Create
Notifications
New User posted their first comment
Advertisement

6 खिलाड़ी जो क्रिकेट इतिहास में अपनी थ्रो के लिए जाने जाते है

Aditya Sharma
FEATURED WRITER
Modified 16 Nov 2015, 07:50 IST
Advertisement

फ़िल्डिंग खेल का काफी मुश्किल हिस्सा है। हालांकि इस पर बल्लेबाजी और गेंदबाजी से कम काम किया जाता है, पर यह किसी भी टीम को मैच जीता सकती है। आज के समय में क्रिकेटर्स ने फ़िल्डिंग की अहमियत को समझा है, इसीलिए सभी टीमों के पास खास फ़िल्डिंग कोच है। वो खास तौर पर ट्रेनिंग देते है, जिससे उनकी तेजी और दम से फील्ड पर अपना दबदबा कायम करते है। फ़िल्डिंग का एक अहम हिस्सा थ्रो होता है। काफी बार बाउंड्री पर खड़े फील्डर्स का मजबूत थ्रो वाले हाथ होना नजदीकी मैचों में अहम हो जाता है। पारी के अंत में भी मजबूत थ्रो वाले हाथ होने का फायदा होता है, जब खिलाड़ी एक रन को दो में बदलने की कोशिश करते है। ऐसे समय में खिलाड़ी तेज थ्रो देकर रन बचा सकते है, जो मैच बचाने में सहायक होते है। यहाँ हम आपको बताएँगे ऐसे ही विश्व के 5 खिलाड़ियों के बारे में:

1. एबी डीविलियर्स

[caption id="attachment_15407" align="alignnone" width="635"] एबी डीविलियर्स एबी डीविलियर्स[/caption] ये आज के क्रिकेट के सबसे बेहतरीन खिलाड़ी है। आज से कुछ साल बाद, एबी डीविलियर्स को खेल खेलने के तरीके को बदलने के लिए जाना जाएगा। वो अपनी असाधारण प्रतिभा के कारण किसी भी बल्लेबाजी और फ़िल्डिंग की लिस्ट में शामिल हो सकते है। दक्षिण अफ्रीका का यह खिलाड़ी निश्चित ही सबसे बेहतरीन फील्डर्स में से एक है। वो मैदान पर बिजली की तरफ तेज होते है और गेंद इनकी तरफ आने पर ये विरोधी खिलाड़ी को रन लेने से पहले सोचने पर मजबूर कर देते है। यह माना जा सकता है की इनके मजबूत हाथ और कंधे भगवान का दिया हुआ तौहफा है। वो हर तरफ से एक सच्चे एथलीट है, इसके लिए उनका क्रिकेट को अपनाने से पहले दूसरे खेल खेलने का अनुभव भी अहम है। वो आज के समय में विश्व के सबसे आक्रामक और रोचक बल्लेबाज है। वो एक शानदार विकेट-कीपर भी रहे पर उनका सही एथलीट रूप तब देखने को मिला जब उन्होंने विकेट-कीपिंग छोड़े और फ़िल्डिंग की शुरूआत की। 2006 में कोई नहीं भूल सकता जब एबी डीविल्लियर्स ने अर्ध-शतक तक आने वाले साइमन केटीच को शानदार तरीके से रन-आउट किया था। केटीच ने गेंद को धीरे से मिड-ऑफ की तरफ खेला, डीविल्लियर्स ने एक्स्ट्रा कवर से कूद कर गेंद को रोका। उसके बाद उन्होंने अपनी तेजी और फुर्ती का परिचय देते हुये गेंद को नॉन-स्ट्राइकर की तरफ फेंक कर विकेट उड़ा दिये और उन्हें आउट किया।
1 / 6 NEXT
Published 16 Nov 2015, 07:50 IST
Advertisement
Fetching more content...
App download animated image Get the free App now
❤️ Favorites Edit