Create
Notifications
Favorites Edit
Advertisement

क्रिकेटरों द्वारा लिखी गई 5 सर्वश्रेष्ठ आत्मकथाओं पर एक नज़र

19 Jun 2018, 10:45 IST
एक क्रिकेट प्रशंसक के लिए क्रिकेट से अधिक, जिज्ञासा इस बात पर होती है कि उनके पसंदीदा खिलाड़ी कैसे अपना जीवन जीते हैं। प्रत्येक प्रशंसक अपने पसंदीदा खिलाड़ी और उसके व्यक्तिगत जीवन के बारे में अधिक से अधिक जानना चाहता है।

एक क्रिकेटर की आत्मकथा प्रशंसकों के लिए इस लिए अच्छी होगी ताकि प्रत्येक प्रशंसक अपने पसंदीदा क्रिकेटर के साथ एक भावनात्मक संबंध स्थापित कर सकें। इसके अलावा उन्हें अपने पसंदीदा खिलाड़ियों को नज़दीक से जानकर ख़ुशी होगी। मैथ्यू हेडन ने अपनी आत्मकथा में अपने संघर्ष की कहानी बताकर कई लोगों को प्रेरित किया है, तो वहीं केविन पीटरसन ने इंग्लिश ड्रेसिंग रूम के पीछे के कई रहस्यों को उजागर कर क्रिकेट की दुनिया में हलचल मचा दी।

इन पुस्तकों ने कई लोगों के दृष्टिकोण बदल दिए हैं और प्रशंसकों को क्रिकेट के अलावा अपने पसंदीदा खिलाड़ियों के निजी जीवन को जानने का एक मौका दिया है।

हम जानने के लिए उत्सुक हैं कि सचिन तेंदुलकर कैसे महान सचिन तेंदुलकर बन गए। भारत में कई कारणों से क्रिकेट खिलाड़ियों को हीरो मान लिया जाता है और उनके बारे में और अधिक जानने की जिज्ञासा स्वाभाविक है। क्रिकेट प्रशंसकों को अपने पसंदीदा खिलाड़ी के बारे में सुनना अच्छा लगता है और उनके क्रिकेट करियर की शुरुआत और फिर कड़ा संघर्ष कर इस मुकाम तक पहुंचना सचमुच उनके लिए प्रेरणादायक होता है। वर्तमान समय में सोशल मीडिया के आगमन के बाद, ये प्रशंसक अपने पसंदीदा खिलाड़ियों के वीडियो, फोटो आदि को शेयर करना और टैग करना नहीं भूलते हैं।

एम एस धोनी के अपनी बेटी जीवा के साथ वीडियो या विराट कोहली के सोशल मीडिया पर शेयर किये गए वीडियो, इन सबको प्रशंसकों की तरफ से खूब देखा गया और शेयर किया गया जो यह साबित करता है कि हम अपने क्रिकटरों के निजी जीवन के बारे में और अधिक जानना चाहते हैं। कुछ खिलाड़ी अपने जीवन पर आत्मकथाएं लिखते हैं जबकि अन्य अपने क्रिकेट जीवन के दौरान हुई विभिन्न घटनाओं और घोटालों के बारे में पाठकों को अवगत करवाते हैं। फिक्सिंग घोटाले में विवादास्पद 'मोंकीगेट' घटना हो या अज़हरुद्दीन का इसमें नाम आना। हम इन घटनाओं के बारे में जानने के लिए उत्सुक रहते हैं।

तो आइये आज हम इस लेख में 5 सर्वश्रेष्ठ क्रिकेटरों की आत्मकथाओं पर एक नज़र डालें:

सुनील गावस्कर द्वारा लिखी 'सनी डेज़'




 

महान बल्लेबाज़ सुनील गावस्कर ने टेस्ट क्रिकेट में बहुत ख्याति अर्जित की है और निश्चित रूप से वह सम्मान के हकदार हैं। वेस्टइंडीज के तेज़ गेंदबाज़ी आक्रमण के सामने उन्होंने बड़ी ही निडरता से बल्लेबाज़ी करते हुए 65.45 के शानदार औसत से रन बनाए हैं। सुनील गावस्कर आज भी सबसे लोकप्रिय क्रिकेटरों में से एक हैं। वह हंसमुख और मजाकिया हैं और मैच के दौरान उनकी क्रिकेट कमेंट्री किसी संगीत की तरह कानों में रस घोलती प्रतीत होती है।

मछुआरों के परिवार में पैदा होने वाले वाले गावस्कर की महान क्रिकेटर बनने की कहानी सभी क्रिकेट प्रशंसकों के लिए प्रेरणास्रोत है।अपनी आत्मकथा 'सनी डेज़' में, उन्होंने पूरी सच्चाई से यह बात बताई है कि कैसे एक गरीब मछुआरे का बेटा अपने संघर्ष और कड़ी मेहनत से दुनिया का सर्वश्रेष्ठ क्रिकेटर बन गया जिसके नाम पर कई ऐसे रिकॉर्ड दर्ज हैं जो आज तक कोई बल्लेबाज़ नहीं तोड़ पाया है।
1 / 5 NEXT
Advertisement
Advertisement
Fetching more content...