मौजूदा दौर के 4 ऐसे गेंदबाज़ों पर एक नज़र जो हर फ़ॉर्मेट में प्रभावशाली हैं

मौजूदा दौर का क्रिकेट कैलेंडर मैच से पूरी तरह से खचाखच भरा हुआ रहता है। क्रिकेटर्स को दुनियाभर में मैच खेलने होते हैं, इस अलावा कई खिलाड़ी दुनियाभर की टी-20 लीग के लिए टूर्नामेंट भी खेलते हैं। ऐसे में कई खिलाड़ियों को थकान की शिकायत भी रहती है, ख़ासकर तेज़ गेंदबाज़ों पर दबाव कुछ ज़्यादा ही रहता है। कई खिलाड़ी पूरी तरह से टी-20 को लेकर समर्पित हो चुके हैं और दुनिया की कई टी-20 लीग टीम के हिस्सा बन चुके हैं। कई खिलाड़ी ऐसे हैं जो प्रथम श्रेणी मैच खेलने से साफ़ इंकार कर चुके हैं, यही वजह है कि वो टेस्ट मैच खेलने को लेकर इतने सहज नहीं हो पाते हैं। ऐसे में काफ़ी कम खिलाड़ी टेस्ट को लेकर अपना ध्यान लगा पाते हैं। सीमित ओवर के खेल में जल्द बदलाव देखने को मिलता है, जो टेस्ट क्रिकेट में अकसर नहीं होता। हम यहां ऐसे 4 गेंदबाज़ों को लेकर चर्चा कर रहे हैं जो क्रिकेट की तीनों फ़ॉर्मेट में अच्छी गेंदबाज़ी कर सकते हैं।

#4 शाक़िब-अल-हसन

शाक़िब-अल-हसन की गिनती बांग्लादेश के महानतम बल्लेबाज़ों में की जाती है। हर फ़ॉर्मेट में अपनी टीम के लिए सबकुछ हैं। उनके हरफ़नमौला हुनर का हर कोई कायल है। साक़िब हर तरह के फ़ॉर्मेट में अपने खेल का संतुलन बनाए रखते हैं। वो अपनी टीम के लिए एक अहम धोरहर हैं। ये कहना ग़लत नहीं होगा कि वो मौजूदा वक़्त के सर्व गुण संपन्न क्रिकेटर हैं। साल 2017 से लेकर अब तक टेस्ट क्रिकेट में साक़िब की गेंदबाज़ी अच्छी रही है। 8 टेस्ट मैच में उन्होंने 31 विकेट हासिल किए हैं। इसके अलावा साल 2017 से लेकर अब तक उन्होंने 15 वनडे मैच में 19 विकेट अपने नाम किए हैं। इसी दौरान उन्होंने 12 टी-20 अंतरराष्ट्रीय मैच भी खेला है और अच्छा खेल दिखाया है। हाल में ही उन्हें बांग्लादेश की टीम की कप्तानी सौंपी गई है, तब से साक़िब का प्रदर्शन और बेहतर हुआ है। वो साल 2019 के वर्ल्ड कप के लिए अपनी टीम के सबसे अहम खिलाड़ी हैं।

#3 टिम साउदी

न्यूज़ीलैंड के तेज़ गेंदबाज़ टिम साउदी पिछले 8 सालों से हर फ़ॉर्मेट में अपनी टीम को सेवाएं दे रहे हैं। साउदी उन पेस गेंदबाज़ों की नस्ल से हैं जो पेस से ज़्यादा स्विंग पर भरोसा करते हैं। वो कीवी टीम के लिए हर फ़ॉर्मेट में स्ट्राइक गेंदबाज़ हैं। टीम साउदी ने 60 टेस्ट, 133 वनडे औ 5द टी-20 अंतरराष्ट्रीय मैच खेला है, जिसमें क्रमश: 220, 176 और 62 विकेट हासिल किया है। टिम साउदी और ट्रेट बोल्ट की जोड़ी दुनिया की सबसे घातक तेज़ गेंदबाज़ों की जोड़ियों में से एक है। पिछले डेढ़ साल में साउदी ने 6 टेस्ट मैच खेले हैं और 30 विकेट हासिल किए हैं। वो न्यूज़ीलैंड की वनडे टीम का भी अहम हिस्सा रहे हैं और उन्होंने भारत के ख़िलाफ़ अक्टूबर 2017 और इस साल इंग्लैंड के ख़िलाफ़ शानदार प्रदर्शन किया था। टी-20 अंतरराष्ट्रीय में साउदी का प्रदर्शन बेहतरीन रहा है और इस साल 9 मैच में उन्होंने 11 विकेट हासिल किए हैं

#2 ट्रेंट बोल्ट

पिछले कई सालों से टीम साउदी न्यूज़ीलैंड टीम के संकटमोचक गेंदबाज़ रहे हैं, हांलाकि मौजूदा वक़्त में ये उपाधि ट्रेंट बोल्ट को मिल चुकी है। पिछले 3 सालों से लगातार वो तीनों फ़ॉर्मेट में अपना जलवा बरक़रार रखे हुए हैं। अन्य कीवी गेंदबाज़ों की तरह बोल्ट भी हर हालात का सामना करने के लिए हमेशा तैयार रहे हैं। उनमें हर वो ख़ूबी एक जो एक बेहतरीन गेंदबाज़ में होनी चाहिए। उन्होंने 54 टेस्ट, 66 वनडे और 25 टी-20 अंतरराष्ट्रीय मैच खेले हैं जिनमें क्रमश: 215, 122 और 37 विकेट हासिल किए हैं। वो घातक पेस गेंदबाज़ी करते हैं और साथ ही साथ वो स्विंग करने में भी माहिर हैं। 2017 से लेकर अब तक उन्होंने 7 टेस्ट मैच खेले हैं जिनमें 42 विकेट लिए हैं। इसी दौरान उन्होंने 25 वनडे मैच में 49 विकेट अपने नाम किए हैं। इसके अलावा उन्होंने 14 टी-20 अंतरराष्ट्रीय मैच में 22 खिलाड़ियों को पवेलियन वापस भेजा है।

#1 भुवनेश्वर कुमार

भुवनेश्वर कुमार में सबसे ख़ास बात ये है कि वो दोनों तरह से गेंद को स्विंग कर सकते हैं, यही वजह है कि आज वो टीम इंडिया के लिए धरोहर की तरह हैं। शुरुआती दौर में वो सीमित ओवर के अच्छे खिलाड़ी बन गए थे, लेकिन पिछले 2 सालों में वो टेस्ट में भी बेहतरीन प्रदर्शन कर रहे हैं। उत्तर प्रदेश के इस खिलाड़ी ने 21 टेस्ट, 86 वनडे और 29 टी-20 अंतरराष्ट्रीय मैच खेले हैं जिनमें क्रमश: 63, 90 और 29 विकेट हासिल किए हैं। सीमित ओवर के खेल में वो अकसर यॉर्कर गेंद फेंकते हैं जो घातक है। कोलकाता में श्रीलंका के ख़िलाफ़ शानदार गेंदबाज़ी की बदौलत उन्होंने टेस्ट टीम में अपनी जगह पक्की कर ली है। लेखक- अथर्व आप्टे अनुवादक- शारिक़ुल होदा

App download animated image Get the free App now