Create
Notifications

जीवन से जुड़ी 5 बातें सचिन तेंदुलकर से सीखी जा सकती है

Rahul Pandey
visit

महान खिलाड़ियों के जीवन से कभी-कभी उनके खेलों से परे बहुत सी चीज़ें सीखने को मिलती हैं। ऐसी ही कतार में पूर्व भारतीय बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर निश्चित रूप से एक उदाहरण के तौर पर शामिल होंगे और न सिर्फ उनका करियर क्रिकेट के पाठों को पढ़ता है, बल्कि जीवन भी कुछ बेहतरीन सबक देता है।

तेंदुलकर एक किशोर होने के समय से ही जनता की आँखों में रहे हैं इसलिए उनके जीवन से सबक भी कई हैं। हालांकि यहाँ हम केवल 5 सबसे महत्वपूर्ण सबक आपके सामने ले आये हैं जो कि सचिन तेंदुलकर के जीवन से हमें सीखने को मिलते है:


# 5 प्रतिकूल परिस्थितियों में साहस......

62001-1509661879-800

एक क्रिकेटर के लिये दुनिया भर की तमाम प्रतिभाओं का होना एक अलग बात है, लेकिन साहस, विशेष रूप से प्रतिकूल परिस्थितियों में, सबसे महत्वपूर्ण घटक है, जो उन्हें खेल के शिखर तक पहुँचाता है और तेंदुलकर ने अपने पहले अंतर्राष्ट्रीय दौरे के दौरान इस खूबी को दिखाया। पाकिस्तान का दौरा किसी भी भारतीय क्रिकेटर के लिए अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट का सबसे मुश्किल दौरा होता है, और जब क्रिकेटर केवल 16 वर्ष का हो तब तो यह और भी होगा।

हालांकि, तेंदुलकर ने अपने उल्लेखनीय करियर की शुरुआत ऐसे साहस के प्रदर्शन के साथ की जो क्रिकेट में बहुत कम ही देखा जाता है। अपनी गति से भरी गेंदबाज़ों की फौज के लिये पाकिस्तान हमेशा जाना गया है और उस समय मैदान पर सचिन का समय भी अच्छा नही बीत रहा था, क्योंकि वकार यूनिस की तेज गति से आई एक गेंद नाक पर जा लगी थी, वो भी तब जब भारत चौथे टेस्ट को बचाने की कोशिश कर रहा था। उस समय मैदान छोड़ने की बजाये, उन्होंने अपनी चोटिल नाक के साथ साहस भरा प्रदर्शन करते हुए भारत को मैच ड्रा कराने में मदद की।

इस तरह की प्रतिकूल परिस्थितियों में इस तरह के साहस से भरपूर प्रदर्शन से पता चलता है कि तेंदुलकर ने अपने कैरियर में बहुत जल्द साहस के साथ टिके रहना सीख लिया था।# 4 त्याग

0bcd3-1509661968-800

जो खिलाड़ी हम टेलीविजन स्क्रीन पर निरंतर देखते है, उनके प्रशिक्षण में घंटों की कड़ी मेहनत का योगदान होता है। यह सब प्राकृतिक उपहार नहीं है जो उन्हे जन्म से से मिले हों और ऐसे में खिलाड़ियों को अक्सर शिखर पर पहुँचने के लिये त्याग की जरुरत पड़ती ही है।

एक बल्लेबाज के रूप में तेंदुलकर के कौशल जब वह छोटे थे, लेकिन जब वह उच्च गुणवत्ता वाली क्रिकेट टीम से जुड़ने के लिए शारदाश्रम स्कूल गये, तो स्कूल के लिये उन्हें घर छोड़ना पड़ा और चाची के साथ रहना पड़ा। यह जानना काफी अविश्वसनीय है कि, एक बच्चे के रूप में, वह अपने माता-पिता के साथ नहीं रहे थे और अपने रिश्तेदारों के साथ रहे जिससे की एक क्रिकेटर बनने के अपने सपने को साकार कर सकें, साथ ही उनके माता-पिता को भी श्रेय देना होगा जिन्होंने सपनों का पीछा करने में उनकी मदद की।# 3 तैयारी सबसे जरुरी है

