5 भारतीय बल्लेबाज जिनके लिए वानखेड़े स्टेडियम रहा है भाग्यशाली

ICC World Twenty20 India 2016: Semi-Final: West Indies v India
ICC World Twenty20 India 2016: Semi-Final: West Indies v India

मुंबई का वानखेड़े स्टेडियम भारतीय क्रिकेट टीम के लिए काफी यादगार रहा है। 2011 के विश्व कप फाइनल में कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने इसी मैदान पर विजयी छक्का लगाकर टीम इंडिया को 28 साल बाद वर्ल्ड कप उठाने का मौका दिया। वहीं दूसरी तरफ टेस्ट मैचों के लिए भी ये मैदान काफी मशहूर रहा है। 1975 में यहां भारत और वेस्टइंडीज के बीच पहला टेस्ट मैच खेला गया था, जिसमें वेस्टइंडीज ने बाजी मारी थी। इस मैदान पर कई ऐसे क्रिकेटर हुए हैं जिन्होंने घरेलू मैचों से निकलकर वर्ल्ड क्रिकेट में काफी नाम कमाया।

इंटरनेशनल क्रिकेट में जिन भारतीय क्रिकटरों ने वानखेड़े स्टेडियम में अच्छा रन बनाया है, उन्होंने मुंबई की तरफ से इस मैदान पर काफी रणजी मैच खेले हैं। यहां पर हमने कुछ ऐसे खिलाड़ियों की लिस्ट बनाई है जिन्होंने वानखेड़े में काफी रन बनाए हैं। आइए जानते हैं कि वो 5 भारतीय बल्लेबाज कौन - कौन से हैं जिन्होंने वानखेड़े स्टेडियम में टेस्ट मैचों में सबसे ज्यादा रन बनाए हैं।

5 भारतीय बल्लेबाज जिनके लिए वानखेड़े स्टेडियम रहा है काफी भाग्यशाली

1.सुनील गावस्कर - 56.1 की औसत से 1122 रन

England v India - 2nd Vitality International T20
England v India - 2nd Vitality International T20

सुनील गावस्कर अकेले ऐसे बल्लेबाज हैं जिन्होंने वानखेड़े में 1000 से ज्यादा रन बनाए हैं। 11 मैचों की 20 पारियों में गावस्कर ने कई बेहतरीन पारियां खेली हैं। गावस्कर वानखेड़े स्टेडियम में सबसे ज्यादा पारी खेलने वाले बल्लेबाज हैं। सुनील गावस्कर का वानखेड़े स्टेडियम में सबसे बेस्ट स्कोर 205 रन रहा है जो उन्होंने वेस्टइंडीज के खिलाफ बनाया था। गावस्कर ने उस मैच में 397 मिनट तक 342 गेंदों का सामना किया। गावस्कर ने वानखेड़े में कई बेहतरीन पारियां खेली हैं। उनके नाम पर यहां 5 शतक और 3 अर्धशतक है।

2. सचिन तेंदुलकर - 48.47 की औसत से 921 रन

Bushfire Cricket Bash – Ponting XI v Gilchrist XI
Bushfire Cricket Bash – Ponting XI v Gilchrist XI

भारत के अन्य मैदानों के मुकाबले सचिन तेंदुलकर ने वानखेड़े में काफी अच्छा प्रदर्शन किया। ये सचिन का घरेलू मैदान भी रहा है। हालांकि सचिन इस लिस्ट में दूसरे नंबर पर हैं। उनका कनवर्जन रेट भी इस मैदान पर अच्छा नहीं रहा है। सचिन तेंदुलकर ने यहां सबसे ज्यादा 8 अर्धशतक लगाए हैं लेकिन शतक सिर्फ एक लगा पाये हैं। श्रीलंका के खिलाफ उन्होंने 148 रनों की पारी खेली थी।

11 टेस्ट मैचों की 19 पारियों में सचिन तेंदुलकर इस मैदान में कई बार शतक के करीब पहुंचे लेकिन दुर्भाग्यवश कभी भी शतक लगा नहीं पाए। संयोगवश सचिन जब-जब शतक के करीब पहुंचकर शतक बनाने से चूके तब-तब विपक्षी टीम वेस्टइंडीज थी। वहीं उन्होंने अपना आखिरी टेस्ट मैच भी इसी मैदान पर खेला था। तब भी विपक्षी टीम वेस्टइंडीज ही थी। अपने विदाई मैच में सचिन तेंदुलकर ने 74 रनों की पारी खेली थी।

3. दिलीप वेंगसरकर - 48.53 की औसत से 631 रन

दिलीप वेंगसरकर
दिलीप वेंगसरकर

दिलीप वेंगसरकर ने वानखेड़े स्टेडियम में 10 टेस्ट मैचों की 17 पारियों में 2 शतक और 2 अर्धशतक लगाए हैं। उनके ओवरऑल टेस्ट औसत 42.13 को देखते हुए इतने रन कम नहीं हैं। वानखेड़े में उनका औसत उनके कुल टेस्ट औसत से महज 6 रन ही कम है। वेंगसरकर ने ऑस्ट्रेलिया और वेस्टइंडीज जैसी बेहतरीन टीमों के खिलाफ अपना दोनों शतक लगाया था। मुंबई के लिए रणजी ट्रॉफी खेल चुके वेंगसरकर का वानखेड़े में सर्वाधिक स्कोर 164 रन है।

4. राहुल द्रविड़ - 56.27 की औसत से 619 रन

India v ACT Invitational: Day 1
India v ACT Invitational: Day 1

भारत के सबसे भरोसेमंद बल्लेबाज राहुल द्रविड़ को वानखेड़े में मात्र 7 टेस्ट मैच खेलने का मौका मिला। लेकिन फिर भी उसी 7 टेस्ट मैचों में द्रविड़ ने वानखेड़े में कई बेहतरीन पारियां खेली। उनके नाम इस मैदान पर 13 पारियों में 4 अर्धशतक और एक शतक है। इस मैदान पर द्रविड़ का सर्वाधिक स्कोर 100 रन है। द्रविड़ ने इस मैदान पर 3 बार 80 या उससे ज्यादा रन बनाए हैं, लेकिन हर बार वो शतक से चूक गए।

5. सैय्यद किरमानी - 47.70 की औसत से 477 रन

Syed Kirmani
Syed Kirmani

भारत के मशहूर विकेटकीपर बल्लेबाज सैय्यद किरमानी का प्रदर्शन वानखेड़े में काफी अच्छा रहा है। किरमानी ने अपने क्रिकेट करियर में 88 टेस्ट मैच खेले जिसमें उनका औसत 27 का रहा है । लेकिन वानखेड़े में 9 टेस्ट मैचों में उन्होंने हर बार अपने कुल क्रिकेट औसत से 20 रन ज्यादा बनाए।

किरमानी ने अपने करियर में 2 शतक लगाए और वो दोनों ही शतक इसी मैदान से आए। पहला शतक ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ जिसमें भारतीय टीम ने पारी और 100 रनों से जीत हासिल की और दूसरा शतक इंग्लैंड के खिलाफ जिसे भारतीय टीम ने 10 विकेट से जीता। इंग्लैंड के खिलाफ खेला गया मैच किरमानी और रवि शास्त्री के 7वें विकेट के लिए 235 रनों की साझेदारी के कारण हमेशा याद रखा जाएगा किरमानी ने उस मैच में 142 रन बनाए। जिसकी वजह से भारत 465 का बड़ा स्कोर बनाने में कामयाब रहा।

Quick Links

Edited by सावन गुप्ता