7 भारतीय बल्लेबाज़ जिनका टेस्ट शतक कभी हार का कारण नहीं बना

क्रिकेट के इतिहास में कई महान खिलाड़ी पैदा हुए हैं। इन खिलाड़ियों में से कई खिलाड़ी मैदान पर आते ही रिकॉर्ड कायम करके ही पैवेलियन लौटते थे। भारतीय क्रिकेट में भी कई शानदार खिलाड़ी हुए हैं जिन्होंने अपने दम पर टीम को जीत दिलाने में कामयाबी हासिल की है। इन खिलाड़ियों में से कई खिलाड़ी रिटायर हो चुके हैं तो कई खिलाड़ी अब भी अपना करियर आगे बढ़ा रहे हैं।

वहीं भारतीय टेस्ट क्रिकेट में भी कई खिलाड़ियों का दबदबा देखने को मिला है। भारतीय टीम में कई ऐसे भी खिलाड़ी हुए हैं जिनके टेस्ट क्रिकेट में लगाया शतक कभी फीजूल नहीं गया। इन भारतीय खिलाड़ियों के जरिए टेस्ट क्रिकेट में शतक लगाने को टीम के जीत की गांरटी माना जाता था।

आइए यहां जानते हैं ऐसे ही सात भारतीय खिलाड़ियों के बारे में जिनके जरिए टेस्ट क्रिकेट में लगाए गए शतक के बाद टीम को कभी हार का सामना नहीं करना पड़ा है।

#1 पंकज रॉय

पंकज रॉय भारतीय टीम के स्टार खिलाड़ी रहे हैं और मैदान पर आते हीं कमाल का खेल दिखाना शुरू कर देते थे। रॉय ने अपने करियर में 48 टेस्ट मैच खेले हैं। साथ ही पंकज टीम इंडिया के स्टार ओपनर्स में से एक रहे हैं। वहीं पंकज सबसे ज्यादा अपनी विनो मांकड़ के साथ बनाई गई साझेदारी के लिए याद किए जाते हैं। दोनों खिलाड़ियों ने मिलकर 413 रन बनाए थे। पंकज रॉय उन गिने चुने भारतीय खिलाड़ियों में से एक हैं जिनके टेस्ट क्रिकेट में लगाए शतक के कारण टीम को हार का कभी भी सामना नहीं करना पड़ा। रॉय ने अपने टेस्ट करियर में कुल 5 शतक लगाए थे जिसमे उनके 79 इनिंग्स में 2242 रन शामिल हैं।

#2 दिलीप सरदेसाई

साल 1961 से 1972 तक टीम इंडिया के साथ खेलते हुए दिलीप सरदेसाई ने टीम इंडिया के लिए 30 टेस्ट मुकाबले खेले हैं। हालांकि दिलीप सरदेसाई के जरिए लगाए गए शतक भी टीम इंडिया के लिए कभी हार का कारण नहीं बने हैं। सरदेसाई ने भी अपने करियर में 55 इनिंग्स खेली हैं जिसमे 5 शतक लगाए हैं और 2001 रन शामिल हैं।

#3 गुंडप्पा विश्वनाथ

गुंडप्पा विश्वनाथ टीम इंडिया के बेहतरीन खिलाड़ियों में से एक थे और साथ ही गुंडप्पा विश्वनाथ सुनील गावस्कर के सबसे फेवरेट खिलाड़ी के तौर पर देखे जाते थे। गावस्कर गुंडप्पा विश्वनाथ को खुद से भी बेहतर खिलाड़ी मानते हैं। गुंडप्पा ने 1969 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ डेब्यू किया था। कानपुर में खेले गए इस मुकाबले में गुंडप्पा विश्वनाथ ने अपना पहला शतक लगाया था जिसमे 137 रन निकले थे। गुंडप्पा विश्वनाथ ने अपने करियर की 155 पारियों में 14 शतक लगाए और इनमें उन्होंने शानदार बल्लेबाजी करते हुए 6080 रन स्कोर किए। इसके साथ ही उनका उच्चतम स्कोर 222 का रहा है। गुंडप्पा भारतीय टीम के उन खिलाड़ियों में रहे हैं जिनका शतक लगाना टीम इंडिया की जीत की गारंटी थी।

