18 साल बाद रग्बी खेलने उतरे ब्रेंडन मैकलम , चोट लगने के कारण होना पड़ा मैदान से बाहर

न्यूजीलैंड क्रिकेट टीम के पूर्व बल्लेबाज ब्रैंडन मैकलम ने अपनी विस्फोटक बल्लेबाजी से पूरी दुनिया में अपनी छाप छोड़ी है। लेकिन बहुत ही कम लोग यह बात जानते होंगे कि मैकुलम न सिर्फ एक बेहतरीन क्रिकेटर हैं, बल्कि एक रग्बी प्लेयर भी हैं। शायद ये बात बहुत कम लोगों को पता हो कि रग्बी में उनके शानदार प्रदर्शन के चलते न्यूज़ीलैंड के मशहूर रग्बी खिलाड़ी डेन कार्टर को दक्षिण आइलैंड स्कूल की रग्बी टीम से बाहर रखा गया था। क्रिकेट से संन्यास लेने वाले ब्रैंडन मैकलम 18 साल बाद एक बार फिर रग्बी के मैदान पर नजर आए। इस दौरान उन्होंने जमकर मैच का लुत्फ उठाया। मैकुलम ने 18 साल तक बेशक रग्बी के मैदान में कदम न रखा हो, लेकिन यह खिलाड़ी अभी भी खेल के दाव पेंच में माहिर है। मैकलम ने इसकी जानकारी सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म ट्विटर पर दी। उन्होंने अपने आधिकारिक टिवटर हैंडल पर लिखा कि 18 साल में पहली बार वह यूनाइटेड माटामाटा बी टीम के लिए मैदान में उतरे। हालांकि इस मैच में मैकलम अपनी टीम को जीत नहीं दिला सके।

बता दें कि इस मैच में उनकी शुरुआत तो बेहतर रही, लेकिन उन्हें चोट लगने के कारण मैदान से बाहर जाना पड़ा। यह मुकाबला क्लब स्तर पर खेला गया था। बाद में अपनी चोट के बारे में मैकलम ने कहा कि वह ठीक हैं। इस मैच के बाद डॉक्टर्स की रिपोर्ट में पता चला है कि उनको ग्रोइन इंजरी हो गई। मैकलम ने इस दौरान अपने पुराने दिनों को याद किया। उन्होंने कहा कि जब वो हाईस्कूल में थे तब स्कूल में रग्बी खेलते थे। गौरतलब है कि हाल में भारत में संपन्न इंडियन प्रीमियर लीग के 11 वें सीज़न में मैकलम ने रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर की ओर से टूर्नामेंट में हिस्सा लिया था। हालांकि इस दौरान उन्हें 6 मैच ही खेलने को मिले। उन्होंने इस दौरान 144.31 की स्ट्राइक रेट से कुल 127 रन बनाए। इस दौरान उनका सर्वाधिक स्कोर 43 रन रहा।

Edited by Staff Editor