Create
Notifications

5 ऐसे कारण जिसकी वजह से रविचंद्रन अश्विन शायद विराट कोहली से बेहतर कप्तान साबित हो सकते हैं

SENIOR ANALYST
Modified 13 Dec 2016
जैसा कि शुरु में ही बताया गया है आइए आपको बताते हैं कुछ डिस्क्लेमर डिस्क्लेमर 1 :  पिछले कुछ सालों में अश्विन ने लगातार बेहतर प्रदर्शन किया है । उन्होंने ना केवल भारत की पिचों पर बल्कि इंग्लैंड, ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड और दक्षिण अफ्रीका में भी अपने आपको साबित किया है । उनके रिकॉर्ड उनको महान खिलाड़ियों की सूची में खड़ा करते हैं  और भारतीय टीम की कप्तानी के लिए भी एक बेहतर उम्मीदवार बनाती हैं। कोहली ने इंग्लैंड में अच्छा प्रदर्शन नहीं किया है, लेकिन ऑस्ट्रेलिया में उन्होंने बेहतरीन प्रदर्शन किया है । डिस्क्लेमर 2 :  इस आर्टिकल का मतलब ये नहीं है कि कोहली बेहतर कप्तान नहीं हैं । बल्कि हम सभी उनके बहुत बड़े प्रशंसक हैं और वो एक बेहतरीन कप्तान और खिलाड़ी हैं ।  एक कप्तान के तौर पर हम उनकी उपलब्धियों के बारे में जरुर लिखेंगे, लेकिन अभी बात अश्विन की । कहीं ना कहीं विराट कोहली की लाजवाब बल्लेबाजी उनकी कप्तानी की कमियों को छुपा लेती है । एक सच्चाई ये भी है कि कप्तानी के लिए गेंदबाजों को ज्यादा तरजीह नहीं दिया जाता है । बहुत से क्रिकेट प्रशंसकों को ये जानकार दुख होगा कि धोनी को अपने पूरे करियर में खेल को लंबा खींचने और अटैक ना करने के कारण कई बार आलोचनाओं का सामना करना पड़ा और कुछ हद तक ये आलोचना सही भी थी । लेकिन कोहली इसके उलट हैं । वो युवा हैं, आक्रामक हैं और जोश उनके अंदर कूट-कूटकर भरा हुआ है । कहा ये भी जा रहा है कि स्टीव वॉ नहीं तो वो इंडिया के माइकल क्लार्क साबित हो सकते हैं । इंग्लैंड के खिलाफ चौथे टेस्ट के दूसरे दिन उनकी कप्तानी की कमियां उजागर हुईं । कोहली के बाद रविचंद्रन अश्विन कप्तानी के लिए एक बेहतर विकल्प साबित हो सकते हैं । क्यों ? आइए आपको बताते हैं इसके 5 कारण ।   1. स्किल के अनुरुप प्रदर्शन करने की क्षमता   ashwin-bat-1481369690-800   कप्तानी के लिए सबसे जरुरी होता है आत्मविश्वास । ये एक कप्तान का सबसे बड़ा हथियार होता है । अगर कप्तान का प्रदर्शन अच्छा नहीं होता है तो उसकी कप्तानी भी प्रभावति होती है । इस परिप्रेक्ष्य में अगर देखें तो अश्विन, कोहली से ज्यादा बेहतर दिखते हैं । इसका सबसे बड़ा कारण ये है कि अश्विन एक बेहतरीन ऑलराउंडर हैं और बल्लेबाजी में नंबर 6 पर प्रमोट करने के लिए उन्हें कोहली को धन्यवाद कहना चाहिए । अश्विन पिछले कुछ सालों से ना केवल भारत के सबसे सफल गेंदबाज हैं, बल्कि उन्होंने लगातार बल्लेबाजी भी अच्छी की है । इससे उन्हें काफी आत्मविश्वास मिलता है । हम इस बात से इंकार भी नहीं कर सकते हैं कि कोहली एक शानदार फील्डर हैं, और अश्विन की फील्डिंग उतनी अच्छी नहीं है । लेकिन एक खिलाड़ी के तौर पर खासकर मुश्किल हालात में अश्विन एक परिपक्कव खिलाड़ी की तरह प्रदर्शन करते हैं  । वहीं कोहली ने पिछले 2 सालों से भारत के लिए सबसे ज्यादा रन बनाए हैं ।  उन्होंने 60.11 की औसत से 2104 रन बनाए हैं । अश्विन भी इस लिस्ट में पीछे नहीं है । उन्होंने 31.66 की औसत से 855 रन बनाए हैं । वहीं गेंदबाजी में अश्विन ने 21.36 की औसत से 134 विकेट चटकाए हैं, जबकि 54 विकेटों के साथ जाडेजा दूसरे नंबर पर हैं ।
1 / 5 NEXT
Published 13 Dec 2016
Fetching more content...
App download animated image Get the free App now