महेंद्र सिंह धोनी ने मेरी शतकीय पारी को नहीं सराहा: फखर जमान

पाकिस्तान के सलामी बल्लेबाज फखर जमान ने चैंपियंस ट्राफी के फाइनल में जबरदस्त शतक लगाकर टीम की जीत में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। बाएं हाथ के इस बल्लेबाज ने 114 रनों की पारी खेलकर गत विजेता भारत का लगातार दूसरी बार ख़िताब पर कब्जा करने का सपना तोड़ दिया। इस पारी की सराहना पुरे विश्व के क्रिकेट प्रशंसकों ने की लेकिन फखर इस बात से काफी निराश हैं कि धोनी ने शतक बनाने के बाद उनकी सराहना नहीं की। PakPassion.net से फखर ने बताया "मैं इस बात से थोड़ा निराश हुआ कि मेरा शतक पूरा होने पर धोनी ने कोई खास प्रतिक्रिया नहीं दी"। भारतीय कप्तान विराट कोहली द्वारा उनकी पारी को सराहे जाने पर फखर को आश्चर्य हुआ। इस बारे में फखर ने कहा कि जब मैं शुरुआत में बल्लेबाजी कर रहा था तब कोहली और अन्य खिलाड़ी मुझे कुछ-कुछ बोल रहे थे। उसके बाद जब मैंने अपना शतक पूरा किया तो मुझे लगा कि कोई प्रतिक्रिया नहीं देगा लेकिन जब मैंने कोहली की तरफ देखा तो उनका सिर नीचे की तरफ था पर वो ताली बजा रहे थे। फाइनल मैच ने जब फखर 3 रन के निजी स्कोर पर थे तभी जसप्रीत बुमराह का शिकार हो गये थे लेकिन किस्मत ने फखर का साथ दिया और अंपायर ने उस गेंद को नो-बॉल करार दे दिया। फखर ने कहा "जब मैं आउट हो गया, तो मेरा दिल टूट गया। मैं धीरे-धीरे पवेलियन की तरफ वापस लौटने लगा। मैं बस यही सोच रहा था कि मैंने कैसे अपना विकेट फेंक दिया लेकिन जब अंपायर ने मुझे रुकने को कहा तो मेरे जान में जान आ गयी और मैंने सोचा अगर यह नो-बॉल निकला तो आज मेरा दिन होगा"। फखर ने यह भी बताया इंग्लैंड और भारत के खिलाड़ियों ने उनके साथ स्लेजिंग करने की कोशिश की लेकिन भाषा ना समझने की वजह से उनके कोई फर्क नहीं पड़ा। इंग्लैंड के खिलाफ हुए सेमीफाइनल मैच में भी फखर ने 57 रनों की पारी खेली थी और अजहर अली के साथ पहले विकेट के लिए शतकीय साझेदारी निभाई थी।

Edited by Staff Editor