Create
Notifications

5 आंकड़े जो यह साबित करते हैं कि विराट कोहली भारत के सर्वश्रेष्ठ टेस्ट कप्तान हैं

Himanshu Kothari

वर्तमान में विश्व क्रिकेट में अगर किसी खिलाड़ी का बोलबाला है तो वो हैं भारतीय टीम के कप्तान विराट कोहली। विराट कोहली हर मैच में शानदार बल्लेबाजी कर नए कीर्तिमान स्थापित कर रहे हैं। टेस्ट, वनडे और टी20 क्रिकेट के हर फॉर्मेट में विराट कोहली का बल्ला रनों की बरसात करते नहीं थक रहा है। अपनी शानदार बल्लेबाजी के दम पर विराट कोहली आज हर गेंदबाज के मन में खौफ की तरह बैठ चुके हैं। अभी तक विराट कोहली क्रिकेट में कई रिकॉर्ड को अपने नाम कर चुके हैं और कई शानदार रिकॉर्ड स्थापित भी कर चुके हैं। अगर उनका बल्ला आगे भी ऐसे ही चलता रहा तो विराट कोहली कई और रिकॉर्ड स्थापित करने में कामयाबी हासिल कर सकते हैं। बल्लेबाजी के अलावा विराट कोहली की कप्तानी भी विश्व क्रिकेट में अपनी छाप छोड़ रही है। महेंद्र सिंह धोनी ने कप्तानी में जो विरासत छोड़ी थी, विराट कोहली उसी विरासत को बेहतरीन तरीके से आगे लेकर जा रहे हैं। विराट कोहली का एक कप्तान के तौर पर शानदार प्रदर्शन जारी है। विराट ने अपनी कप्तानी में टीम इंडिया को कई शानदार जीत दिलाई है। टेस्ट क्रिकेट में विराट कोहली पिछले चार सालों से भारतीय क्रिकेट टीम की अगुवाई कर रहे हैं। आइए जानते हैं उन आंकड़ों के बारे में जो यह साबित करते हैं कि विराट कोहली भारत के लिए एक सर्वश्रेष्ठ टेस्ट कप्तान हैं।

#5 भारतीय कप्तान के रूप में सर्वाधिक शतक

विराट कोहली एक ऐसे बल्लेबाज के तौर पर जाने जाते हैं जो मैदान पर आकर लगातार रन स्कोर करते रहते हैं। एक कप्तान के तौर पर विराट कोहली के नाम टेस्ट क्रिकेट में किसी भी भारतीय कप्तान के जरिए लगाए गए सबसे ज्यादा शतक दर्ज हैं। विराट कोहली ने अभी 35 टेस्ट मैच ही खेले हैं, जिनमें वो 14 शतक लगा चुके हैं। इसके साथ ही विराट कोहली ने भारतीय कप्तान के तौर पर सबसे ज्यादा टेस्ट शतक लगाए हैं। विराट कोहली के बाद सुनील गावस्कर का नाम आता है, जिन्होंने 47 मैचों में कप्तान के तौर पर 11 शतक जड़े हैं।

#4 भारतीय कप्तान के रूप में सर्वाधिक डबल सेंचुरी

भारतीय टीम के कप्तान विराट कोहली हर मुकाबले को एक चैंपियन की तरह से खेलते हैं। भारतीय टीम की ये रन मशीन क्रीज पर अगर टिक जाए तो इसे वापस पैवेलियन भेज पाना गेंदबाजों के लिए मुश्किल ही नहीं बल्कि नामुमकिन हो जाता है। अपनी इसी काबिलियत के चलते विराट कोहली ने टेस्ट क्रिकेट में कई दोहरे शतक भी लगाए हैं। एक भारतीय कप्तान के तौर पर विराट कोहली के जरिए टेस्ट क्रिकेट में सबसे ज्यादा दोहरे शतक दर्ज हैं। यह रिकॉर्ड कोहली की महानता का एक टेस्ट बल्लेबाज के रूप में एक और प्रमाण है। भारतीय क्रिकेट के पूरे इतिहास ने अब तक टेस्ट कप्तान के जरिए लगाए गए चार दोहरे शतक ही देखे गए थे। इनमें एमएके पटौदी, सुनील गावस्कर, सचिन तेंदुलकर और महेंद्र सिंह धोनी शामिल हैं, जिन्होंने कप्तान के तौर पर टेस्ट क्रिकेट में चार दोहरे शतक लगाए हैं। विराट कोहली इन सब भारतीय टेस्ट कप्तानों से आगे निकल चुके हैं। अभी तक विराट कोहली टेस्ट कप्तान के तौर पर 6 दोहरे शतक अपने नाम कर चुके हैं। यह काफी आश्चर्यजनक भी है।

