COOKIE CONSENT
Create
Notifications
Favorites Edit
Advertisement

टेस्ट क्रिकेट इतिहास में भारत के ख़िलाफ़ खेली गईं 5 सबसे लंबी पारियां

43   //    10 Jul 2018, 06:45 IST

टेस्ट क्रिकेट सही मायनों में भद्र-पुरुषों का खेल है जिसमें खिलाड़ियों के स्वभाव, रवैया, गुणवत्ता और धीरज का कड़ा परीक्षण होता है। केवल लगातार बेहतरीन प्रदर्शन करने वाले खिलाड़ी ही खेल के सबसे लंबे प्रारूप में महान खिलाड़ी बन सकते हैं।

पांच दिवसीय इस प्रारूप में खिलाड़ियों को लंबे समय तक कड़ी धूप में गेंदबाज़ी या क्षेत्ररक्षण करना पड़ता है वहीं बल्लेबाजों को भी समान रूप से इस परीक्षा से गुज़रना पड़ता है। इसके अलावा बल्लेबाज़ों को अपनी एकाग्रता और फिटनेस बनाए रखनी पड़ती है।

क्रीज पर लंबे समय तक टिके रहना आसान काम नहीं है और बहुत कम खिलाड़ी ही टेस्ट क्रिकेट इतिहास में अपनी पारी में 500 से ज़्यादा गेंदें खेल पाए हैं। भारतीय क्रिकेट टीम भी कुछ मौकों पर टेस्ट में संघर्ष करती दिखी है जब विपक्षी बल्लेबाजों ने उन्हें घंटों तक मैदान में क्षेत्ररक्षण को मजबूर किया है।

तो आइए टेस्ट इतिहास में भारत के खिलाफ खेली गईं पांच सबसे लंबी पारियों पर एक नज़र डालें:

#5 एलेस्टेयर कुक - 545 गेंदें, तीसरा टेस्ट, बर्मिंघम, भारत का इंग्लैंड का दौरा, 10-13 अगस्त, 2011




 

एलेस्टेयर कुक क्रिकेट इतिहास में इंग्लैंड के सबसे महान टेस्ट बल्लेबाजों में से एक हैं, हालांकि पिछले कुछ समय से उनके प्रदर्शन में गिरावट आयी है लेकिन एक बढ़िया कप्तान के साथ साथ सलामी बल्लेबाज़ के रूप में उनका प्रदर्शन अनुकरणीय रहा है। सलामी बल्लेबाज़ के तौर पर उन्होंने कई रिकॉर्ड भी कायम किये हैं।

2011 में भारत का इंग्लैंड दौरा एमएस धोनी की टीम लिया बहुत बुरा साबित हुआ था। उस टेस्ट सीरीज़ में मेज़बान टीम ने भारत को 4-0 से क्लीन स्वीप किया था। उसके बाद टी-20 और वनडे सीरीज़ में भी इंग्लैंड ने भारत को बड़े अंतर से हराया। सबसे खास बात यह रही कि भारत ने उस दौरे में एक भी मैच नहीं जीता था।

लेकिन टेस्ट सीरीज़ में कई रिकॉर्ड बने जहां मेजबानों ने मेहमान टीम को कभी भी चैन की साँस नहीं लेने दी। बर्मिंघम में हुए तीसरे टेस्ट के दौरान, एलेस्टेयर कुक ने 545 गेंदें खेलते हुए अपनी सर्वश्रेष्ठ पारी खेली और शानदार 294 रन बनाए, जो कि टेस्ट करियर में उनका सर्वोत्तम स्कोर है।

कुक ने मैदान में अपनी पारी के दौरान 773 मिनट बिताए और 33 चौके लगाकर इंग्लैंड की पहली पारी में स्कोर 700 के पार पहुंचाया। उस समय इंग्लैंड के कप्तान एंड्रयू स्ट्रॉस ने कुक के 294 रनों पर आउट होते ही 710 के कुल स्कोर पर पारी घोषित कर दी। एलेस्टेयर कुक को तेज़ गेंदबाज़ ईशांत शर्मा ने आउट किया था।

पहली पारी में 224 रनों के मामूली स्कोर पर आउट होने वाले भारतीय टीम ने अपनी दूसरी पारी में भी सिर्फ 244 रन बनाए और इंग्लैंड ने एक पारी और 242 रनों से यह मैच जीत लिया।

और जैसी की उम्मीद थी, एलेस्टेयर कुक को उनके सर्वोत्तम स्कोर के लिए 'मैन ऑफ द मैच' से नवाज़ा गया।
1 / 5 NEXT
Advertisement
Fetching more content...