Create
Notifications
New User posted their first comment
Advertisement

5 दिग्गज क्रिकेटर जिनका विदाई मैच काफी भावुक रहा

  • इन क्रिकेटरों ने जब अपना आखिरी मुकाबला खेला तो वो काफी भावुक पल रहा
  • सचिन तेंदुलकर के संन्यास के समय सबकी आंखों में आंसू थे
SENIOR ANALYST
टॉप 5 / टॉप 10
Modified 20 Jun 2020, 13:05 IST
सौरव गांगुली और एम एस धोनी
सौरव गांगुली और एम एस धोनी

क्रिकेट में कई ऐसे खिलाड़ी होते हैं जिन्हें फैंस काफी पसंद करते हैं। लोग इन खिलाड़ियों को हमेशा खेलते हुए देखना चाहते हैं लेकिन एक ना एक दिन इन दिग्गजों को भी संन्यास लेना पड़ता है और जब ये क्रिकेट को अलविदा कहते हैं तो वो पल फैंस और क्रिकेटर्स दोनों के लिए काफी इमोशनल होता है। आज हम बात करें कुछ ऐसे ही खिलाड़ियों के बारे में जिन्होंने काफी भावुक तरीके से अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कहा।

कोई भी खिलाड़ी जब क्रिकेट खेलना शुरु करता है तो उसकी सबसे बड़ी ख्वाहिश यही होती है कि वो एक दिन अपने देश का प्रतिनिधित्व करे। इनमें से कुछ खुशनसीब खिलाड़ियों को ये मौका मिल जाता है लेकिन कुछ प्लेयर्स को ये मौका नहीं मिलता है। वहीं कुछ खिलाड़ी ऐसे भी होते हैं जो सालों तक अपनी टीम का प्रतिनिधित्व करते हैं और इस दौरान पूरी दुनिया में देश का गौरव बढ़ाते हैं। ये खिलाड़ी लोगों के चहेते बन जाते हैं और फैंस इन्हें हमेशा खेलते हुए देखना चाहते हैं लेकिन एक दिन इन दिग्गज प्लेयर्स को भी अलविदा कहना पड़ता है। आज हम उन्हीं कुछ खिलाड़ियों के बारे में बात करेंगे जिन्होंने अपने करियर में कई कीर्तिमान स्थापित किए लेकिन एक दिन उन्हें भी संन्यास लेना पड़ा। वो पल प्लेयर्स समेत फैंस के लिए भी काफी भावुक रहा।

ये भी पढ़ें: टेस्ट क्रिकेट में भारतीय कप्तानों द्वारा खेली गई 5 सबसे बड़ी पारियां

5.सौरव गांगुली

सौरव गांगुली
सौरव गांगुली

सौरव गांगुली वो कप्तान थे जिन्होंने भारतीय टीम की दशा और दिशा ही बदल दी। मैच फिक्सिंग के जाल में उलझी भारतीय टीम को गांगुली ने निडर होकर खेलना सिखाया और विदेशों में जीत की राह दिखाई। इसके बावजूद इतने बड़े कप्तान की क्रिकेट से विदाई काफी निराशानजनक रही। ग्रेग चैपल के साथ हुए विवाद के बाद लगा कि वो वापसी नहीं कर पाएंगे लेकिन इसके बावजूद उन्होंने कमबैक किया।

6 नवंबर को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ नागपुर में उन्होंने एम एस धोनी की कप्तानी में अपना आखिरी टेस्ट मुकाबला खेला। उस वक्त गांगुली के सम्मान में धोनी ने उनको आखिर के कुछ ओवरों में कप्तानी करने के लिए कहा और गांगुली ने भी उसका पूरा मान रखा। सौरव गांगुली ने अपने आखिरी मुकाबले में 85 रन बनाए और भारत ने ऑस्ट्रेलिया से वो मैच 172 रनों से जीता। मैच के बाद पूरी टीम ने अपने फेवरिट कप्तान को कंधों पर बैठा लिया और उस सम्मान के साथ उनको विदाई दी, जो सम्मान गांगुली ने भारतीय टीम को इतने सालों तक दिलाया था।

1 / 5 NEXT
Published 20 Jun 2020, 13:05 IST
Advertisement
Fetching more content...
Get the free App now
❤️ Favorites Edit