विश्व कप 2015 में हिस्सा लेने वाले 5 भारतीय खिलाड़ी जो शायद विश्व कप 2019 में न खेल पाएं

आईसीसी क्रिकेट विश्व कप के 12 वें संस्करण में अब एक साल से भी कम समय बचा है। अगले साल जून में इंग्लैंड और वेल्स में खेला जाने वाला टूर्नामेंट निश्चित रूप से बहुत रोमाँचक होगा। आपको बता दें कि 10 टीमों (भारत, ऑस्ट्रेलिया, इंग्लैंड, श्रीलंका, न्यूजीलैंड, पाकिस्तान, दक्षिण अफ्रीका, बांग्लादेश, वेस्टइंडीज और अफगानिस्तान) ने इस टूर्नामेंट के लिए क्वालिफाई किया है। सबसे पहले राउंड-रॉबिन प्रारूप होगा, जिसमें सभी दस टीमें एक-दूसरे से भिड़ेंगी और शीर्ष चार टीमें सेमीफाइनल का टिकट कटाएंगी। भारतीय टीम एक बार फिर इस विश्व कप में ख़िताब की प्रमुख दावेदार होगी। वर्तमान भारतीय कप्तान विराट कोहली, भारतीय टीम का नेतृत्व करेंगे, जो अनुभवी और युवा खिलाड़ियों से भरी हुई संतुलित टीम दिखाई देती है। लेकिन पिछले विश्व कप में नज़र आने वाले सभी खिलाड़ी शायद इस विश्व कप में ना दिखें। आइये जानते हैं उन पांच खिलाडियों के बारे में जिन्होंने विश्व कप 2015 खेला था लेकिन शायद वो विश्व कप 2019 में नज़र ना आएं।

रविचंद्रन अश्विन

रविचंद्रन अश्विन सीमित ओवरों के मैचों में काफी लम्बे समय से भारतीय टीम से बाहर चल रहे हैं। अश्विन ने भारत के लिए वनडे और टी 20 में क्रमशः 150 और 52 विकेट लिए हैं। उन्होंने 2015 विश्वकप में भी 13 विकेट लिए थे। हालांकि, 2016 और 2017 में खराब प्रदर्शन के कारण उन्हें टीम इंडिया से बाहर होना पड़ा। हालांकि तमिलनाडु के यह ऑफ स्पिनर टेस्ट में भारत के मुख्य गेंदबाज है, फिर भी उन्होंने जुलाई 2017 में अपना आखिरी वनडे खेला था। वहीं युजवेंद्र चहल और कुलदीप यादव का वनडे और टी 20 में लगातार शानदार प्रदर्शन उनकी वापसी की उम्मीदों पर पानी फेर रहा है। ऐसे में अगले विश्व कप में उनका टीम में जगह बना पाना बहुत मुश्किल लगता है।

रविंद्र जडेजा

रविंद्र जडेजा खेल के तीनों प्रारूपों में एमएस धोनी के भरोसेमंद गेंदबाज थे। हालांकि, उनके कप्तानी से हट जाने के बाद चीजें बदल गई हैं। जडेजा ने भारत के लिए वनडे में लगातार अच्छा प्रदर्शन किया है और 136 मैचों में 155 विकेट लिए हैं। उन्होंने 2015 विश्वकप में भारत के लिए सभी मैच खेले और टूर्नामेंट में नौ विकेट लिए थे। हालांकि, अश्विन की ही तरह, चहल और कुलदीप यादव की टीम में मौजूदगी के चलते वह वनडे टीम में अपना स्थान खो चुके हैं। पिछले कुछ महीनों में 29 वर्षीय आलराउंडर ने एक भी वनडे मैच नहीं खेला है और पिछले साल जुलाई 2017 में उन्होंने अपना आखिरी वनडे मैच खेला था।

