भारतीय टीम में जगह पाने के लिए यो यो टेस्ट होगा सभी खिलाड़ियों के लिए अनिवार्य

Rahul

भारतीय क्रिकेट टीम को विश्व की सबसे फिट टीम बनाने के लिए भारतीय क्रिकेट बोर्ड ने अहम फैसला लिया है। बीसीसीआई ने राष्ट्रीय टीम में जगह पाने वाले खिलाड़ियों के लिए 'यो यो टेस्ट' अब अनिवार्य कर दिया है। यह नियम सभी खिलाड़ियों पर लागू किया जायेगा, जिसमें सिर्फ टेस्ट क्रिकेट खेलने वाले खिलाड़ी भी शामिल हैं। यह नियम खिलाड़ियों की फिटनेस को बेहतर करने को ध्यान में रख कर अनिवार्य किया गया है। बीसीसीआई के सीईओ राहुल जौहरी ने एक निजी न्यूज़ पेपर से कहा कि यह नियम सभी खिलाड़ियों के लिए आवश्यक होगा। राष्ट्रीय टीम के कप्तान, कोच और चयन समिति अपने सभी मेम्बर्स से सलाह लेकर टीम मैनेजमेंट के साथ मिलकर इस नियम और टेस्ट के मापदंड तय करेंगे। सभी मापदंड टीम मैनेजमेंट के आदेशों पर तय करने पर खिलाड़ियों को टीम में जगह पाने के लिए इस टेस्ट को पास करना होगा। सभी ख़िलाड़ी इस टेस्ट के माध्यम से अपने चयन को राष्ट्रीय टीम के लिए पुख्ता करेंगे। 'यो यो टेस्ट' के प्रयोग को भारतीय क्रिकेट टीम में जगह पाने वाले खिलाड़ियों के लिए अनिवार्य करना सही फैसला समझा गया है। 'यो यो टेस्ट' खिलाड़ियों के मौजूदा समय की फिटनेस को बयां करता है। भारतीय क्रिकेट में 'यो यो टेस्ट' का प्रचलन साल 2012 से शुरू हुआ था। जब युवा ख़िलाड़ी और अनुभवी खिलाड़ियों की फिटनेस को लेकर लगातार चर्चाएँ की जा रही थी। हाल ही में भारतीय टीम के स्टार ख़िलाड़ी युवराज सिंह और सुरेश रैना एनसीए में हुए 'यो यो टेस्ट' में सफल नहीं हो पाए थे तो दूसरी तरफ टीम के दिग्गज तेज गेंदबाज आशीष नेहरा ने इस टेस्ट को पास कर अपनी जगह ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टी20 सीरीज में भारतीय टीम के लिए बना ली।

Edited by Staff Editor