COOKIE CONSENT
Create
Notifications
Favorites Edit
Advertisement

England vs India: लॉर्ड्स टेस्ट में जीत दर्ज कर सीरीज में बराबर आने के उद्देश्य से मैदान पर उतरेगी भारतीय टीम

SENIOR ANALYST
26   //    09 Aug 2018, 09:14 IST

दो टीमें और दो कप्तान एक बार फिर 22 गज की पिच पर दो-दो हाथ करने के लिए तैयार हैं। एक टीम वह है जो जीत के जोश के साथ आई है, तो दूसरी तरफ शिकस्त को भूलकर एक नए सिरे से नई इबारत लिखने के उद्देश्य से आने वाली विश्व की नम्बर एक टेस्ट टीम है। इंग्लैंड की टीम एजबेस्टन टेस्ट में मिली जीत के जज्बे के साथ वही प्रदर्शन फिर से दोहराने के लिए क्रिकेट का मक्का कहे जाने वाले लॉर्ड्स क्रिकेट ग्राउंड पर उतरेगी। भारतीय टीम अपने 2014 के प्रदर्शन को यहां फिर से दोहराने के उद्देश्य से खेलेगी क्योंकि इंग्लैंड को उस सीरीज में टीम इंडिया ने लॉर्ड्स टेस्ट में पराजित किया था।

ब्रिस्टल मारपीट मामले के चलते बेन स्टोक्स इस बार टीम से बाहर हैं लेकिन इंग्लैंड के पास मोइन अली और क्रिक्स वोक्स के रूप में दो धाकड़ ऑलराउंडर हैं। इन दोनों में से कोई एक टीम में होगा। बल्लेबाजी में डेविड मलान की जगह ऑली पॉप को टीम में शामिल किया गया है। हालांकि यह कहना गलत नहीं होगा कि स्टोक्स के जाने से इंग्लैंड की लाइनअप गड़बड़ाई है। इंग्लैंड को स्टोक्स की कमी पूरा करने की क्षमता रखने वाला ऑलराउंडर ही अंतिम ग्यारह में शामिल करना पड़ेगा।

इंग्लैंड के ऊपरी क्रम ने पहले टेस्ट में ख़ास प्रभाव नहीं छोड़ा था। कुक और जेनिंग्स की जोड़ी कमाल नहीं दिखा पाई थी लेकिन उन पर एक बार फिर भरोसा किया जाना तय नजर आ रहा है। भारत के साथ भी यही समस्या है और शिखर धवन को अंतिम ग्यारह में जगह मिलती हुई नहीं दिख रही है। उनके स्थान पर चेतेश्वर पुजारा को शामिल किया जाना सुनिश्चित लग रहा है। इसके अलावा उमेश यादव के स्थान पर रविन्द्र जडेजा को लाकर कप्तान विराट कोहली एक बार फिर कुछ अलग करते हुए दिख सकते हैं। हालांकि हार्दिक पांड्या को भी बैंच पर बैठना पड़ सकता है। पिच के लिहाज से भारतीय कप्तान ने कहा था कि यह सख्त है और घास सिर्फ इसको पकड़ने के लिए रखी गई है, इस हिसाब से कुलदीप यादव को भी भारतीय टीम में खिलाया जा सकता है।

पिच और मौसम की निश्चितता में कमी ने दोनों टीमों को शंका में डाल दिया है। दोनों ही टीमों के अंतिम ग्यारह के बारे में टॉस के वक्त ही पता चलेगा। शानदार माहौल, उम्दा मैदान और परिणाम प्रदान करने वाला मुकाबला उन सबकी चिंताओं को दूर कर सकता है जो यह सोचते हैं कि लम्बा प्रारूप कहीं न कहीं समाप्त होता जा रहा है।

2014 से अब तक तीन बार एशियाई टीमों ने लॉर्ड्स पर बाजी मारी है और 2 बार मैच ड्रॉ रहे हैं। स्पिनरों के औसत के लिहाज से भी एशियाई गेंदबाजों ने इंग्लिश गेंदबाजों की तुलना में बेहतर गेंदबाजी की है। सीरीज आगे बढ़ने के साथ अजिंक्य रहाणे के प्रदर्शन में भी निखार आता है। उनके 9 टेस्ट शतकों में 5 शतक सीरीज के दूसरे टेस्ट में बने हैं। जेम्स एंडरसन को लॉर्ड्स में 100 विकेट पूरे करने के लिए 6 विकेट चाहिए और अगर वे ऐसा करते हैं तो विशेष स्थल पर यह कारनामा करने वाले दुनिया के पहले तेज गेंदबाज बन जाएंगे।

सूखी और सख्त पिच बल्लेबाजों को ख़ुशी प्रदान कर सकती है। दूसरी तरफ बादलों के घिरे रहने या बारिश जैसा मौसम गेंदबाजों के लिए मददगार साबित हो सकता है। मुकाबला भारतीय समयानुसार दोपहर 3 बजकर 30 मिनट पर शुरू होगा।

इंग्लैंड की टीम में शामिल होने वाले खिलाड़ियों का रास्ता लगभग पहले ही साफ़ किया जा चुका है। महज ऑलराउंडर को लेकर स्थिति स्पष्ट नहीं हो पाई है।

इंग्लैंड की एकादश:

कीटन जेनिंग्स, एलिस्टेयर कुक, जो रूट (कप्तान), ऑली पॉप, जॉनी बेयरस्टो (विकेटकीपर), जोस बटलर, क्रिस वोक्स/मोइन अली, सैम करन, आदिल राशिद, स्टुअर्ट ब्रॉड, जेम्स एंडरसन।

भारत की संभावित एकादश:

मुरली विजय, केएल राहुल, चेतेश्वर पुजारा, विराट कोहली (कप्तान), अजिंक्य रहाणे, दिनेश कार्तिक (विकेटकीपर), रविचंद्रन अश्विन, हार्दिक पांड्या/रविन्द्र जडेजा, मोहम्मद शमी, इशांत शर्मा, उमेश यादव।

 

Topics you might be interested in:
Advertisement
Fetching more content...