#4 सौरव गांगुली

भारतीय टीम के खिलाड़ी सौरव गांगुली टीम इंडिया के पूर्व कप्तान तो रहे ही हैं, इसके साथ ही सौरव गांगुली का नाम उन खिलाड़ियों में भी शामिल है जिनके टेस्ट में शतक लगाने के कारण टीम इंडिया को कभी हार का सामना नहीं करना पड़ा। गांगुली एक शानदार बल्लेबाज भी रहे हैं और गांगुली ने अपने टेस्ट करियर में 188 इनिंग्स में 16 शतक लगाए हैं जिसमे उनके 7212 रन शामिल हैं। सौरव गांगुली का सर्वोच्च स्कोर 239 का रहा है।

#5 गौतम गंभीर

साल 2004 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ अपने करियर की शुरुआत करने वाले गौतम गंभीर ने टेस्ट क्रिकेट में टीम इंडिया के लिए कई अहम पारियां खेली है। गौतम गंभीर भी टीम इंडिया के उन खिलाड़ियों में शामिल हैं जिनके जरिए टेस्ट क्रिकेट में शतक लगाए जाने के बाद भारतीय टीम को कभी हार का सामना नहीं करना पड़ा। गंभीर ने 104 पारियों में खेलते हुए 9 टेस्ट शतक लगाए हैं। इसके साथ ही गंभीर ने 4154 रन बनाए हैं। गभीर का सर्वोच्च स्कोर 206 रन है।

#6 महेंद्र सिंह धोनी

महेंद्र सिंह धोनी के टीम इंडिया में आने के बाद टीम में कई अहम बदलाव देखने को मिले। बल्लेबाजी के साथ ही कप्तानी में भी देश ने धोनी का करिश्मा देखा। धोनी ने भारतीय क्रिकेट के लिए कई नए आयाम स्थापित कर दिए। टेस्ट क्रिकेट में भी धोनी ने अपनी बल्लेबाजी से लोगों को प्रभावित किया। धोनी टीम के एकमात्र ऐसे विकेटकीपर हैं जिनके नाम टेस्ट में डबल सेंचुरी शामिल है। धोनी ने अपने टेस्ट करियर में 144 पारियों में खेलते हुए 4876 रन शामिल हैं। धोनी ने अपने टेस्ट करियर में 6 शतक लगाए और एक भी शतक के दौरान भारत को हार का सामना नहीं करना पड़ा। धोनी का टेस्ट में बेस्ट स्कोर 224 रन है।

#7 अजिंक्य रहाणे

क्रिकेट के लंबे फॉर्मेट में अजिंक्य रहाणे टीम इंडिया के सबसे महत्वपूर्ण खिलाड़ियों में एक माने जाते हैं। अजिंक्य रहाणे ने टेस्ट में भारत के लिए कई अहम पारियों को अंजाम दिया है। इसके साथ ही उन्होंने बल्लेबाजी करते हुए जब भी शतक लगाया है तब भारतीय टीम को हार का सामना नहीं करना पड़ा है। मौजूद भारतीय टेस्ट क्रिकेट में अजिंक्य रहाणे एक अहम स्थान रखते हैं। अजिंक्य रहाणे ने साल 2013 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ अपना टेस्ट डेब्यू किया था। रहाणे के नाम 75 इनिंग में 9 शतक और 2883 रन शामिल हैं। इसमें रहाणे का बेस्ट स्कोर 188 का रहा है।

लेखक: वैभव जोशी

अनुवादक: हिमांशु कोठारी

Edited by Staff Editor