Create

श्रीलंका में होने वाली ट्राई सीरीज़ में इन 5 खिलाड़ियों को टीम इंडिया में होना चाहिए था शामिल

बीसीसीआई ने श्रीलंका में 6 से 18 मार्च तक होने वाली निदहास ट्रॉफ़ी के लिए 15 सदस्यीय टीम की घोषणा कर दी है। विराट कोहली को टूर्नामेंट के लिए विश्राम दिया गया है, जिसका मतलब है कि रोहित शर्मा को टीम का कप्तान चुना गया है। जसप्रीत बुमराह, भुवनेश्वर कुमार और एमएस धोनी को भी आराम दिया गया है जबकि ऋषभ पंत, दीपक हुड्डा और वाशिंगटन सुंदर जैसे युवाओं को टीम में शामिल किया गया। हालांकि, कुछ आश्चर्यजनक नाम भी रहे जो टीम में अपनी जगह नही बना सके। निदहास ट्रॉफी के लिए टीम में जगह न बना पाने वाले ऐसे ही 5 खिलाड़ियों पर डालते हैं एक नज़र:

# 5 करुण नायर

कर्नाटक का यह बल्लेबाज 2016 में इंग्लैंड के खिलाफ सनसनीखेज तिहरा शतक लगाने के बाद सुर्खियों में आ गया था। हालांकि, उसके बाद वह जल्द ही अपना फॉर्म खो बैठे और खराब प्रदर्शन के बाद टीम से बाहर हो गये। रणजी ट्रॉफी सत्र के शुरू होने के बाद से कर्नाटक के कप्तान फिर से फॉर्म में आ गए, करुण ने 11 पारी में 68 की औसत से 612 रन बनाये, जिनमें तीन शतक और एक अर्धशतक भी उनके नाम रहा है। उन्होंने सैयद मुश्ताक अली ट्राफी और विजय हजारे ट्रॉफी में अपना अच्छा प्रदर्शन जारी रखा और कर्नाटक की सफलता में एक अहम भूमिका निभायी है। उन्हें इस बात की उम्मीद रही होगी कि चयनकर्ता उन्हें राष्ट्रीय टीम की ओर से खेलने का एक और मौका देंगे ताकि वह खुद को साबित कर सके और अपनी जगह पक्की कर सकें, लेकिन उन्हें निदहास ट्रॉफ़ी में निराशा ही हाथ लगी।

# 4 श्रेयस अय्यर

एक ऐसी श्रृंखला जिसके लिये टीम में बहुत सारे बदलाव हुए हैं और कई युवाओं को मौका दिया गया है, श्रेयस अय्यर का बाहर होना कई लोगों को आश्चर्यचकित करता है। उन्होंने दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ एकदिवसीय श्रृंखला में कोई ख़ास प्रभाव नही डाला था, लेकिन निदहास ट्रॉफी में अपने कौशल का प्रदर्शन करने और एक बड़ा प्रभाव बनाने के लिए उनके पास एक आदर्श मौका था। दुर्भाग्य से, उन्हें अब अपनी बारी का इंतजार करना होगा और उम्मीद है कि आईपीएल के बाद शुरू होने वाले इंग्लैंड दौरे के लिए उन्हें चयनकर्ताआ दोबारा मोक़ा देंगे।

# 3 संजू सैमसन

एमएस धोनी को विश्राम मिलने के साथ, सभी ने सोचा होगा कि 23 वर्षीय संजू सैमसन को चमकने का मौका दिया जाएगा। हालांकि, चयनकर्ताओं ने दिनेश कार्तिक और ऋषभ पंत को साथ ले जाने का फैसला किया। सैमसन घरेलू स्तर पर लगातार रणजी ट्रॉफी और इंडियन प्रीमीयर लीग में अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं। हालांकि, उन्हें 2015 में जिम्बाब्वे के खिलाफ टी 20 में राष्ट्रीय टीम के साथ एक मौका दिया गया था। वह केरल के लिए रणजी ट्रॉफी में शीर्ष स्कोरर थे, जिसमें उन्होंने 12 पारी में 677 रन बनाए थे। वह उम्मीद करेंगे कि अगले कुछ महीनों में चयनकर्ता उन्हें मौका दें।

# 2 बासिल थम्पी

केरल के इस 24 वर्षीय खिलाड़ी ने इंडियन प्रीमीयर लीग में गुजरात लायंस के लिए 2017 में शानदार प्रदर्शन करते हुए अपने लिये नाम बनाया, जिसमें उन्होंने 12 मैचों में 11 विकेट लिये। वह रणजी ट्रॉफी और सैयद मुश्ताक अली में केरल की टीम का हिस्सा थे। हालांकि, उनका प्रदर्शन उस स्तर तक नहीं था, जितनी उनसे अपेक्षा की गयी क्योंकि उन्होंने बहुत बहुत सारे रन लुटा दिए और विकेट भी ज्यादा नही लिये। उन्हें सनराइजर्स हैदराबाद ने इस साल आईपीएल के लिए चुना है और वह एक बार फिर से गेंद के साथ असर डालने की उम्मीद करेंगे।

# 1 मयंक अग्रवाल

कर्नाटक का 27 वर्षीय यह बल्लेबाज़ रणजी ट्रॉफी की शुरुआत के बाद से लाजवाब फॉर्म में है। वह काफी समय से शतकों पर शतक लगाते जा रहे हैं और कर्नाटक को अपने दम पर जिताते भी रहे हैं। सभी प्रारूपों को मिलाकर उन्होंने इस सीज़न में 2000 से ज़्यादा रन बनाए और घरेलू क्रिकेट में ऐसा करने वाले वह पहले भारतीय बल्लेबाज़ भी बन गए हैं। उन्होंने रणजी ट्राफी में 13 पारियों में 1160 रन बनाए और उनकी औसत 105.45 की रही, साथ में दो अर्धशतक और पांच शतक भी उनके नाम रहे हैं। उन्होंने विजय हजारे ट्रॉफी में भी अपना शानदार फॉर्म जारी रखा। उन्होंने 8 पारियों में 723 रन बनाये हैं, उनके उनके नाम पर 4 अर्धशतक और 3 शतक शामिल रहे हैं। जिस फॉर्म में यह खिलाड़ी इस समय खेल रहा है, हम इस वक़्त केवल यही सोच सकते हैं कि यह खिलाड़ी और क्या करे कि चयनकर्ता उनका चयन करें। लेखक: राजदीप पुरी अनुवादक: राहुल पांडे

Edited by Staff Editor
Be the first one to comment