Create
Notifications
New User posted their first comment
Advertisement

5 वजहें जो बताती हैं कि शिखर धवन को क्यों अभी भी कमतर आंका जाता है

Modified 27 Feb 2018, 18:15 IST
Advertisement

हाल ही में शिखर धवन ने 100वां अंतरराष्ट्रीय एकदिवसीय मैच खेला, जिसमें उन्होंने शतक जमाया। इस शतक के साथ ही, धवन ने करियर के शुरूआती 100 वनडे मैचों में किसी भारतीय द्वारा सर्वाधिक शतकों के विराट कोहली के रिकॉर्ड की बराबरी कर ली। साथ ही 100 वनडे के बाद खाते में सर्वाधिक रनों के रिकॉर्ड्स की लिस्ट में वह 4309 रनों के साथ दूसरे स्थान पर हैं, जबकि दक्षिण अफ्रीका के हाशिम अमला (4808) पहले स्थान पर। फ़िलहाल क्रिकेट फ़ैन्स जब भी टीम इंडिया के स्टार बल्लेबाज़ों की बात करते हैं तो उनमें रोहित शर्मा, विराट कोहली और धोनी के ही नाम आम होते हैं और धवन कहीं न कहीं नज़रअंदाज होते हुए दिखते हैं। आइए जानते हैं उन 5 प्रमुख वजहों के बारे में, जिनके चलते धवन को उतनी तवज्जो नहीं मिल पाती, जितने के वह हक़दार हैं।

#5 जोखिम लेते हुए विकेट गंवाना

धवन को अक्सर, आक्रामकता में लापरवाही करते हुए अपना विकेट गंवाने का दोषी बताया जाता है। तथ्यों के मुताबिक़, अभी तक 95 में से 44 बार धवन बड़े और रिस्की शॉट्स लगाने में अपना विकेट गंवा चुके हैं। लेकिन दूसरा पक्ष यह है कि उनके साथ ओपनिंग करने वाले रोहित शर्मा पूरे धैर्य के साथ अपनी पारी को गढ़ते हैं और उन्हें लय पाने के लिए वक़्त लगता है। ऐसे में धवन के पास आक्रामक रवैया अपनाने के अलावा कोई दूसरा विकल्प नहीं बचता। उनका खेल ही इस तरह का है और उनके अच्छे फ़ॉर्म के लिए शायद यही शैली उपयुक्त भी है। धवन के ऊपर पारी को एक तेज़ शुरूआत देने की जिम्मेदारी रहती है।
1 / 5 NEXT
Published 27 Feb 2018, 18:15 IST
Advertisement
Fetching more content...
App download animated image Get the free App now
❤️ Favorites Edit