Create
Notifications
New User posted their first comment
Advertisement

5 वजह जो इंग्लैंड को बना सकती है वनडे की सबसे खतरनाक टीम

CONTRIBUTOR
Modified 05 Sep 2016, 22:20 IST
Advertisement
कुछ साल पहले इंग्लैंड की टीम एक और 50 ओवरों वाला वर्ल्डकप जीतने में नाकामयाब रही। जबकि इंग्लिश टीम वर्ल्डकप के सभी 11 संस्करणों में हिस्सा ले चुकी है। इंग्लैंड टीम को क्रिकेट का जन्मदाता भी कहा जाता है। ये टीम क्रिकेट के सभी प्रारूपों में हमेशा से बेहतरीन प्रदर्शन करती आई है, चाहे वो वनडे हो या टेस्ट या फिर टी20। देखा जाए तो विश्व क्रिकेट में समर्थक ख़ास तौर पर इंग्लैंड के होम सीजन मैचों का इंतज़ार किया करते हैं। इंग्लैंड के इस सीजन का ख़ास तौर पर वो लोग इंतज़ार करते हैं जो इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया के बीच होने वाले ऐशेज़ सीरीज के दीवाने होते हैं। अपने घरेलु सीजन में इंग्लैंड टेस्ट मैचों के साथ-साथ टी20 और वनडे मैच भी काफी मात्रा में खेला करती है। इंग्लिश टीम के पास कई ऐसे शानदार खिलाड़ी गुज़रे हैं जो अपने दम पर टीम को मैच जिताने में सफल रहते हैं और अभी भी इस टीम के पास ऐसे बहुत से खिलाड़ी मौजूद हैं जो टीम को किसी भी फ़ॉर्मेट में जिताने का जज्बा रखते हैं। हाल में ही इंग्लिश टीम ने पकिस्तान के खिलाफ अपने घर में टेस्ट और वनडे सीरीज़ खेली है। टेस्ट सीरीज़ तो 2-2 से बराबर रही पर वनडे सीरीज़ में मेज़बान इंग्लैंड टीम ने पकिस्तान को 4-1 से करारी मात देदी। इंग्लिश टीम इस समय दुनिया की सबसे बेहतरीन टीमों में से एक मानी जा रही है जो किसी भी बड़े टूर्नामेंट को अपने कब्ज़े में करने का माद्दा रखती है। चाहे वनडे हो या टेस्ट या फिर टी20 इस टीम के पास कुछ ऐसे खिलाड़ी हैं जो इस टीम को बेहतर बनाते हैं, इन खिलाड़ियों के साथ साथ कुछ और ऐसे कारण हैं जो इस टीम की कामयाबी का कसीदा पढ़ते हैं। यहां इंग्लैंड टीम की सफलता के वो पांच कारण हैं जो इसे मौजूदा दौर की सबसे खतरनाक टीम बना सकती है। #1 मज़बूत सलामी जोड़ी   1       साल 2014 में श्रीलंका के खिलाफ अपना आखिरी वनडे मैच खेलने के बाद टीम के दिग्गज बल्लेबाज़ एलिस्टर कुक ने जब वनडे टीम को अलविदा कहा तो टीम को सलामी बल्लेबाज़ी की कमी खलनी लगी। कुक के बाद इस ज़िम्मेदारी को ऐलेक्स हेल्स और जेसन रॉय ने बाखूबी संभाला। इन दोनों ने मिलकर इंग्लैंड के लिए वनडे क्रिकेट में एक नया ही रुख बना दिया। साल 2015 से इन दोनों ही बल्लेबाजों ने 14 पारियों में एक साथ सलामी बल्लेबाज़ी का भार संभाला है जिसमें से छः बार इन दोनों के बीच अर्धशतकीय साझेदारी हुई है। तीन मौकों पर ये साझेदारी 100 रन के आंकड़े के पार गई है। साल 2016 में इन दोनों बल्लेबाजों ने अपनी बल्लेबाज़ी का स्तर और भी ऊंचा कर दिया है। हाल ही में इन दोनों ने श्रीलंका के विरुद्ध 256 रनों की शानदार साझेदारी करते हुए टीम को दस विकेट से जीत दिलाई थी। अगर इनके संयुक्त प्रदर्शन को छोड़ व्यक्तिगत प्रदर्शन को भी देखा जाये तो वो भी लाजवाब ही रहा है। हाल ही में हेल्स ने पकिस्तान के खिलाफ़ तीसरे वनडे मैच में 171 रन बनाकर इंग्लैंड के लिए व्यक्तिगत सर्वाधिक रनों का भी रिकॉर्ड अपने नाम किया है। दूसरी और रॉय भी 29 मैचों में शानदार बल्लेबाज़ी करते हुए 1000 रन के करीब पहुंच गए हैं।
1 / 5 NEXT
Published 05 Sep 2016, 22:20 IST
Advertisement
Fetching more content...
App download animated image Get the free App now
❤️ Favorites Edit