Create
Notifications
New User posted their first comment
Advertisement

5 कारण जिससे पता चलता है कि श्रीलंका दौरे के बाद अभिनव मुकुंद का करियर खत्म हो सकता है

Daya Sagar
ANALYST
Modified 18 Aug 2017, 21:25 IST
Advertisement
हाल ही में समाप्त हुए भारत-श्रीलंका टेस्ट सीरिज में जिन दो खिलाड़ियों पर सबसे ज्यादा नजर थी, वे थे अभिनव मुकुंद और शिखर धवन। दोनों टेस्ट में वापसी कर रहें थे लेकिन दोनों का ही भविष्य निश्चित नहीं था। टीम इंडिया के दोनों नियमित ओपनर केएल राहुल और मुरली विजय खराब फॉर्म नहीं फिटनेस की वजह से टीम में नहीं थे और टीम में इनके वापसी के बाद अभिनव मुकुंद और शिखर धवन में से कम से कम किसी एक पर गांज गिरना निश्चित था। दूसरे टेस्ट के दौरान ऐसा हुआ भी जब केएल राहुल के फिट होने के बाद अभिनव मुकुंद को बाहर बैठना पड़ा। हालांकि मुकुंद ने पहले टेस्ट की दूसरी पारी में 81 रनों की शानदार पारी खेली थी, लेकिन तब भी वह टीम में अपनी जगह बरकरार नहीं रख पाए। संभव है कि जब चयनकर्ता अगले टेस्ट सीरिज के लिए टीम का चयन करें तो उसमें मुकुंद का नाम न हो। हालांकि इस बाएं हाथ के इस बल्लेबाज में काफी क्षमता है और घरेलू सीजन में उनके प्रदर्शन से उनकी बल्लेबाजी कौशल का भी पता चलता है। लेकिन इस खब्बू बल्लेबाज का अंतर्राष्ट्रीय कैरियर अब अधर में है। यहां हम ऐसे ही पांच कारणों पर चर्चा करेंगे जो बताते हैं कि अभिनव मुकुंद का अंतर्राष्ट्रीय कैरियर अब लगभग खत्म हो चुका है- #5 शिखर धवन की फॉर्म में वापसी Sri Lanka v India - Cricket, 3rd Test - Day 1 श्रीलंका के खिलाफ टेस्ट सीरीज की शुरुआत से पहले, अभिनव मुकुंद सलामी बल्लेबाजी के लिए पहले विकल्प थे। शिखर धवन को तो दूसरे विकल्प के रूप में टीम में जगह मिली थी। लेकिन वायरल बुखार की वजह से केएल राहुल पहले टेस्ट से बाहर हो गए और शिखर धवन को उनकी जगह टीम में शामिल किया गया। धवन ने भी इस मौके को भरपूर भुनाया और  पहली पारी में शतक ठोंक न केवल टीम में अपनी जगह मजबूत की बल्कि मुकुंद के टेस्ट टीम के दावे को भी पीछे ढकेल दिया। गॉल टेस्ट में धवन की आक्रामक 190 रन की पारी ने भारत की जीत की नींव तैयार की और अगले टेस्ट में धवन की जगह भी पक्की हो गई। हालांकि मुकुंद ने दूसरी पारी में अर्धशतक बनाया लेकिन उस समय तक धवन उनसे काफी आगे निकल चुके थे। धवन के इस वापसी का मतलब है कि टेस्ट ओपनर के लिए अब भारत के पास मुकुंद से पहले भी तीन विकल्प हैं। पिछले कुछ सालों के शानदार रिकॉर्ड ने मुरली विजय को भारत का फर्स्ट च्वॉइस सलामी बल्लेबाज बना दिया है और इसलिए फिट होने के बाद उनकी वापसी लगभग तय है। वहीं केएल राहुल ने पिछले सात टेस्ट पारियों में लगातार सात अर्धशतक बनाए हैं और इस निरंतरता के कारण वह विजय के एक स्वाभाविक साथी के रूप में उभरते हैं। हालांकि अब तक अभिनव मुकुंद को सलामी बल्लेबाजों के पहले विकल्प के रूप में भारत की टेस्ट टीम में शामिल किया गया था लेकिन धवन के सनसनीखेज वापसी ने उनसे यह जगह छीन ली है। अब मुकुंद के लिए चीजें बेहद मुश्किल हो गई हैं और संभवतः अगले टेस्ट सीरिज के दौरान वह भारतीय टीम में ना नजर आए।
1 / 5 NEXT
Published 18 Aug 2017, 21:25 IST
Advertisement
Fetching more content...
App download animated image Get the free App now
❤️ Favorites Edit