Create
Notifications
New User posted their first comment
Advertisement

IPL: 5 ऐसे मौक़े जब खिलाड़ियों ने खेल भावना से जीता सभी का दिल

Modified 28 Mar 2018, 11:15 IST
Advertisement

पिछले 10 सालों में आईपीएल टूर्नामेंट में काफ़ी कुछ देखने को मिला है। इस में कई शानदार पारियां, कई बेहतरीन गेंदबाज़ी, सांस रोक देने वाले मुकाबले, कई शतक, ज़बरदस्त हैट्रिक, शानदार कैच और कई बेहतरीन रन आउट शामिल हैं। आईपीएल में रोमांच की कोई सीमा नहीं है। लेकिन क्या वजह है कि ये टूर्नामेंट इतना यादगार बन जाता है। खेल भावना एक ऐसी सोच है जो किसी भी खेल और खिलाड़ी को महान बनाती है, कई बार ये खेल भावना मैच जीतने से ज़्यादा सुख देती है। इन खेल भावनाओं से कई यादगार लमहे बन जाते हैं और दो देशों के खिलाड़ियों के बीच की दूरियां कम हो जाती हैं हैं और एक इंसानियत का एहसास होता है। इसकी वजह से कई यादें बन जाती हैं। हम यहां आईपीएल के 5 ऐसे पलों के बारे में बता रहे हैं जिस से हर क्रिकेट प्रेमी का दिल पिघल जाएगा।

#5 जोस बटलर और पार्थिव पटेल ने रन न लेने का फ़ैसला किया

  मुंबई इंडियंस टीम के ओपनर जोस बटलर और पार्थिव पटेल मुंबई के वानखेड़े स्टेडियम में कोलकाता नाइट राइडर्स टीम के बॉलिंग अटैक का सामना कर रहे थे। केकेआर के क्रिस वोक्स ने बटलर को धीमी गेंद फेंकी। गेंद कुछ दूरी पर क्रिस लिन के पास पहुंची, गेंद को कैच करने की कोशिश के दौरान लिन संतुलन खोकर गिर गए और उनके कंधे में ज़बरदस्त चोट लग गई। लिन दर्द की वजह से कराहने लगे थे, सभी का ध्यान लिन की तरफ़ गया। अंपयार ने इस गेंद को डेड बॉल क़रार नहीं दिया। हर किसी को क्विंसलैंड के खिलाड़ी क्रिस लिन की परवाह हो रही थी, लेकिन किसी ने ये ध्यान नहीं दिया कि मुंबई इंडियंस के दोनो बल्लेबाज़ ने इस दुखद घड़ी में रन न लेने का फ़ैसला किया। इस काम के लिए बटलर और पटेल की जितनी तारीफ़ की जाए कम है।
1 / 5 NEXT
Published 28 Mar 2018, 11:15 IST
Advertisement
Fetching more content...
App download animated image Get the free App now
❤️ Favorites Edit