Create
Notifications
New User posted their first comment
Advertisement

1970 और 1980 के दशक के खिलाड़ियों की ड्रीम आईपीएल एकादश

Rahul Pandey
ANALYST
Modified 25 Feb 2018, 11:03 IST
Advertisement

  इंडियन प्रीमीयर लीग (आईपीएल) एक ऐसा आकर्षक और क्रांतिकारी टूर्नामेंट रहा है, जिसने भारतीय क्रिकेट का चेहरा बदलने में अहम भूमिका निभाई है। यह एक ऐसा टूर्नामेंट बनकर उभरा है जो न कि सिर्फ भारत बल्कि विश्व भर में नई प्रतिभाओं को भी खोजता रहा है। अपनी 10 साल की लंबी यात्रा में, आईपीएल खिलाड़ियों, फ्रैंचाइजी और बीसीसीआई के लिए एक पैसों की बरसात करने वाले स्रोत के रूप में उभरा रहा है, और वर्तमान में यह खिलाड़ियों को अपनी प्रतिभा दिखाने के लिए सबसे बड़े प्लेटफार्मों में से एक माना जाता है। क्रिकेट भारत में एक धर्म की तरह है और आईपीएल को शायद इस धर्म के सबसे बड़े त्योहार के रूप में भी मनाया जाता है। सिर्फ यह सोचते ही कि 1970 और 1980 के युग में आईपीएल होता तो खेल का रोमांच किस हद तक रहा होता। उन खतरनाक तेज गेंदबाजों, चतुर स्पिनरों, और पुरानी तकनीक के निडर बल्लेबाजों के रहते उस दौर में इन खिलाड़ियों को आपस में मैदान पर टकराते हुए देखना एक अलग ही दृश्य रहा होता। ऐसे में सितारों के उस दौर की आईपीएल इलेवन को बनाना निश्चित रूप से एक कठिन काम  है। यहां, हम एक ऐसी आईपीएल ड्रीम इलेवन बना रहे हैं जिसमें 70 और 80 के दशक के खिलाड़ियों को शामिल किया जा रहा है। इस टीम की कमान महान ऑलराउंडर कपिल देव के कंधों पर है। नोट - आईपीएल के चार विदेशी खिलाड़ियों के नियम को यहां पर लागू किया गया है।  

# 1 सलामी बल्लेबाज

कृष्णामाचारी श्रीकांत

  रूढ़िवादी बल्लेबाजी शैली के युग में, श्रीकांत थोड़ा अपरंपरागत खिलाड़ी हुआ करते थे। उन्होंने भारत के लिए हमेशा पहली ही गेंद से आक्रामक बल्लेबाज़ी की। प्रशंसकों ने उनकी बल्लेबाजी को बहुत ही और उनकी बल्लेबाज़ी का स्तर यह रहा कि दुनिया भर के शीर्ष गेंदबाज भी उनसे डरने लगे थे। उनका हाथ और आँख का समन्वय उनकी बेहिचक बैटिंग का महत्वपूर्ण भाग था और इसलिए, श्रीकांत बिना किसी तरह के सवाल के हमारी ड्रीम आईपीएल इलेवन में सलामी बल्लेबाज के रूप में फिट बैठते है।  
Advertisement

रवि शास्त्री

  भारत के मौजूदा प्रमुख कोच, रवि शास्त्री ने 10 वे नंबर पर एक बल्लेबाज़ी करने वाले एक गेंदबाज के रूप में कैरियर शुरू किया। उन्होंने धीरे-धीरे अपने बल्लेबाजी कौशल में सुधार लाया और अंततः टीम इंडिया के लिए सलामी बल्लेबाज बन गये। एक ओवर में युवराज सिंह के छः छक्के से पहले, शास्त्री ने एक प्रथम श्रेणी मैच में इस उपलब्धि को हासिल किया था। शास्त्री के लंबे छक्के लगाने की क्षमता उन्हें हमारी ड्रीम आईपीएल इलेवन का दूसरा सलामी बल्लेबाज़ बनाता है।
1 / 5 NEXT
Published 25 Feb 2018, 11:03 IST
Advertisement
Fetching more content...
App download animated image Get the free App now
❤️ Favorites Edit