आईपीएल 2016: फ़ाइनल के 5 यादगार पल

सनराइजर्स हैदराबाद की आईपीएल 9 में ख़िताबी जीत के साथ इस सीजन का अंत हुआ। इस मैच के साथ यह बहस भी शुरू हो गयी कि क्या रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर आईपीएल में वैसे ही है जैसे साउथ अफ्रीका इंटरनेशनल क्रिकेट में। यह दूसरा मौका हैं जब आरसीबी आईपीएल फ़ाइनल जीतने के करीब पहुंची पर जीत नहीं पाई। तारीफ तो सनराइजर्स की ही होनी चाहिए, खासकर जिस तरह उन्होंने पारी के अंतिम ओवरों में अच्छा खेल दिखाया। एक समय क्रिस गेल आरसीबी को एक आसान जीत की तरफ ले जा रहे थे, लेकिन एसआरएच ने अहम समय में विकेट लेकर उन्हें हार की तरफ धकेला। इस मैच में 5 ऐसे पल थे जो कभी भुलाए नहीं जाए जा सकते। 1- डेविड वॉर्नर की कप्तानी पारी david-warner-1464581206-800 अगर यह कोई और आईपीएल होता तो निश्चित ही वॉर्नर ऑरेंज कैप ले जाते, लेकिन इस साल का आईपीएल पूरी तरीके से विराट कोहली के नाम ही रहा। फिर भी वॉर्नर को ज्यादा खुशी टीम को ट्रॉफी जीताने में मिली होगी। विराट कोहली ने इस साल 4 शतक लगाए और पूरे टूर्नामेंट में अपनी छाप छोड़ी। वॉर्नर ने भी इस साल 5 बार 90 प्लस स्कोर किया, जो खुद में ही कमाल हैं। फ़ाइनल में एक बार फिर उनका बल्ला चला और 38 गेंदो में ताबड़तोड़ 69 रन बनाए और टीम को अच्छे स्कोर की तरफ ले गए। 2 बेन कटिंग का ऑलराउंड खेल ben-cutting-1464581237-800 इस साल बिग बैश में खराब प्रदर्शन के बावजूद कप्तान वॉर्नर के भरोसे के चलते टीम में आए कटिंग नें अपने कप्तान को निराश नहीं किया और फ़ाइनल में शानदार प्रदर्शन किया। एक समय एसआरएच लगातार अंतराल पर विकेट गंवा रही थी, तभी कटिंग ने सिर्फ 15 गेंदों पर ताबड़तोड़ 39 रन बनाए। जब वो बल्लेबाज़ी करने आए है तो टीम का स्कोर 147 रन था और सिर्फ 4 ओवर्स बाकी थे। अंत में उनकी ताबड़तोड़ बल्लेबाज़ी करकर टीम का स्कोर 208 तक पहुंचाया। उनकी पारी का यादगार पल था उनका 117 मिटर का छक्का। गेंद के साथ भी कटिंग ने 4 ओवर्स में 35 रन देकर 2 विकटे लिए। 3 क्रिस गेल की तूफानी पारी chris-gayle-1464581266-800 क्रिस गेल के बारे में एक चीज़ कहीं जाती है की वो कभी फ़ाइनल में उनका बल्ला नहीं चलता। उन्होंने कई बार अपनी टीम को अपनी पारी से टीम को आसानी से जीत दिलाई हैं, पर वो पारी कभी भी फ़ाइनल में नहीं आई। कल रात उनकी पारी एक अचंभा ही थी। उनकी और विराट कोहली की बेहतरीन साझेदारी की बदौलत मात्र 9 ओवर्स में टीम का स्कोर 100 के पार ले गए। उस पारी में उन्होने गेंदबाजों पर कोई दया नहीं दिखाई। कटिंग के विरुद्ध आउट होने से पहले गेल ने 38 गेंदो पर 76 रन बनाए। 4 विराट कोहली का पचासा virat-kohli-1464581290-800 जिस फॉर्म में विराट कोहली थे, वो टीम को आईपीएल जीताना चाह रहें होंगे पर ऐसा ना हो पाया। गुजरात के खिलाफ मिली विफलता के बाद उनसे फ़ाइनल में अच्छे प्रदर्शन की उम्मीद सबको थी। 209 रन का विशाल स्कोर का पीछा करने उतरे, विराट ने धीमे धीमे अपनी पैर जमाना शुरू किया और दूसरे छोर पर गेल अकेले ही गेंदबाजो की धुनाई कर रहें थे। मैच शुरू होने से पहले विराट का स्कोर 919 रन था और सबको उनके बल्ले से हज़ार रन की उम्मीद थी, पर ऐसा ना हो पाया। वो हज़ार रन बनाने के करीब भी आए, उन्होने 35 बॉल पर 54 रन बनाए। उन्हें सरन ने क्लीन बोल्ड किया। वो मैच को टर्निंग पॉइंट भी रहा, उनके आउट होते ही वॉटसन और डिवीलिरर्स भी सस्ते में आउट हो गए। 5- भुवी की कलात्मक गेंदबाजी bhuvneshwar-kumar-1464581327-800 इस साल के आईपीएल के अंत में सबसे अच्छी बात यह रही कि जिस टीम के पास सबसे अच्छी गेंदबाजी थी उसी ने खिताब अपना नाम किया। आज कल के बच्चों को क्रिकेट देखकर यही लगता है कि बल्लेबाज़ बनने में ही फायेदा है, गेंदबाज काफी कम लोग बनना चाहते हैं। अच्छी बल्लेबाज़ी आपको मैच जीताती हैं और अच्छी गेंदबाजी आपको टूर्नामेंट। भुवि ने पूरे टूर्नामेंट में काफी अच्छी गेंदबाजी की और 23 विकटो के साथ वो पर्पल कैप होल्डर भी रहे। कल रात भी जिस तरह आरसीबी की खिलाफ अंत में जब वो गेंद करने आए है जब उन्हें 5 ओवर्स में 51 रन चाहिए थे और उन्होने 3 में से 2 ओवर्स डाले। उन्होने अंतिम दो ओवर्स में सिर्फ 16 रन दिये और उनकी एकोनोमिकल स्पैल के चक्कर में एसआरएच फ़ाइनल मैच जीत पाया।

Edited by Staff Editor