Create
Notifications
New User posted their first comment
Advertisement

क्रिकेट इतिहास के 5 ऐसे मौके जब खिलाड़ियों ने अपनी ख़ुदगर्ज़ी को दरकिनार किया हो

Modified 22 Nov 2017, 15:50 IST
Advertisement

  किसी भी टीम की सबसे बड़ी ख़ासियत ये होती है कि एक खिलाड़ी अपने लिए न खेलकर पूरी टीम के लिए खेले। ये नियम हर तरह के टीम स्पोर्ट्स के लिए लागू होता है और क्रिकेट इससे अछूता नहीं है। क्रिकेट की एक टीम 11 खिलाड़ियों से तैयार होती है, अगर एक भी खिलाड़ी टीम से पहले ख़ुद के बारे में सोचने लगे तो उसका असर पूरी टीम पर पड़ता है। चूंकि खिलाड़ी भी एक इंसान होते हैं तो कई बार ऐसा भी देखा गया है कि कई खिलाड़ी स्वार्थी होकर खेले हैं। ऐसा फुटबॉल और क्रिकेट में कई बार देखने को मिलता है क्योंकि कई खिलाड़ी टीम की जीत के लिए न खेलकर सिर्फ़ अपने रिकॉर्ड के लिए खेलते हैं। क्रिकेट इतिहास में कई बार खिलाड़ियों ने स्वार्थी कदम उठाए हैं जिसमें एक से बढ़कर एक दिग्गजों के नाम शामिल हैं। ऐसे ख़ुदगर्ज़ माहौल में कुछ खेल ऐसे भी देखने को मिले हैं जब किसी खिलाड़ी ने अपनी ख़ुदगर्ज़ी को दरकिनार करते हुए अपनी टीम या अपनी टीम के किसी खिलाड़ी का फ़ायदा देखा हो। हम यहां ऐसे ही 5 लम्हों के बारे में बता रहे हैं जब खिलाड़ियों ने अपने स्वार्थ को पीछे छोड़ दिया।   #5 जब गौतम गंभीर ने अपना मैन ऑफ़ द मैच अवॉर्ड विराट कोहली को समर्पित किया GAMBHIR-KOHLI कई बार मीडिया में गौतम गंभीर और विराट कोहली को दुश्मन की तरह पेश किया गया है, कई ऐसी तस्वीरें वायरल हुईं हैं जिसमें दोनों खिलाड़ी बहस करते दिखाई दे रहे हैं। एक बार आईपीएल मैच के दौरान जब रॉयल चैलेंजरर्स बैंगलोर का मुक़ाबला कोलकाता नाइटराइडर्स से हो रहा था तो दोनों के बीच कुछ कहासुनी हुई थी। लेकिन सच्चाई ये है कि मैदान के बाहर दोनों एक अच्छे दोस्त हैं। एक लम्हा ऐसा भी आया जो ये साबित करता है कि कोहली और गंभीर के बीच दोस्ती का रिश्ता कितना गहरा है। साल 2009 में जब भारत का वनडे मुकाबला कोलकाता के ईडन गार्डेन में श्रीलंका के ख़िलाफ़ था, तो गौतम गंभीर ने अपना मैन ऑफ़ द मैच विराट कोहली दे दिया था। इस मैच में भारत को जीत के लिए 315 रन का लक्ष्य मिला था, ये एक ऐसा स्कोर था जिसको इस मैदान में दूसरी पारी में कभी किसी टीम ने पार नहीं किया था। ऐसे में टीम के संकटमोचक बने थे गंभीर और कोहली, दोनों खिलाड़ियों ने तीसरे विकेट के लिए 224 रन की साझेदारी की। गंभीर ने नाबाद 150 रन बनाए जबकि कोहली 107 रन पर आउट हुए, ये कोहली का पहला वनडे शतक था। गंभीर को मैन ऑफ द मैच घोषित किया गया लेकिन भारतीय कप्तान ने रवि शास्त्री से कोहली को अवॉर्ड दिए जाने की गुज़ारिश की क्योंकि भारत की जीत में कोहली का योगदान अहम था।

1 / 5 NEXT
Published 22 Nov 2017, 15:50 IST
Advertisement
Fetching more content...
App download animated image Get the free App now
❤️ Favorites Edit