Create
Notifications

इंग्लैंड के खिलाफ मुंबई टेस्ट में विराट कोहली ये 5 रिकॉर्ड तोड़ा

जितेंद्र तिवारी
visit

ये टेस्ट क्रिकेट का वह दौर है, जब स्टेडियम में भीड़ की काफी कम देखी जा रही है। या यूँ कहें दर्शक मैच देखने बहुत कम आते हैं। लेकिन वानखेड़े स्टेडियम में दर्शकों का हुजूम तब काफी था, जब उनके चहेते बल्लेबाज़ विराट कोहली मैदान पर एक्शन में थे। भारतीय कप्तान विराट कोहली ने अंग्रेज गेंदबाजों को बड़ी निर्ममता से धोया। जिसमें उनका बेहतरीन फुटवर्क और सही स्ट्रोक चयन अंग्रेजों की बड़ी हार का सबब बना। इस तरह भारत ने सीरिज पे भी कब्जा कर लिया। विराट ने अपनी 235 रन की विराट पारी के दम पर बहुत से रिकॉर्ड तोड़े। आइये एक नजर डालते हैं इन टूटे हुए रिकार्ड्स पर:

किसी भी भारतीय बल्लेबाज़ का इंग्लैंड के खिलाफ उच्च स्कोर

कोहली की ये टेस्ट पारी इंग्लैंड के खिलाफ किसी भी भारतीय बल्लेबाज़ का सर्वाधिक स्कोर है। इससे पहले विनोद काम्बली ने इसी मैदान पर ग्राहम गूच की टीम के खिलाफ 1993 में 411 गेंदों पर 224 रन बनाये थे। इस टेस्ट में भी इंग्लैंड ने टॉस जीता था, लेकिन वह इसका फायदा नहीं उठा सके। पहली पारी में 347 रन का स्कोर बनाया था। जिसके जवाब में भारत ने काम्बली के दोहरे शतक के दम पर 244 रन की लीड हासिल की थी। अनिल कुंबले, राजेश चौहान और वेंकटपति राजू ने बेहतरीन करके भारत को 3-0 से सीरीज जिताने में अहम योगदान दिया था। किसी भी भारतीय बल्लेबाज़ द्वारा इंग्लैंड के खिलाफ एक सीरीज में सबसे ज्यादा रन साल 2002 में भारत के महत्वकांक्षी कप्तान सौरव गांगुली की कप्तानी में नये कलेवर की भारतीय टीम का मुकाबला अंग्रेज टीम से हुआ था। लेकिन नासिर हुसैन की टीम ने पहले मैच में 170 रन से जीत हासिल की। लेकिन अगले मैच में भारत की दीवार माने जाने वाले राहुल द्रविड़ और गेंदबाजों ने सीरिज में भारत की वापसी करवाई। ट्रेंट ब्रिज में दूसरी पारी के बाद सीरीज के अंत तक राहुल द्रविड़ ने 115, 148 और 217 रन बनाये। भारत ने हेडिंग्ले टेस्ट तो एक पारी से जीत लिया था। द्रविड़ ने इस दौरे पर 602 रन बनाये थे। लेकिन ये रिकॉर्ड अब कोहली ने तोड़ दिया है। कोहली अबतक इस सीरिज में 640 रन बना चुके हैं। पहले भारतीय बल्लेबाज़ जिसने एक कैलेंडर वर्ष में 3 दोहरे शतक बनाये इस साल के शुरू में विराट कोहली का टेस्ट में उच्च स्कोर 169 रन था। जो उन्होंने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ एमसीजी में बनाया था। इस पारी के दौरान उन्हें ऊपरी क्रम के बल्लेबाजों का अच्छा साथ नहीं मिला था। इसके अलावा वह शतक आगे बड़े थे। कोहली शतक से आगे बड़े और इसी साल उन्होंने अबतक 3 दोहरे शतक बना डाले। उन्होंने अपना पहला दोहरा शतक सर विवियन रिचर्ड्स ग्राउंड पर बनाया। उसके बाद इंदौर के होल्कर स्टेडियम में जहां उन्होंने अजिंक्य रहाने के साथ मिलकर 365 रन की साझेदारी निभाई। अब जब वह मुंबई पहुंचे तो टीम को इस दोहरे शतक काफी जरूरत थी। उन्होंने 235 रन बनाये और पहले भारतीय और दुनिया के 5वें ऐसे बल्लेबाज़ बने जिन्होंने 200 का आंकड़ा एक साल में छुआ। टेस्ट में किसी भारतीय कप्तान का सर्वाधिक स्कोर इस टेस्ट से पहले एमएस धोनी ने बतौर कप्तान 224 उच्चस्कोर बनाया था। धोनी ने बॉर्डर-गावस्कर ट्राफी में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ साल 2013 में 224 रन की पारी खेली थी। हालांकि कोहली ने अंटीगुआ और इंदौर में दोहरा शतक बनाया। लेकिन वह इस रिकॉर्ड को मुंबई तोड़ पाए। विराट कोहली ने अपने नाम ये रिकॉर्ड भी दर्ज करवा लिया है। बतौर कप्तान उनकी ये सफलता काफी बड़ी है। कोहली का टेस्ट औसत अभी तक 65.50 के करीब है। उनके ऊपर सिर्फ सर डॉन ब्रेडमैन का नाम ही आता है। क्रिकेट इतिहास के पहले बल्लेबाज़ जिनका तीनों फॉर्मेट में औसत 50 से ज्यादा है सभी बल्लेबाजों के करियर में एक साल ऐसा आता है, जब वह बेहतरीन फॉर्म में रहता है। कोहली के लिए साल 2016 किसी यादगार साल से कम नहीं साबित हुआ है। उन्होंने इस साल लगातार और सभी फॉर्मेट में शानदार खेल दिखाया है। कोहली के इस शानदार खेल का नतीजा है कि उनके नाम क्रिकेट इतिहास का ये रिकॉर्ड भी जुड़ गया है। उन्होंने इस साल सभी फॉर्मेट में 50 से अधिक के औसत से रन बनाये हैं। हालांकि अभी उन्हें इस साल एक टेस्ट और खेलना है।

Edited by Staff Editor
Article image

Go to article
Fetching more content...
App download animated image Get the free App now