Create

ईसीबी ने अंतरराष्‍ट्रीय या प्रमुख मुकाबलों की मेजबानी से यॉर्कशायर को निलंबित किया

ईसीबी ने यॉर्कशायर को अंतरराष्‍ट्रीय या प्रमुख मैचों की मेजबानी से निंलबित किया
ईसीबी ने यॉर्कशायर को अंतरराष्‍ट्रीय या प्रमुख मैचों की मेजबानी से निंलबित किया
Vivek Goel

इंग्‍लैंड एंड वेल्‍ड क्रिकेट बोर्ड (ECB) ने यॉर्कशायर (Yorkshire) को अंतरराष्‍ट्रीय या प्रमुख मुकाबलों की मेजबानी करने से निलंबित कर दिया है। देश में पूर्व खिलाड़ी अजीम रफीक (Azeem Rafiq) द्वारा लगाए नस्‍लीय आरोपों की जांच में यह फैसला लिया गया है।

बोर्ड ने कहा कि ईसीबी की अपनी जांच पूरी होने के बाद वह वित्तीय और भविष्य के प्रमुख मैच आवंटन प्रतिबंधों पर भी विचार करेगा।

ईसीबी ने गुरुवार दोपहर को मौजूदा स्थिति पर चर्चा करने के लिए बैठक की, जिसे उन्होंने एक बयान में 'खराब और क्रिकेट की भावना व इसके मूल्यों के खिलाफ' करार दिया।

उन्‍होंने कहा कि यह स्‍पष्‍ट है कि यॉर्कशायर क्रिकेट क्‍लब के शासन और प्रबंधन के संबंध में गंभीर सवाल हैं।

रफीक ने यॉर्कशायर में अपने समय के लिए कई आरोप लगाए कि वह नस्‍लीय टिप्‍पणियों के शिकार हुए। उनका मजाक बनाया गया। यॉर्कशायर द्वारा कमीशन की गई एक स्‍वतंत्र रिपोर्ट में पाया गया कि रफीक नस्‍लीय टिप्‍पणी और मजाक का शिकार हुए।

हालांकि, काउंटी ने साथ ही पुष्टि की थी कि वो अपनी आंतरिक समीक्षा के बाद उन्‍होंने किसी खिलाड़ी, कमर्चारी या स्‍टाफ पर कोई अनुशासनात्‍मक कार्रवाई नहीं की।

बैलांस ने रफीक को नस्‍लीय टिप्‍पणी करने की बात स्‍वीकारी

गैरी बैलांस ने बताया कि वो उनमें से एक हैं, जिन्‍होंने अपने पूर्व यॉर्कशायर टीम साथी अजीम रफीक के खिलाफ नस्‍लीय शब्‍द का उपयोग किया था। बैलांस ने कहा कि उन्‍हें इस बात का गहरा पछतावा है कि उन्‍होंने ऐसे खिलाड़ी के खिलाफ शब्‍द का उपयोग किया, जिस रफीक को वो अपना करीबी दोस्‍त और क्रिकेट में समर्थक मानते हैं।

बैलांस ने अपने बयान में लिखा, 'ईमानदारी से कहूं, मुझे बहुत पछतावा है कि युवा उम्र में मैंने बहुत खराब भाषा का प्रयोग किया। स्‍वतंत्र कार्रवाई में सभी सबूतों को सुनने के बाद स्‍वीकार किया कि भाषा का कुछ हिस्‍सा दोस्‍तों के बीच होने वाले मजाक पर आधारित था और इससे किसी की भावनाओं को ठेस नहीं पहुंचाना थी। रफीक के साथ मेरी दोस्‍ती काफी गहरी है और मुझे दुख है कि वो यहां आ पहुंची है।'

उन्‍होंने आगे कहा, 'चूकि हम इतने करीबी दोस्‍त हैं और काफी समय साथ बिताया है तो हम एक-दूसरे को निजी तौर पर बातें कहते हैं, तो कि स्‍वीकार्य नहीं। अगर ऐसी रिपोर्ट दी जाती कि मैंने नस्‍लीय टिप्‍पणी की तो मैंने स्‍वतंत्र कार्रवाई में स्‍वीकार किया कि मैंने ऐसा किया और इसका मुझे पछतावा है।'


Edited by Vivek Goel

Comments

comments icon
Fetching more content...