Create
Notifications

5 ऐसी वजहें जिसकी वजह से धोनी बने इतने बड़े कप्तान

SENIOR ANALYST
Modified 08 Jan 2017
महेंद्र सिंह धोनी ने वनडे और टी-20 की कप्तानी छोड़ दी है, लेकिन इसमें कोई शक नहीं है कि वो भारतीय क्रिकेट इतिहास के सबसे सफल कप्तान हैं। वहीं वो एक ऐसे बल्लेबाज भी रहे हैं जिन्होंने अपनी बल्लेबाजी से भारतीय टीम को कई मैच जिताए हैं। क्रिकेट इतिहास के वो पहले ऐसे कप्तान हैं जिन्होंने आईसीसी की तीनों ट्रॉफियां जीती हैं। धोनी ने अपनी कप्तानी में भारतीय टीम को आईसीसी टी-20, वर्ल्ड कप और आईसीसी चैंपियंस ट्रॉफी में जीत दिलाई। टीम के लिए धोनी ने काफी कुछ किया है। अपनी कप्तानी में धोनी ने बड़े-बड़े रिकॉर्डों को ध्वस्त किया। लेकिन लगभग एक दशक तक भारतीय टीम की कप्तानी करने के बाद उन्होंने टीम में क्या-क्या बदलाव लाया ? क्या वजह रही कि वो भारत ही नहीं दुनिया के इतने बड़े खिलाड़ी बन गए। आइए आपको बताते हैं। 1.छोटे फॉर्मेट में टीम में जीत की आदत डालना सौरव गांगुली भारत के पहले ऐसे कप्तान थे जिन्होंने सही मायनों में भारतीय टीम को जीतना सिखाया। उन्होंने अपनी कप्तानी में एक ऐसी टीम तैयार की जो हर हालात में लड़ना जानती थी।  उन्होंने सिखाया कि कैसे फाइनल में पहुंचा जाता है लेकिन दुर्भाग्यवश भारतीय टीम फाइनल तक पहुंच कर फाइनल में हार जाती थी। कई बड़े मौकों पर भारतीय टीम को हार का सामना करना पड़ा। गांगुली की कप्तानी में भारतीय टीम 14 बार वनडे के फाइनल में पहुंची लेकिन सिर्फ एक फाइनल जीत पाई।वहीं 3 फाइनल मैचों का कोई रिजल्ट नहीं निकला। लेकिन धोनी ने अपनी कप्तानी में इस इतिहास को बदल दिया। धोनी की कप्तानी में भारतीय टीम ने सीखा कि फाइनल मैचों में कैसे जीत हासिल की जाती है। पहले जहां भारतीय टीम फाइनल तक पहुंच कर हार जाती थी, अब धोनी की कप्तानी में टीम जीतने लगी। कई बड़े फाइनल मैचों में भारतीय टीम ने फतह हासिल की। धोनी की कप्तानी में भारतीय टीम ने 13 फाइनल मैचों में से 8 में जीत हासिल की। इस वजह से इंडियन टीम फाइनल मैचों की पंसदीदा टीम बन गई।
1 / 5 NEXT
Published 08 Jan 2017
Fetching more content...
App download animated image Get the free App now