आईपीएल 2016: एबी डीविलियर्स के अब तक के प्रदर्शन का विश्लेषण

रॉयल चैलंजर्स और गुजरात लायंस के बीच हुआ पहला क्वालिफायर पूरी तरह से एबी डिविलिएर्स के नाम रहा। इस साउथ अफ्रीकी खिलाड़ी की शानदार पारी की बदौलत आरसीबी तीसरी बार आईपीएल के फ़ाइनल्स में पहुंची, जोकि बैंग्लोर में ही 29 मई को होगा। आरसीबी की टीम में एक से बढ़कर एक पावर हिटर मौजूद हैं, जो उनकी टीम को आईपीएल की बेस्ट बल्लेबाजी वाली टीम भी बनाती है। टीम में गेल, कोहली, वॉटसन और डीविलियर्स जैसे बल्लेबाज़ मौजूद है, जिनकी वजह से टीम ने तीन बार 200 से ऊपर रन बनाए हैं। विराट अपनी शानदार बल्लेबाज़ी के कारण खूब चमक बटोरी, लेकिन उन्हें डीविलियर्स का अच्छा साथ मिला, जो 15 मैचों 682 रन बनाकर सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज़ों की सूची मे तीसरे स्थान पर है। साउथ अफ्रीका वनडे और टेस्ट टीम के कप्तान एबी डीविलियर्स बचपन से ही अलग अलग खेल खेलते आ रहे हैं पर उन्होंने अपना करियर एक क्रिकेटर के रूप में ही बनाया। डीविलियर्स 2004 से लोगों को मैदान के अंदर एंटरटेन कर रहे हैं और इनके नाम वनडे क्रिकेट मे सबसे तेज़ 31 गेंदों में शतक बनाने का रिकॉर्ड भी है। आईपीएल 9 भी डीविलियर्स के लिए एक शानदार सीजन रहा है, देखते है इस साल उनके द्वारा खेली गयी कुछ शानदार पारियां। मैच 1 इस साल के पहले ही मुक़ाबले में डीविलियर्स ने अपनी बल्लेबाज़ी का जौहर दिखते हुए सनराइजर्स हैदरबाद के खिलाफ 42 गेंदों में शानदार 82 रन बनाए। उनकी उस पारी में 7 चौके और 6 छक्के शामिल थे। उस मैच में उन्होनें कोहली के साथ मिलकर टीम का स्कोर 20 ओवर्स में 227 तक पहुंचाया। वो मैच आरसीबी नेआसानी से जीत कर दो अंक अर्जित किए थे। मैच 2 आरसीबी के दूसरे मुक़ाबले में एक बार फिर विराट कोहली और एबी डीविलियर्स के ही नाम रहा। इस बार विपक्षी टीम थी दिल्ली डेयरडेविल्स और मैदान था एम चिन्नास्वामी स्टेडियम। कोहली इस पारी मे ज्यादा आक्रमक दिखे लेकिन डीविलियर्स ने भी उनका पूरा साथ दिया और मात्र 33 गेंदों पर 55 रन बनाए। उसमें 9 चौके और 1 छक्का शामिल रहा। उस मैच मे क्विंटन डी कॉक के बेहतरीन शतक की बदौलत दिल्ली ने आसानी से 192 रनों का लक्ष्य हासिल किया और आरसीबी को इस साल पहली हार झेलनी पड़ी। मैच 3 शुरुआती तीन मुकाबलों में सिर्फ एक साथ आरसीबी की टीम पहुंची पुणे, जहां उनका सामना होना था राइजिंग पुणे सुपरजाइंट्स से। इस बार मैच के हीरो ड़िविलिएर्स और कोहली ही रहे। इस बार साउथ अफ्रीकी बल्लेबाज़ ने अपने कप्तान ने अच्छा खेलते हुए शानदार 83 रन बनाए, जिसमे 6 चौके और 4 छक्के भी मारे। इन दोनों की साझेदारी के दम पर आरसीबी ने 185 रनों का स्कोर