Create
Notifications

अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में बने 5 रिकॉर्ड जिन्हें शायद अब भूला दिया गया है

Some international records are peculiar, yet, over the years, have left the memory of cricketing fans
Himanshu Kothari

क्रिकेट एक आंकड़ों का खेल है। क्रिकेट के खेल में रिकॉर्ड काफी मायने रखते हैं। हर मैच में क्रिकेट के मैदान पर कुछ न कुछ नया कीर्तिमान स्थापित हो ही जाता है। वहीं अगर विश्व क्रिकेट में कुछ खास रिकॉर्ड की बात की जाए तो डॉन ब्रैडमैन का बल्लेबाजी औसत का रिकॉर्ड आज हर कोई जानता हैं।

ब्रैडमैन के नाम टेस्ट क्रिकेट में 99.94 की बल्लेबाजी औसत का रिकॉर्ड दर्ज है। आइए आज यहां जानते हैं ऐसे ही कुछ रिकॉर्ड के बारे में जो समय के साथ भूला दिए गए हैं।

#5 टेस्ट क्रिकेट में सबसे ज्यादा बार बोल्ड

Enter caption

राहुल द्रविड़ टीम इंडिया के दिग्गज खिलाड़ियों में से एक रहे हैं। टीम इंडिया में राहुल द्रविड़ को दीवार के नाम से जाना जाता था क्योंकि मैदान पर राहुल द्रविड़ आसानी से अपना विकेट नहीं गंवाते थे और जमकर रन स्कोर करते थे। लेकिन अगर आंकड़ों की तरफ गौर किया जाए तो राहुल द्रविड़ के नाम एक मजेदार रिकॉर्ड भी दर्ज है। दरअसल टीम इंडिया की दीवार कहे जाने वाले राहुल द्रविड़ के नाम टेस्ट क्रिकेट में सबसे ज्यादा बार बोल्ड आउट होने का रिकॉर्ड दर्ज है।

राहुल द्रविड़ ने अपने करियर में 286 टेस्ट पारियां खेली हैं। इन टेस्ट पारियों में राहुल 55 बार बोल्ड आउट हुए हैं। अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में इस आंकड़े के जरिए आउट होने का उनका प्रतिशत 19.23 है।

#4 वनडे में सबसे ज्यादा बार पहली गेंद पर आउट होने का रिकॉर्ड

Lasith Malinga edges former Pakistan skipper Shahid Afridi by just one golden duck in ODI cricket

ज्यादातर लोगों का मानना है कि वनडे क्रिकेट में पाकिस्तान क्रिकेट टीम के पूर्व ऑलराउंडर खिलाड़ी शाहिद अफरीदी के नाम सबसे ज्यादा बार गोल्डन डक होने का रिकॉर्ड दर्ज है लेकिन असल में ऐसा नहीं है। बल्कि वनडे क्रिकेट में सबसे ज्यादा बार गोल्डन डक होने का रिकॉर्ड श्रीलंकाई तेज गेंदबाज लसिथ मलिंगा के नाम दर्ज है। एकदिवसीय क्रिकेट में मलिंगा 13 बार गोल्डर डक हो चुके हैं। जबकि शाहिद अफरीदी एक कदम पीछे रह गए। उनके नाम 12 बार गोल्डन डक आउट होने का रिकॉर्ड दर्ज है।

क्रिकेट में जब भी कोई बल्लेबाज शून्य पर आउट होता है तो उसे डक की उपाधि दी जाती है। वहीं अगर कोई बल्लेबाज पहली ही गेंद पर आउट होता है तो उसे गोल्डन डक कहा जाता है। इसके अलावा क्रिकेट में डायमंड डक का टर्म भी काफी प्रचिलित है। इसमें जब कोई बल्लेबाज बिना कोई गेंद खेले ही आउट हो जाए तो उसे डायमंड डक कहा जाता है। डायमंड डक ज्यादातर दूसरे छोर पर खड़े खिलाड़ी के रन आउट होने पर होता है।

#3 टी20 क्रिकेट में शुरआत से अंत तक खेलने का रिकॉर्ड

Chris Gayle has a plethora of records to his name, especially in the shortest format of the game

