Create
Notifications

ENG v IND: लॉर्ड्स में दादा की तरह इस बार कोहली दिखा सकते हैं दादागीरी, भारत की नज़र सीरीज़ जीत पर

Syed Hussain
ANALYST
Modified 14 Jul 2018

टी20 सीरीज़ में 2-1 से जीत और फिर 3 मैचों की वनडे श्रृंखला के पहले वनडे में मेज़बानों को चित करते हुए कोहली एंड कंपनी ने अपनी दादागीरी क़ायम रखी है। भारत और इंग्लैंड के बीच सीरीज़ का दूसरा और अहम मुक़ाबला आज दोपहर 3.30 बजे से क्रिकेट के मक्का कहे जाने वाले लॉर्ड्स क्रिकेट ग्राउंड पर खेला जाएगा। कोहली एंड कंपनी की नज़र इसे जीतते हुए सीरीज़ पर कब्ज़ा जमाने के साथ साथ टेस्ट के बाद वनडे की भी नंबर-1 टीम बनने की ओर क़दम बढ़ाने पर होगा।  

मेज़बानों के लिए करो या मरो का मैच, कोहली दोहराना चाहेंगे दादा का इतिहास

  16 साल पहले इसी मैदान पर 13 जुलाई को भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान सौरव गांगुली ने इंग्लैंड को नैटवेस्ट सीरीज़ में मात देते हुए अपनी जर्सी लहराई थी। वह तस्वीर सभी के ज़ेहन में आज भी ज़िंदा है, इत्तेफ़ाक़ से उस मैच के हीरो रहे मोहम्मद कैफ़ ने भी 13 जुलाई यानी उसी ऐतिहासिक जीत के ठीक 16 साल बाद संन्यास का ऐलान कर दिया।     और अब विराट कोहली के पास भी इसी मैदान पर उस इतिहास को दोहराने का मौक़ा होगा, क्योंकि अगर भारत ने लॉर्ड्स वनडे जीता तो 3 मैचों की सीरीज़ पर एक मैच पहले ही कब्ज़ा हो जाएगा। हालांकि, मेज़बान टीम पूरी कोशिश करेगी कि ऐसा न हो और लॉर्ड्स में पलटवार करते हुए सीरीज़ को रोमांचक बनाया जाए।  

चाइनामैन के चक्रव्यूह में फिर फसेंगे इंग्लैंड ?

  पहले टी20 में 5 शिकार और फिर वनडे में 6 शिकार करते हुए भारत के चाइनामैन गेंदबाज़ कुलदीप यादव ने अंग्रेज़ों के दिमाग़ में एक अजीब का ख़ौफ़ पैदा कर दिया है। कुलदीप की फिरकी का तोड़ किसी भी इंग्लिश बल्लेबाज़ के पास नज़र नहीं आ रहा और अगर लॉर्ड्स में भी कुलदीप का जादू चल गया तो फिर मेज़बान टीम मुश्किल में फंस जाएगी। हालांकि इंग्लैंड के कप्तान इयोन मोर्गन ने कुलदीप को कोई ख़ौफ़ मानने से इंकार किया है और साफ़ कहा है कि टी20 में भी हमने उनके ख़िलाफ़ पलटवार किया था और लॉर्ड्स में भी हमारे बल्लेबाज़ कुछ इसी इरादे के साथ उतरेंगे।  

कोहली के लिए अब तक सब कुछ रहा है शानदार

  इस दौरे से पहले विराट कोहली पर अतिरिक्त दबाव था और उसका कारण था इंग्लैंड में इंग्लैंड के ख़िलाफ़ उनका फ़ॉर्म। लेकिन कोहली एक अलग लक्ष्य के साथ इंग्लैंड पहुंचे हैं और ये उनकी बल्लेबाज़ी में भी दिख रहा है, ट्रेंट ब्रिज में भी विराट ने जिस अंदाज़ में 75 रन बनाए हैं वह क़ाबिल-ए-तारीफ़ है। साथ ही साथ रोहित शर्मा, शिखर धवन, केएल राहुल और सुरेश रैना का बल्ले से फ़ॉर्म में होना उन्हें काफ़ी सुखद अहसास करा रहा है। हालांकि गेंदबाज़ी में जसप्रीत बुमराह का सीरीज़ से बाहर होना और फिर भुवनेश्वर कुमार के कमर के दर्द ने उन्हें थोड़ा परेशान ज़रूर किया। लेकिन कुलदीप यादव और युज़वेंद्र चहल की स्पिन जोड़ी ने उनकी इस चिंता को भी ख़त्म करते हुए हर विभाग में उनके प्रयोग को सफल बना दिया है।  