74ba0-1509662078-800

पूरी दुनिया में, ऐसे खिलाड़ी हैं जो अपने संबंधित खेलों में विशेषज्ञ होते हैं, लेकिन तैयारी की कमी ने अक्सर उनको गिरते हुए देखा है और उन लोगों के एक महान खिलाड़ी से केवल अच्छे तक सीमित रहते देखा। इतने सालों तक दुनिया के सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाजों में से एक होने के बावजूद, तेंदुलकर ने किसी भी तरह की अभिमान नहीं दिखाया, जब भी वह किसी श्रृंखला के लिए गये पूरी तैयारी के साथ उतरे और यही वजह थी की वह अभ्यास के लिए आदर्श परिस्थितियों को बनाने के लिए अपरंपरागत तरीकों का प्रयोग करने के लिए प्रसिद्ध थे।

उदाहरण के लिए, ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ श्रृंखला से पहले, उन्होंने अभ्यास पिच को खुरदरा कर लिया और पूर्व भारतीय लेग स्पिनर एल. शिवरामकृष्णन को उस क्षेत्र में गेंद डालने को कहा। उन्होंने यह सुनिश्चित करने के लिए किया कि जब वह भारत की टर्निंग पिच पर ऑस्ट्रेलिया के लेग स्पिनर शेन वॉर्न का सामना कर रहे हों, तब वह पूरी तरह से नियंत्रण में हों। जब उन्होंने उनका सामना किया, तो उन्होंने श्रृंखला में वार्न पर दबदबा बनाये रखा और संभवत: उस श्रृंखला से पहले उनकी तैयारी शायद इसकी बड़ी कारक थी।# 2 समय के साथ बदलाव

c03cb-1509662178-800

जब एक दशक से अधिक समय के लिए खेल की शैली सफल होती है, तो खिलाड़ियों के उसे बदलने और पूरी तरह से अलग तरह के खेल को अपनाने की संभावना नहीं है। हालांकि, तेंदुलकर ने करीब 12 वर्षों के लिए आक्रमक खिलाड़ी होने के बाद बल्लेबाजी की अपनी शैली को बदल दिया था जब उन्हें पीठ की एक चोट के कारण बदलाव करना पड़ा था, यह वो समय था जब 1999 में उनका करियर इसके चलते खत्म होने वाला था।

तेंदुलकर एक बहुत ही भारी बल्ले से बल्लेबाजी करते थे लेकिन विशेषज्ञ की सलाह मानकर उन्होंने हल्के बल्ले से बल्लेबाजी शुरू कर दी। जब उन्होंने ऐसा किया तो वह सिर्फ बल्ले में नही बल्कि बतौर एक खिलाड़ी भी बदलाव था, जिसने शायद उन्हें एक स्ट्रोक खेलने वाले से ज्यादा एक ऐसे बल्लेबाज में बदल दिया जिसे आउट करना बेहद मुश्किल हो गया और शायद यह उनके करियर का एक नया जीवन साबित हुआ।

विशेषज्ञ की सलाह ध्यान में रखते हुए और अपने दृष्टिकोण में बदलाव लाना हर किसी के लिये जरुरी होता है।# 1 मजबूत वापसी करने की क्षमता

a4486-1509662262-800

एक ऐसा खिलाड़ी, जो इतने लंबे समय तक खेलता रहा हो, हमेशा विफलता के बाद फिर से लौटना पड़ता है। हालांकि, यह तब और कठिन हो जाता है जब उसका कैरियर अपने अंत की और हो, यही कारण है कि, 2006 और 2007 के बीच की अवधि के बीच ख़राब समय के बाद तेंदुलकर की उल्लेखनीय वापसी, उनके करियर से प्राप्त होने वाली जीवन की महान सीखों में से एक है।

टेनिस एल्बो से पीड़ित होने के बाद, उनका कैरियर समाप्ति की ओर था, लेकिन इससे लड़ने और भारतीय टीम में वापस आये। मगर वापसी के बाद, उनका ख़राब फार्म से पीछा नही छुटा। इस दौरान, 'एंडुल्लर' जैसी शीर्षकों वाली खबरों के दौर से निराश हुए, लेकिन आखिरकार उन्होंने 2007 से अपने कैरियर के अंत 2013 तक कई शतक जमाए। इसके अलावा, उन्होंने भारत के विजयी 2011 विश्व कप अभियान में दो शतक बनाए और वह उस टीम के एक महत्वपूर्ण सदस्य थे, जो धोनी की कप्तानी में टेस्ट में विश्व नंबर 1 बनी।

उनकी वापसी शानदार रही और यह तथ्य कि उन्होंने अपने करियर के सबसे ख़राब दौर पर निराशा में नहीं उम्मीद को नही छोड़ा, अपने आप में एक सबक है।

Edited by Staff Editor
Article image

Go to article
Fetching more content...
App download animated image Get the free App now