Create
Notifications
New User posted their first comment
Advertisement

5 ऐसे उपकप्तान जिन्हें मौक़ा मिलता तो अच्छे कप्तान साबित हो सकते थे

Modified 07 Jun 2016
हैदराबाद के आईपीएल का ख़िताब जीतने के बाद कप्तान डेविड वॉर्नर की उपयोगिता अपने राष्ट्रीय टीम की तरफ बढ़ गयी है। वह इस वक्त अपनी टीम के उपकप्तान भी हैं। उन्हें अरोन फिंच का साथ भी मिला है। उनका मानना है कि वॉर्नर को बतौर कप्तान आज़माया जा सकता है। लेकिन क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने फिंच की बात को आईपीएल के आधार पर महत्व नहीं दिया है। हालांकि वॉर्नर का भविष्य में स्टीव स्मिथ के सामने कप्तानी की दावेदारी थोड़ी कमजोर पड़ती नजर आ रही है। जो लगातार दो साल से टीम के लिए बेहतरीन कप्तानी दिखा रहे हैं। इसके अलावा वह वार्नर से युवा और मध्यक्रम के बल्लेबाज़ हैं। एक आध मैचों के आलावा वॉर्नर का ऑस्ट्रेलियाई टीम का कप्तान बनना एक अधूरे सपने की तरह हो सकता है। यहां आपको कई ऐसे खिलाड़ियों के बारे में बता रहे हैं, जो कप्तान बनने के लायक थे। लेकिन वह टीम के कप्तान नहीं बन सके इसका कारण टीम में अन्य बेहतरीन नेतृत्व होने की वजह थी। #1 शेन वॉर्न 166165063-1465139844-800 इस लेग स्पिनर में वह सारे गुण थे। उन्होंने बतौर गेंदबाज़ 708 विकेट लिए, जिसमें से 195 विकेट उन्होंने एशेज में लिए थे। इसके आलावा उनके नाम एक विश्व कप ट्राफी भी थी। लेकिन वॉर्न के 145 टेस्ट मैच के करियर में ऑस्ट्रेलियाई टीम का कप्तान बनना एक कमी की तरह था। वह अक्सर विवादों से घिरे रहते थे और क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया को निर्विवाद कप्तान की जरूरत थी। वॉर्न का रिश्ता कप्तान स्टीव वॉ और जॉन बुकानन के साथ अच्छा नहीं था। इयान चैपल ने वॉर्न की राजस्थान रॉयल्स के लिए आईपीएल जीत पर उनके लीडरशिप पर कुछ इस तरह लिखा था। “वॉर्न की कप्तानी में लीडरशिप काफी अहम थी। वह खिलाड़ियों को अच्छा प्रदर्शन करने के लिए तैयार करते थे। वॉर्न को इस बात का भरोसा था कि वह जो समय खिलाड़ियों के साथ बिताएंगे वह मैदान पर नजर आएगा। खिलाड़ियों के साथ काफी इमानदारी बरतते थे।”
1 / 5 NEXT
Published 07 Jun 2016, 21:06 IST
Advertisement
Fetching more content...
App download animated image Get the free App now