मोहम्मद शमी

विश्व कप 2015 में मोहम्मद शमी 17 विकेट लेकर भारत के दूसरे सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले गेंदबाज़ रहे थे। उन्होंने पूरे टूर्नामेंट में अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया था और कई अहम मौकों पर विकेट लिए थे। हालांकि, उनका हालिया प्रदर्शन वैसा नहीं रहा है। मोहम्मद शमी के निजी जीवन और क्रिकेट करियर को उस समय गहरा झटका लगा जब उनकी पत्नी ने उनके खिलाफ पुलिस स्टेशन में शिकायत दर्ज कराई, जिसमें उनपर मैच फिक्सिंग, विवाहेतर संबंध और घरेलू हिंसा का आरोप लगाया गया था। इसके अलावा आईपीएल 2018 में भी उनका प्रदर्शन उम्मीद के मुताबिक नहीं रहा औरआईपीएल में उनके खराब प्रदर्शन को देखते हुए उन्हें इंग्लैंड दौरे के लिए चुनी गयी भारतीय वनडे टीम में भी शामिल नहीं किया गया। भुवनेश्वर कुमार, जसप्रीत बुमराह और उमेश यादव इस समय शानदार फॉर्म में चल रहे हैं, और ऐसे में मोहम्मद शमी का टीम इंडिया में वापसी कर पाना लगभग नामुकिन सा लगता है।

अजिंक्य रहाणे

विश्वकप 2015 में अजिंक्य रहाणे भारत के महत्वपूर्ण खिलाड़ी थे। उन्होंने भारत के लिए सभी मैच खेले और टूर्नामेंट में 200 से अधिक रन बनाए थे। 30 वर्षीय इस बल्लेबाज़ ने भारत के लिए 90 वनडे मैच खेले हैं और लगभग 3000 रन बनाए हैं।हालांकि, पिछले कुछ महीनों में उनके प्रदर्शन में निरंतर कमी आई है। इस साल खेले गए आईपीएल में उन्होंने निराशाजनक प्रदर्शन किया था जिसके परिणामस्वरूप वह इंग्लैंड दौरे के लिए भारतीय टीम में अपनी जगह नहीं बना पाए। श्रेयस अय्यर, ऋषभ पंत, सूर्यकुमार यादव और केएल राहुल जैसे युवा और प्रतिभाशाली खिलाड़ियों की मौजूदगी के चलते अजिंक्य रहाणे भारतीय वनडे टीम से बाहर चल रहे हैं। ऐसे में अगले साल इंग्लैंड में होने वाले विश्व कप के लिए उनके टीम में जगह बना पाने पर संशय बरकरार है।

सुरेश रैना

विश्वकप 2015 में सुरेश रैना ने भारतीय टीम की ओर से जबरदस्त प्रदर्शन किया था। रैना ने टूर्नामेंट के अपने 8 मैचों में 56.80 की औसत से शानदार 284 रन बनाए थे। आंकड़ों की बात करें तो रैना ने भारत के लिए 200 से अधिक वनडे इंटरनेशनल मैच खेले हैं और 5000 से अधिक रन बनाए हैं। हालांकि 31 वर्षीय इस खिलाड़ी ने लगभग विश्व कप के बाद से ही कोई वनडे मैच नहीं खेला है और उन्होंने अपना आखिरी वनडे अक्टूबर 2015 में खेला था। उनका हालिया प्रदर्शन भी कुछ खास नहीं रहा और निदाहस टी 20 त्रिकोणीय श्रृंखला में उन्होंने औसत प्रदर्शन किया था। ऐसे में उनके विश्व कप 2019 के लिए टीम में जगह बनाने के आसार बहुत कम नज़र आते हैं क्योंकि कप्तान विराट कोहली के पास निचले मध्य क्रम में बल्लेबाज़ी करने के लिए बहुत सारे विकल्प मौजूद हैं। उदाहरण के तौर पर तमिलनाडु के विकेटकीपर बल्लेबाज दिनेश कार्तिक इस समय बेहतरीन फॉर्म में हैं और संभवतः वह विश्व कप के लिए एक आदर्श विकल्प होंगे। लेखक: सुजित मोहन अनुवादक: आशीष कुमार
Edited by Staff Editor