#3 भारतीय कप्तान के रूप में सर्वाधिक रन

बल्लेबाजी में विराट कोहली हर दिन नए रिकॉर्ड स्थापित कर रहे हैं। मैदान पर आते ही विराट कोहली के बल्ले से रनों की बरसात शुरू हो जाती है, जिसे रोक पाना किसी भी गेंदबाज के बस की बात नहीं होती। विराट कोहली की महानता का अंदाजा इस बात से भी लगाया जा सकता है कि टेस्ट क्रिकेट में विराट कोहली के नाम किसी भी भारतीय कप्तान की तुलना में सबसे ज्यादा रन दर्ज हैं। अभी तक अपने छोटे कप्तानी करियर में ही विराट कोहली दिग्गज कप्तानों को पछाड़ चुके हैं। अपने करीब चार साल के टेस्ट कप्तानी करियर में विराट कोहली पहले ही किसी अन्य भारतीय कप्तानों की तुलना में ज्यादा रन बना चुके हैं। विराट कोहली ने 35 टेस्ट मैचों में कप्तान के तौर पर खेलते हुए 3456 रन बनाए। इसके साथ ही वो इस मामले में टॉप पर हैं। उनके बाद भारतीय टीम के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी का नाम आता है जिन्होंने कप्तान के तौर पर 60 मुकाबले खेले हैं और 3454 रन अपने नाम किए हैं। कप्तान के रूप में कोहली का वर्चस्व इस तथ्य से भी तय किया जा सकता है कि इस सूची में विराट के बाद शीर्ष 5 कप्तानों ने विराट के मुकाबले ज्यादा मैच खेले हैं। वहीं विराट ने कम मैच खेलते हुए ही सबसे ज्यादा रन के मामले में पूर्व के भारतीय कप्तानों को पछाड़ दिया है।

#2 भारतीय कप्तान के रूप में जीत की संख्या

भारतीय कप्तान के रूप में टीम की सबसे ज्यादा टेस्ट जीत के मामले में विराट कोहली अभी शीर्ष पर नहीं पहुंच पाए हैं लेकिन इस तरफ वो कदम बढ़ा चुके हैं। इस रिकॉर्ड के मामले में विराट कोहली अभी पूर्व भारतीय कप्तान सौरव गांगुली की बराबरी कर चुके हैं। विराट कोहली ने 35 टेस्ट मैचों में भारतीय क्रिकेट टीम का नेतृत्व किया है और इनमें से 21 मैचों में भारतीय टीम को जीत हासिल हुई है। वहीं सौरव गांगुली ने 49 टेस्ट मैचों में भारतीय क्रिकेट टीम की अगुवाई की है, जिनमें से 21 मैचों में टीम को जीत नसीब हुई है। हालांकि विराट कोहली अभी जीत के मामले में सौरव गांगुली के बराबर है लेकिन विराट कोहली को अभी आगे भी भारतीय टीम के टेस्ट मैचों में कमान संभालनी है। जिसके चलते कोहली जल्द ही इस मामले में सौरव गांगुली से आगे निकल जाएंगे। वहीं टेस्ट क्रिकेट में सबसे ज्यादा जीत के मामले में विराट कोहली भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी से फिलहाल पीछे हैं। धोनी ने अपनी कप्तानी में 60 मैच खेलते हुए टीम इंडिया को 27 मैचों में जीत दिलाई है। विराट के वर्तमान खेल को देखते हुए कहा जा सकता है कि वो दिन दूर नहीं जब विराट कोहली भारत के सबसे सफल कप्तान के तौर पर जाने जाएंगे।

#1 कप्तान के तौर पर सर्वोच्च जीत-हार अनुपात

विराट कोहली टीम इंडिया को हर मैच के लिए जीत की मानसिकता के साथ खेलने के लिए प्रेरित करते हैं। आंकड़ों इस बात की गवाही भी दे रहे हैं। भारतीय टीम में कई महान कप्तान हुए हैं, जिन्होंने अपनी कप्तानी से टीम को नई बुलंदियां प्रदान की है। हालांकि कप्तानी के शानदार रिकॉर्ड को मापने के लिए जीत-हार का अनुपात काफी अहम पैमाना माना जाता है। विराट कोहली का टेस्ट में वर्तमान जीत-हार का अनुपात 4.20 का है। इसमें 21 जीत तो वहीं 5 हार शामिल हैं। विराट के बाद में हार-जीत का सर्वश्रेष्ठ अनुपात सौरव गांगुली का रहा है। सौरव गांगुली का 21 जीत और 13 हार के साथ अनुपात 1.61 का है। वहीं विश्व क्रिकेट में विराट कोहली के अलावा अधिक मैचों में कप्तान स्टीव वॉ का जीत-हार का अनुपात 4.55 का रहा है। इसमें कोई शक नहीं है कि स्टीव वॉ की कप्तानी में ऑस्ट्रेलियाई टीम ने शानदार प्रदर्शन किया था। उम्मीद की जा सकती है कि विराट कोहली की कप्तानी में भारतीय टीम भी जीत-हार के इस अनुपात को और बेहतर करेगी। लेखक: आकाश सिंघल अनुवादक: हिमांशु कोठारी

Edited by Staff Editor

Comments

Fetching more content...