Create
Notifications
Favorites Edit
Advertisement

ऐसे दिग्गज जिन्होंने 100 से ज़्यादा टेस्ट मैच खेलने के बाद भी लिए सिर्फ़ एक विकेट

49   //    21 May 2018, 09:15 IST
सीमित ओवर क्रिकेट के विपरीत टेस्ट क्रिकेट विशेषज्ञ खिलाड़ियों का खेल है और प्रत्येक खिलाड़ी टीम में अपनी विशेषज्ञता के आधार पर टीम में अपनी जगह बनाता है चाहे वो गेंदबाज़ हो या बल्लेबाज़।

टेस्ट मैच में प्रत्येक टीम अपने विशेषज्ञ खिलाड़ियों के साथ मैदान में उतरती है और हर खिलाड़ी की भूमिका अच्छी तरह निर्धारित होती है। ऐसे में टेस्ट मैच के दौरान अगर कोई विशेषज्ञ बल्लेबाज़ गेंदबाज़ी में हाथ आज़माये, ऐसा काफी कम देखने को मिलता है। लेकिन कई ऐसे बल्लेबाज़ हैं जिन्होंने 100 से ज़्यादा टेस्ट मैच खेले और कई रिकॉर्ड बनाए लेकिन गेंदबाज़ी में सिर्फ एक विकेट लेने में कामयाब हुए।

राहुल द्रविड़




 

राहुल द्रविड़ क्रिकेट इतिहास के महानतम खिलाड़ियों में से एक रहे हैं। भारतीय टीम में रहते हुए उन्होंने शीर्ष क्रम से लेकर निचले क्रम तक बल्लेबाज़ी और टीम में किसी विशेषज्ञ विकेटकीपर के ना होने पर विकेटकीपिंग तक की है।

राहुल द्रविड़ क्रिकेट इतिहास के महानतम खिलाड़ियों में से एक रहे हैं। भारतीय टीम में रहते हुए उन्होंने शीर्ष क्रम से लेकर निचले क्रम तक बल्लेबाज़ी और टीम में किसी विशेषज्ञ विकेटकीपर के ना होने पर विकेटकीपिंग तक की है।

2002 में विंडीज के ख़िलाफ चौथे टेस्ट में सौरव गांगुली ने उन्हें गेंद थमाई थी। द्रविड़ ने अपने पर दिखाए भरोसे को टूटने नहीं दिया और शिवनारायण चंद्रपॉल और रिडले जैकब्स (118) के बीच 166 रन की सांझेदारी को तोड़ा। उस समय शानदार फॉर्म में चल रहे रिडले जैकब्स को उन्होंने लक्ष्मण के हाथों कैच आउट करवाया था।

असल में, एंटीगुआ के सेंट जॉन मैदान के निर्जीव विकेट ने गांगुली को भारतीय टीम के सभी ग्यारह सदस्यों से गेंदबाज़ी कराने के लिए मजबूर कर दिया था। ग़ौरतलब है कि द्रविड़ ने अपने वनडे करियर में भी गेंदबाज़ी की है और 4 विकेट अपने नाम किये हैं।
1 / 9 NEXT
Advertisement
Advertisement
Fetching more content...