Create
Notifications
New User posted their first comment
Advertisement

टेस्ट में इन 5 निचले क्रम के बल्लेबाजों की तारीफ होनी चाहिए

Modified 02 Nov 2016, 17:33 IST
Advertisement
क्रिकेट ऐसा खेल है, जो अनिश्चिताओं से भरा हुआ माना जाता है। इसमें खेल हमेशा खुला हुआ होता है। जो किसी भी वक्त कोई भी करवट ले सकता है। इसलिए हर एक खिलाड़ी को अपनी भूमिका से न्याय करने की जरूरत होती है। कई बार मूलत: गेंदबाज़ को टीम की जरूरत के हिसाब से बल्लेबाज़ी करके दिखानी होती है। हालाँकि तकरीबन सभी टीमों में नम्बर 8 से लेकर 11 तक जो बल्लेबाज़ी होती है। वह टीम के गेंदबाजों के कंधों पर होती है। लेकिन विश्व क्रिकेट के इतिहास में कई बार ऐसे मौके आये हैं, जब निचले क्रम के बल्लेबाजों ने भी कमाल का खेल दिखाया है। उनकी बल्लेबाज़ी टीम के लिए बोनस साबित हुई है। ऐसे में नम्बर 8 के बाद के बल्लेबाजों में क्या खासियत होनी चाहिए? ज्यादातर मौके ऐसे होते हैं कि एक विशुद्ध बल्लेबाज़ मैदान पर होता है और उसे दूसरे छोर से अच्छे सहयोग की जरूरत होती है। इसलिए निचले क्रम के बल्लेबाज़ में स्ट्राइक रोटेट करने की क्षमता होनी चाहिए। जिससे टीम आसानी से 50-75 रन जोड़ सकती है। आइये हम आपको ऐसे ही 5 निचले क्रम के बल्लेबाजों के बारे में बता रहे हैं, जिन्होंने अपनी बल्लेबाज़ी से इतिहास रचा है: #1 इस क्रम पर खेलने वाले बल्लेबाज़ के नाम कम से कम एक हजार रन दर्ज होने चाहिए। मैट क्रेग ने 36.81 के औसत से 589 रन बनाये हैं। जबकि जेसन होल्डर ने 33.35 के औसत से 567 रन बनाये हैं। #2 टेस्ट मैचों कम से कम आउट होने वाले और ज्यादा से ज्यादा गेंदों का सामना करने वाले बल्लेबाज़ को सही माना जाता है। हमने इस लिस्ट को बनाने के लिए इसका ध्यान दिया है। ऐसे बल्लेबाज़ जिन्होंने 2 हजार के करीब गेंदों का सामना किया है। #3 अर्धशतक और शतक लगाने वाले गेंदबाज़ को हमने तरजीह दी है। #4 हम इसमें जेन्युइन बल्लेबाज़ जैसे नाईटवाचमैन की वजह से निचले क्रम पर खेलने वाले विशेषज्ञ बल्लेबाजों जैसे मार्क बाउचर को भी शामिल नहीं कर रहे हैं। #5
Advertisement
शेन वार्न ने 8वें क्रम पर खेलते हुए 17.79 के औसत से 3008 रन बनाये हैं। इसके अलावा कई ऐसे खिलाड़ी हैं, जिनका औसत 20 से ज्यादा रहा है। जैसे कपिल देव, उनका औसत 32.78 का था और उन्होंने 1967 रन बनाये थे। ये रही लिस्ट: शॉन पोलक शॉन पोलक बिना किसी शक के क्रिकेट के बेहतरीन खिलाड़ियों में से एक थे। जिन्होंने मैच फिक्सिंग के दंश से उबारते हुए दक्षिण अफ़्रीकी टीम को नई पहचान दी थी। वह टीम के मुख्य गेंदबाज़ हुआ करते थे। लेकिन बल्लेबाज़ी में भी उन्होंने 99 पारियों में 2330 रन बनाये थे। जो 8वें क्रम पर आकर ही बनाये थे। उनका औसत तकरीबन 33 का था। उनसे अच्छा औसत उनकी टीम में मार्क बाउचर से कम था। जो कभी कभार 8वें क्रम पर खेलते थे। हालाँकि वह टीम के विकेटकीपर थे। उनके नाम 2 शतक और 7 अर्धशतक दर्ज है। साथ ही वह 4 बार जीरो पर आउट हुए थे। पोलक ने 4454 गेंदों का सामना करते हुए 52.31 के करीब के स्ट्राइक रेट से रन बनाये थे। वह 8वें क्रम पर ज्यादातर दक्षिण अफ्रीका में ही अच्छा खेले थे।
1 / 5 NEXT
Published 02 Nov 2016, 17:33 IST
Advertisement
Fetching more content...
App download animated image Get the free App now
❤️ Favorites Edit