खड़ा किया, जिसे पुणे की टीम पूरा ना सकी और मैच हार गयी। मैच 4 लगातार तीन मैच हारकर कर पुणे के खिलाफ जीत की राह पर लौटी आरसीबी की टीम पहुंची मोहाली। पहले बल्लेबाज़ी का न्योता मिलने के बाद आरसीबी की टीम ने विराट का विकेट जल्द ही गंवा दिया, जिससे टीम को अच्छे स्कोर तक ले जाने की ज़िम्मेदारी आई डीविलियर्स पर। जिन्होंने निराश न करते हुए 35 गेंदो पर 64 रन की पारी खेली और आरसीबी को 175 के स्कोर तक ले गए। किंग्स इलेवन वो मैच सिर्फ 1 रन से हार गई थी। एबी का वो रन काफी महत्वपूर्ण साबित हुआ। मैच 5 कोहली और एबी का जादू एक बार फिर देखने को मिला, इस बार टीम थी गुजरात की। विराट और डीविलियर्स ने उस मैच में दोनों ने शतक लगाया। साउथ अफ्रीकी कप्तान की 52 गेंदों पर खेली गई 129 रन की तेज़ तरार पारी ने मैच का रुख ही बादल दिया। एबी ने उस पारी में 10 चौके और 12 छक्के लगाए और आरसीबी की टीम 248 रन के विशाल लक्ष्य तक पहुंच पाई। जवाब में गुजरात की टीम मात्र 104 रन ही बना पाई। मैच 6 ईडेन गार्डेन का क्राउड़ भी विराट और एबी की शानदार पारियों का गवाह बना। 184 रनों के मुश्किल लक्ष्य का पीछा करने उतरी आरसीबी की टीम ने विराट कोहली और एब डीविलियर्स के अर्धशतकों की मदद से 9 विकेटों से केकेआर के खिलाफ जीत हासिल की। एबी ने इस मैच में 31 गेंदों पर 59 रन बनाए, जिसमे 5 चौके और 3 छक्के शामिल रहे। मैच 7 बैंगलोर के चिन्नास्वामी स्टेडियम में हुए पहले क्वालिफायर में गुजरात लायंस और रॉयल चैलंजर्स बैंगालोर के बीच में हुआ। यह मुकाबला जीतने वाली टीम सीधा फ़ाइनल खेलने वाली थी और हारने वाली टीम एलीमिनेटर में जीतने वाली टीम से होने वाला है। अपने घरेलू दर्शको के समर्थन के बीच आरसीबी ने गुजरात को 158 रनों पर रोक दिया और सभी को उम्मीद थी कि बल्लेबाज़ी की मददगार विकेट पर आरसीबी यह लक्ष्य आसानी से हासिल कर लेगी। आरसीबी ने इस लक्ष्य को अपने लिए बहुत बड़ा बना दिया और एक समय टीम का स्कोर 29-5 था, टीम के स्टार बल्लेबाज़ विराट भी बिना खाता खोले आउट हो गए थे। मैच जीतने का सारा दबाव एबी पर था और उन्होनें निराश ना करते हुए 47 गेंदो पर नाबाद 79 रन बनाए,जिसमें 5 चौके और 5 छक्के शामिल रहे। उन्होंने अब्दुल्ला के साथ मिलकर 91 रनो की साझेदारी की, जिससे उन्होंने यह लक्ष्य 10 गेंद रहते पूरा कर लिया। दोनों खिलाड़ियो की जबर्दस्त फॉर्म को देखते हुए आरसीबी की टीम 29 मई को होने वाले फ़ाइनल में कोहली और डीविलियर्स के दम पर पहली बार ट्रॉफी अपने नाम करना चाहेंगी। दोनों खिलाड़ियो की जबर्दस्त फॉर्म को देखते हुए ये काम ज्यादा मुश्किल भी नही है। लेखक- सयन मुखर्जी , अनुवादक- मयंक महता

Edited by Staff Editor