क्रिकेट के खेल में 'कैरी द बैट' उस बल्लेबाज को कहा जाता है जो एक ओपनर के तौर पर पारी की शुरुआत करें और मैच में बाकि के 10 खिलाड़ी के आउट हो जाने के बाद भी वह नॉटऑउट पैवेलियन लौटे। 3000 से ज्यादा टेस्ट मैचों में भी अब तक सिर्फ 53 बार ऐसा हुआ है तो वहीं 2000 से ज्यादा एकदिवसीय मुकाबलों में अब तक 11 बार ऐसा देखा गया है। वहीं टी20 क्रिकेट में ऐसा कमाल सिर्फ एक बार ही देखने को मिला है।

टी20 क्रिकेट फटाफट क्रिकेट माना जाता है और उसमें ओपनर के लिए आखिर तक मैदान पर जमे रहना काफी मुश्किल काम होता है लेकिन वेस्टइंडिज के खिलाड़ी क्रिस गेल टी20 क्रिकेट में ऐसे एकमात्र खिलाड़ी हैं जिन्होंने ये कारनामा कर दिखाया है। साल 2009 के आईसीसी टी20 विश्व कप के सेमीफाइनल मुकाबले में श्रीलंका के जरिए दिए गए टारगेट को चेज करने क्रिस गेल ने पारी की शुरुआत की थी और देखते ही देखते पूरी वेस्टइंडीज की टीम 101 रन के स्कोर पर ढेर हो गई। लेकिन क्रिस गेल शुरू से अंत तक मैदान पर डटे रहे और 63 रन के स्कोर पर खुद नाबाद पैवेलियन लौटे। वहीं इस मैच में श्रीलंका ने 57 रनों से जीत दर्ज की।

#2 टी20 में सबसे सफल गेंदबाज/कीपर संयोजन

Kamran Akmal holds this record with spinner Saeed Ajmal

क्रिकेट के खेल में गेंदबाज को विकेटकीपर के साथ सामंजस्य बैठाकर काम करना पड़ता है। गेंदबाज और विकेटकीपर दोनों ही अपनी समझदारी और सूझबूझ से बल्लेबाज का विकेट आसानी से झटकने में कामयाब हो सकते हैं। विश्व क्रिकेट में विकेटकीपर और गेंदबाजों की कई जोड़ी फेमस है।

मानो या न माने लेकिन पाकिस्तान क्रिकेट टीम के कामरान अकमल और सईद अजमल टी20 क्रिकेट में सर्वश्रेष्ठ विकेटकीपर/गेंदबाज संयोजन हैं। दोनों खिलाड़ियों ने विरोधी बल्लेबाजों को अपने जाल में फंसाकर पवेलियन का रास्ता दिखाया है।

आंकड़ों के मुताबिक अजमल की विकेटकीपिंग के दौरान अकमल के नाम 15 डिसमिसल दर्ज है। इसमें एक कैच और 14 स्टम्पिंग शामिल है। वहीं इस जोड़ी के बाद 14 शिकार के साथ मुशफिकुर रहीम और शाकिब अल हसन की जोड़ी है। भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी का इस लिस्ट में सातवें नंबर पर नाम आता है।

#1 टेस्ट क्रिकेट में शून्य पर आउट होने से पहले खेली गई ज्यादा गेंदें

Geoff Allott even raised his bat to acknowledge the applause for his duck

टेस्ट क्रिकेट में सबसे ज्यादा गेंदें खेलने के बाद भी शून्य पर आउट हो जाने का रिकॉर्ड न्यूजीलैंड के जीओफ एलोट के नाम दर्ज है। 1988/89 में ऑकलैंड में साउथ अफ्रीका के खिलाफ खेले गए टेस्ट मुकाबले में जीओफ एलोट ने बिना कोई रन स्कोर किए सबसे ज्यादा गेंदें खेलने का रिकॉर्ड बनाया था।

इस मुकाबले में जीओफ ने 77 गेंदें खेली थी और 101 मिनट तक मैदान पर डटे रहे और बिना खाता खोले ही पवेलियन लौट गए थे। हालांकि जीओफ का बिना खाता खोले आउट होने से भी न्यूजीलैंड के लिए फायदे का सौदा साबित हुआ क्योंकि न्यूजीलैंड इस मुश्किल मुकाबले में मैच को ड्रॉ कराने में कामयाब हो सका था। जीओफ के बाद सबसे ज्यादा गेंदें खेलकर शून्य पर आउट होने का रिकॉर्ड 55 गेंदों के साथ जेम्स एंडरसन और 52 गेंदों के साथ रिचर्ड एलिसन के नाम दर्ज है।

लेखक: बिमर्श अधिकारी

अनुवादक: हिमांशु कोठारी

Edited by मयंक मेहता

Comments

Quick Links:

More from Sportskeeda
Fetching more content...