Create
Notifications

SLvIND: पांच खिलाड़ी जिन्हें भारतीय टी20 टीम में चुना जाना चाहिए था

Daya Sagar
ANALYST
Modified 27 Aug 2017
श्रीलंका के खिलाफ एकमात्र टी-20 के लिए भारतीय टीम में कुछ प्रमुख नामों को शामिल नहीं किया गया है। टीम चयन के बाद मुख्य चयनकर्ता एमएसके प्रसाद ने कहा कि 2019 के विश्व कप को देखते हुए ये परिवर्तन किए गए हैं। उनका लक्ष्य 2019 विश्व कप तक ऐसे युवा खिलाड़ियों खिलाडियों का पूल तैयार करना है, जिनके पास प्रतिभा के साथ-साथ पर्याप्त अंतर्राष्ट्रीय अनुभव भी हो। वैसे तो यह एक बेहतर आइडिया है और काफी हद तक सफल भी हो सकता है लेकिन आज कल टी-20 विशेषज्ञों का जमाना है। इंग्लैण्ड,ऑस्ट्रेलिया, दक्षिण अफ्रीका कुछ ऐसी टीमें हैं जिनकी टी-20 टीम, वन-डे और टेस्ट टीम से एकदम अलग है। लेकिन भारतीय टीम अब भी इस क्रांतिकारी परिवर्तन को अपना नहीं पाई है। भारत के पास भी कुछ ऐसे खिलाड़ी हैं जो क्रिकेट के इस सबसे 'छोटे फॉर्मेट' के 'बड़े उस्ताद' बन सकते हैं लेकिन उन्हें टीम में जगह नहीं मिल पा रहा है। ऐसे ही पांच प्रतिभाशाली खिलाड़ी जिन्हें श्रीलंका के खिलाफ टी-20 टीम के लिए चुना जाना चाहिए था लेकिन यह लॉटरी उनके हाथ नहीं लग पाई। सुरेश रैना श्रीलंका दौरे पर टीम में ना चुने जाने के बाद सुरेश रैना का भविष्य अनिश्चित सा दिखने लगा है। 2015 में केदार जाधव और हार्दिक पांड्या के उभार के बाद रैना ने अभी तक एक भी वनडे मैच नहीं खेला है। जाधव और पांड्या ने फिनिसर्स की भूमिका बहुत अच्छी तरीके से निभाई है, इसलिए रैना की वनडे टीम में वापसी की राह बहुत ही मुश्किल हो गई है। हालांकि, टी-20 में रैना के भविष्य के बारे में अभी भी कुछ भी कहना मुश्किल है, क्योंकि आकड़ों के लिहाज से वह भारत के सर्वश्रेष्ठ टी-20 बल्लेबाज हैं। सुरेश रैना के नाम लगभग 7,000 टी 20 रन दर्ज हैं और वह क्रिकेट के इस सबसे छोटे फॉर्मेट में भारत के लीडिंग रन-स्कोरर हैं। इन आकड़ों की वजह से रैना टीम में जगह बनाने के वास्तविक हकदार हैं। 2017 की शुरुआत में उन्हें इंग्लैंड के खिलाफ टी 20 टीम में शामिल किया गया था लेकिन आश्चर्यजनक रूप से अगले दो सीरिज के लिए उन्हें टीम से बाहर कर दिया गया। रैना का आईपीएल सीजन भी इस साल अच्छा गया था और अच्छे परफॉर्मेंस के साथ उन्होंने टीम में अपनी उपयोगिता के साथ-साथ अपनी फिटनेस भी साबित की। फिलहाल रैना टी 20 में अपने स्थान को फिर से हासिल करने के लिए कड़ी मेहनत कर रहे हैं। हालांकि, भारत के सर्वश्रेष्ठ टी-20 बल्लेबाजों में से एक होने के बावजूद हालिया कुछ समय में उन्हें खुद को साबित करने का कोई खास मौका नहीं मिला है। हम तो बस यही कहेंगे कि 30 साल की उम्र में रैना के लिए अभी तक हार नहीं हुई है और वह उम्मीद करेंगे कि जल्द से जल्द टीम में उनकी वापसी हो।
1 / 5 NEXT
Published 27 Aug 2017
Fetching more content...
App download animated image Get the free App now