नंबर-7 को 10 हज़ार क्लब में शामिल होने के लिए चाहिए 33 रन

  इस मैच में एक बड़ा कीर्तिमान जिसपर सभी की नज़रें होंगी वह है महेंद्र सिंह धोनी के 10 हज़ार क्लब में शामिल होने पर। धोनी वनडे क्रिकेट करियर में 10 हज़ार रन बनाने से महज़ 33 रन दूर हैं, ऐसा करते ही वह भारत के एकमात्र और कुमार संगकारा के बाद दुनिया के सिर्फ़ दूसरे विशेषज्ञ विकेटकीपर बल्लेबाज़ बन जाएंगे। विश्व में अब तक सिर्फ़ 11 खिलाड़ियों ने वनडे करियर में 10 हज़ार से ज़्यादा रन बनाए हैं, लेकिन इनमें से किसी भी बल्लेबाज़ की औसत 50 या उससे से ज़्यादा की नहीं है जबकि माही की औसत 51 से भी ऊपर है।  

पिच का पेंच और मौसम का मिज़ाज

  अब बात पिच की जो इस सीरीज़ में अहम किरदार निभाएगी, ट्रेंट ब्रिज की पाटा पिच के बाद लॉर्ड्स की इस पिच पर गेंदबाज़ थोड़ी राहत महसूस कर सकते हैं। पारंपरिक तौर पर लॉर्ड्स की पिच तेज़ गेंदबाज़ों को उछाल प्रदान करती है और थोड़ी सीम भी होती है। हालांकि इसमें मौसम का भी किरदार अहम होता है, क्योंकि अगर आसमान में बादल छाए रहे तो फिर पिच पर मौजूद घास तेज़ गेंदबाज़ों के माक़ूल रहेगी। पर मौसम वैज्ञानिकों ने यहां भी पूरी तरह से मौसम साफ़ रहने की संभावना जताई है जिसका मतलब ये हुआ कि बल्लेबाज़ों के लिए मदद ज़्यादा रहेगी। एक बात का ध्यान ये भी रखना ज़रूरी है कि ये मुक़ाबला दिन रात्रि का नहीं है यानी मैच इंग्लैंड के अनुसार सुबह में शुरू होगा लिहाज़ा पहले गेंदबाज़ी करने वाली टीम को पिच से थोड़ी नमी तो मिल सकती है।  

क्या होगी इंग्लैंड और भारत की संभावित एकादश ?

  इंग्लैंड के लिए एक बड़ा झटका ये ज़रूर है कि एलेक्स हेल्स पूरी सीरीज़ से बाहर हो गए हैं और उनकी जगह डेविड मलान को शामिल किया गया है। हालांकि इसकी उम्मीद बेहद कम है कि ट्रेंट ब्रिज में हार मिलने के बावजूद मेज़बान टीम में कोई बदलाव नज़र आए। जिसका मतलब हुआ कि लॉर्ड्स में भी वही 11 खेल सकते हैं जो पिछले वनडे में खेले थे। दूसरी तरफ़ भारत के लिए भी भुवनेश्वर कुमार को लेकर तस्वीर अब तक साफ़ नहीं है, अगर उन्हें थोड़ी भी तक़लीफ़ है तो फिर टीम मैनेजमेंट आज भी उन्हें आराम देना ही मुनासिब समझेगी। भारत संभावित-XI: रोहित शर्मा, शिखर धवन, केएल राहुल, विराट कोहली, एम एस धोनी, सुरेश रैना, हार्दिक पांड्या, सिद्धार्थ कौल/भुवनेश्वर कुमार, कुलदीप यादव, उमेश यादव और युज़वेंद्र चहल इंग्लैंड संभावित-XI: जॉनी बेयरस्टो, जेसन रॉय, जो रूट, इयोन मोर्गन, जोस बटलर, बेन स्टोक्स, मोइन अली, डेविड विली, आदिल राशिद, लियाम प्लंकेट और मार्क वुड      
Published 14 Jul 2018
Fetching more content...
App download animated image Get the free App now