देश में क्रिकेट को बढ़ावा देने के लिए चीन ने मांगी क्रिकेट एसोसिएशन ऑफ बंगाल से मदद

कोलकाता में श्री झा लियू के नेतृत्व में तीन सदस्यीय चीनी प्रतिनिधिमंडल ने सीएबी के अध्यक्ष अविषेक डालमिया से मुलाकात की
कोलकाता में श्री झा लियू के नेतृत्व में तीन सदस्यीय चीनी प्रतिनिधिमंडल ने सीएबी के अध्यक्ष अविषेक डालमिया से मुलाकात की

क्रिकेट का प्रसार पूरे विश्व में काफी तेजी से हो रहा है और चीन भी इसका हिस्सा बनने की होड़ में हैं। चीन में क्रिकेट की शुरुआत तो हो चुकी है, लेकिन इसमें अच्छा भविष्य बनाने के लिए उन्हें काफी काम करने की जरूरत है। चीन में क्रिकेट को बढ़ावा देने के लिए चीन का एक दल क्रिकेट एसोसिएशन ऑफ बंगाल (CAB) के अध्यक्ष से मिला है। इस दल ने CAB से चीन में क्रिकेट को सपोर्ट करने की मांग की है।

चीन के तीन सदस्यीय दल ने अविशेक डालमिया से मुलाकात करते हुए एक प्रपोजल दिया है और उनके साथ क्रिकेटिंग रिलेशन बनाने की मंशा जाहिर की है। इस मुलाकात पर डालमिया ने कहा,

चीन का एक दल CAB के पास आया था और उन्होंने चीन में क्रिकेट को बढ़ावा देने के लिए हमसे मदद मांगी है। हम क्रिकेट को विश्व में फैलाने में भरोसा रखते हैं और इसी कारण हमने उन्हें भरोसा दिलाया है कि हम उनकी मदद करेंगे। हमने हमेशा भूटान और बांग्लादेश क्रिकेट की मदद की है। हम बांग्लादेश क्रिकेट के साथ कई प्रोग्राम में काम कर रहे हैं। उन्हें अपने युवा खिलाड़ियों के लिए कुछ दोस्ताना मैच चाहिए। वे चाहते हैं कि उनके लड़के यहां आएं। उनके कोच यहां आकर हमसे ट्रेनिंग ले सकते हैं। चीन इसे काफी गंभीरता से ले रहा है।

चीन के नौ शहरों में खेला जाता है क्रिकेट

चीन की क्रिकेट टीम को 2004 में ICC ने मान्यता दी थी और 2017 में उन्हें एसोसिएट मेंबर बनाया गया था। 2009 में चीन ने ईरान के खिलाफ अपना पहला इंटरनेशनल मुकाबला खेला था। अप्रैल 2018 में ICC ने सभी सदस्यों को पूर्णरूप से टी20 टीम का दर्जा दिया था। 1858 से 1948 के बीच चीन की सबसे बड़ी क्लब संघाई क्रिकेट क्लब ने कई टीमों के खिलाफ मुकाबले खेले। चीन के नौ शहरों में अब क्रिकेट खेला जा रहा है। 150 से अधिक स्कूल भी इसमें शामिल हो चुके हैं।

Edited by Prashant Kumar