Create
Notifications
Advertisement

IPL: इंडियन प्रीमियर लीग इतिहास की 5 दिलचस्प बातें जो शायद आप नहीं जानते होंगे

  • इन आकंड़ों पर हर किसी की नज़र नहीं जाती
Modified 10 May 2018, 10:15 IST

इस साल आईपीएल अपने 11वें सीज़न में प्रवेश कर गया और ये टूर्नामेंट विश्व के सबसे लोकप्रिय टी-20 लीग बन चुका है। आईपीएल की चकाचौंध और रोमांच ने दुनिया के बाक़ी टूर्नामेंट की चमक फीकी कर दी है। पिछले दशक में कई कांटे की टक्कर, नज़दीकी मुक़ाबले, सुपर ओवर, हैट्रिक, विस्फोटक पारियां और शानदार फ़ील्डिंग देखने को मिली है। कुछ खिलाड़ियों ने चौंकाने वाले प्रदर्शन किए हैं, जेसे युवराज सिंह की 2 हैट्रिक, साल 2009 में रोहित शर्मा की हैट्रिक, साल 2017 में सुनील नारेन की 17 गेंदों में हाफ़ सेंचुरी। साल 2015 में मुंबई इंडियंस की वापसी की कहानी भी दिलचस्प रही है। कई खिलाड़ियों ने ऐसे रिकॉर्ड्स बनाए हैं जो आज भी याद किए जाते हैं।

हांलाकि आईपीएल में कुछ ऐसी भी बातें हैं जो जिसे शायद आप नहीं जानते होंगे, हम ऐसे ही 5 रोमांचक आंकड़े आपसे साझा कर रहे हैं।

 #5 लक्ष्य का पीछा करते हुए किसी टीम ने आईपीएल फ़ाइनल तभी जीता है जब यूसुफ़ पठान उस टीम का हिस्सा रहे हैं


 


 

आईपीएल फ़ाइनल में अक्सर ऐसा देखा गया है कि पहले बल्लेबाज़ी करने वाली टीम मैच जीतती है, ऐसा कारनामा 7 बार हो चुका है। हांलाकि 3 फ़ाइनल मैच ऐसे भी रहे हैं जहां टीम ने लक्ष्य का पीछा करते हुए मैच जीता और इंडियन प्रीमियर लीग का ख़िताब हासिल किया। इन तीनों ही मैचों में जो समान था वह ये कि हर फ़ाइनल मैच में यूसुफ़ पठान विजेता टीम के सदस्य थे।

राजस्थान रॉयल्स की तरफ़ से खेलते हुए साल 2008 के फ़ाइनल में यूसुफ़ पठान ने 22 रन देकर 3 विकेट लिए थे और 56 रन की पारी खेली थे, यही वजह है कि उन्हें मैन ऑफ़ द मैच के ख़िताब से नवाज़ा गया था। साल 2012 में वो केकेआर टीम का हिस्सा थे। फ़ाइनल में कोलकाता ने चेन्नई को मात दी थी, इस मैच में यूसुफ़ ने सिर्फ़ 1 ओवर फेंका था। साल 2014 के फ़ाइनल में कोलकाता नाइट राइडर्स ने पंजाब टीम को हराया था। इस मैच में यूसुफ़ ने मनीष पांडे के साथ मिलकर 71 रन की पारी खेली थी और 200 रन के लक्ष्य को पार कर लिया था।

1 / 5 NEXT
Published 10 May 2018, 10:15 IST
Advertisement
Fetching more content...
Get the free App now
❤️ Favorites Edit