Create
Notifications
New User posted their first comment
Advertisement

5 बड़े भारतीय कप्तान और उनकी कप्तानी में टीम को मिली बड़ी हार

Daya Sagar
ANALYST
Modified 22 Oct 2017, 11:52 IST
Advertisement
क्रिकेट में कप्तानी करने के लिए आपको बहुत अधिक धैर्य, आत्मविश्वास और दृढ़ता की जरूरत होती है। एक अरब से अधिक लोगों की उम्मीदों को हमेशा अपने कंधो पर रख के चलना बहुत ही मुश्किल होता है। भारत जैसे क्रिकेट उन्मादी देश में एक सफलता आपको राष्ट्रीय हीरो वहीं असफलता आपको विलेन बना सकती है। हम आज ऐसे ही भारत के 5 बड़े और बेहतरीन कप्तानों की बात करेंगे, जिन्होंने भारतीय फैन्स को जश्न मनाने के कई मौके दिए। लेकिन उनकी एक असफलता उनके कप्तानी करियर के लिए एक धब्बा साबित हुई। कपिल देव औऱ वेस्टइंडीज के हाथों 5-0 की क्लीन स्वीप, 1983 Kapil Dev Clive Lloyd ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ हाल ही में खत्म हुई 5 मैचों की श्रृंखला सहित भारत ने घरेलू मैदान पर कुल 54 द्विपक्षीय एकदिवसीय श्रृंखला खेली है। इसमें से एक बार को छोड़कर कभी भी भारतीय टीम का अपने मैदान में सफाया (व्हाइटवाश) नहीं हुआ। भारत को अपने घरेलू मैदान पर यह हार पहला विश्व कप जिताने वाले कपिल देव की कप्तानी में मिली थी। यह हार 1983 के विश्व कप फाइनल में वेस्टइंडीज को हराने के तुरंत बाद मिली थी। विश्व कप जीत के बाद भारत क्लाइव लॉयड की कप्तानी वाली वेस्टइंडीज टीम की मेजबानी कर रहा था। लेकिन कैरेबियाई खिलाड़ियों ने 5-0 के बड़े अंतर से भारतीय टीम को धूल चटा दी। इस सीरीज में वेस्टइंडीज के सलामी बल्लेबाज गॉर्डन ग्रीनीज ने एक शतक और दो अर्धशतकों की मदद से 88.25 की औसत से 353 रन बनाया और भारतीय गेंदबाजों को जमकर निशाना बनाया। हालांकि अपने देश को पहला विश्व कप दिलाने वाले कपिल देव को भारत के सबसे महान कप्तानों में से एक माना जाता है, लेकिन इस श्रृंखला की हार उनके कप्तानी करियर पर एक बहुत बड़ा धब्बा है।
1 / 5 NEXT
Published 22 Oct 2017, 11:52 IST
Advertisement
Fetching more content...
App download animated image Get the free App now
❤️ Favorites Edit