
Modified 13 Nov 2017, 12:57 IST
Advertisement
किसी भी गेंदबाज के लिए पारी के सभी 10 विकेट लेना एक बहुत बड़ी उपलब्धि होती है। किसी भी तरह के क्रिकेट में विरोधी टीम के सभी खिलाड़ियों को आउट करना कतई आसान नहीं होता। इसलिए हाल ही में जब राजस्थान के 15 वर्षीय आकाश चौधरी ने एक स्थानीय मैच में पारी के सभी 10 विकेट लिए, तो उनके इस प्रदर्शन को खूब सराहा गया। वह अचानक से सभी अखबारों और न्यूज पोर्टल्स की सुर्खियों में  छा गए। इस दौरान लगभग सभी लेखों में  जिम लेकर और अनिल कुंबले का भी जिक्र किया गया, जिनके नाम टेस्ट क्रिकेट में पारी के सभी 10 विकेट लेने का रिकॉर्ड दर्ज है। आपको जानकार आश्चर्य होगा कि प्रथम श्रेणी क्रिकेट में यह जादुई कारनामा कुल 80 बार हो चुका है। केंट के गेंदबाज एडमंड हिंकली ऐसा करने वाले पहले गेंदबाज थे। उन्होंने क्रिकेट के मक्का यानी लॉर्ड्स के मैदान पर 1848 में इंग्लैंड एकादश के खिलाफ यह कारनामा किया था। केंट के ही एक अन्य गेंदबाज अल्फ्रेड पर्सी फ्रीमैन ने रिकॉर्ड 3 बार ऐसा किया हैं, वहीं जॉन विस्डन और जिम लेकर सहित 5 गेंदबाज 2 बार ऐसा कर चुके हैं। भारत के भी 5 गेंदबाजों ने प्रथम श्रेणी क्रिकेट में यह कारनामा किया है। वास्तव में अनिल कुंबले प्रथम श्रेणी में एक पारी में 10 विकेट लेने वाले चौथे भारतीय थे। कुंबले से पहले लीजेंड्री स्पिनर सुभाष गुप्ते सहित 3 गेंदबाजों ने ऐसा किया था, जबकि ओडिशा के तेज गेंदबाज देबाशीष मोहंती ऐसा करने वाले अंतिम भारतीय थे। तो आज चर्चा इन्हीं 5 भारतीय गेंदबाजों की, जिन्होंने प्रथम श्रेणी क्रिकेट में एक पारी में सभी 10 विकेट लिए- सुभाष गुप्ते Subhash Gupte   दुनिया के बेहतरीन ऑल राउंडरों में से एक गैरी सोबर्स ने अपनी आत्मकथा में सुभाष गुप्ते को दुनिया का सर्वश्रेष्ठ लेग स्पिनर बताया था। गुप्ते ऐसे गेंदबाज थे जो अतिरिक्त फ्लाइट और स्पिन से बल्लेबाजों को परेशान करते थे। 10 साल और 36 टेस्ट मैचों के अंतरराष्ट्रीय करियर में गुप्ते ने लगभग 29 के औसत से कुल 149 विकेट लिए थे। हालांकि उन्होंने अपने करियर की सबसे बड़ी उपलब्धि 1954 में हासिल की जब उन्होंने राष्ट्रपति एकादश के लिए खेलते हुए पाकिस्तान सर्विसेज और बहावलपुर के संयुक्त एकादश के खिलाफ पारी के सभी 10 विकेट लिए। इस पारी में उन्होंने 10/78 के आंकड़े पेश किए थे। गुप्ते ने 1958-59 में वेस्टइंडीज के खिलाफ टेस्ट मैच में इस कारनामे को लगभग फिर से दोहरा लिया था। कानपुर में वेस्टइडीज के खिलाफ खेले गए दूसरे मैच में उन्होंने 9 विकेट लिए। वह 10वां विकेट भी लेने के करीब थे, लेकिन गुप्ते के गेंद पर वेस्टइंडियन लांस गिब्स का कैच भारतीय विकेटकीपर नरेन तम्हाने ने टपका दिया। यदि तम्हाने ने यह कैच नहीं टपकाया होता तो वे प्रथम श्रेणी के बाद टेस्ट क्रिकेट में भी पारी के सभी 10 विकेट लेने वाले पहले भारतीय होते। प्रथम श्रेणी में पारी में 10 विकेट लेने वाले पहले भारतीय और वेस्टइंडीज के खिलाफ बेहतरीन रिकॉर्ड के लिए उन्हें हमेशा याद किया जाएगा।
1 / 5 NEXT
Published 13 Nov 2017, 12:57 IST
Advertisement
Fetching more content...
App download animated image Get the free App now
❤️ Favorites Edit