क्या है भारत का VJD मेथड जिसे आईसीसी ने नहीं माना और डकवर्थ लुईस नियम जारी रखा गया

भारतीय इंजीनियर के सिस्टम को आईसीसी ने नहीं माना
भारतीय इंजीनियर के सिस्टम को आईसीसी ने नहीं माना

भारतीय सरजमीं पर होने वाले कई टूर्नामेंटों में डकवर्थ लुईस नियम को लागू नहीं किया जाता है। इनमें बीसीसीआई (BCCI) के घरेलू टूर्नामेंट और तमिलनाडु प्रीमियर लीग तक शामिल है। डकवर्थ लुईस नियम की जगह यहाँ वीजेडी मेथड (VJD Method) का उपयोग किया जाता है। हालांकि कई भारतीय फैन्स को इस बारे में शायद मालूम नहीं होगा। इस प्रणाली को भारतीय इंजीनियर वी जयदेवन ने विकसित किया था लेकिन आईसीसी ने इसे मानने से मना कर दिया।

2012 में ICC ने जयदेवन की प्रस्तावित प्रणाली को यह कहते हुए खारिज कर दिया था कि समिति ने सर्वसम्मति से सहमति जताई है कि D/L पद्धति में किसी भी महत्वपूर्ण दोष का कोई सबूत नहीं था और न ही समिति को विश्वास था कि वीजेडी (VJD) पद्धति से कोई सुधार की पेशकश की जा सकती है।

इंजीनियर जयदेवन ने तब विरोध किया था कि उनकी निष्पक्ष सुनवाई नहीं हुई। DL पद्धति को डकवर्थ-लुईस-स्टर्न पद्धति में संशोधित करने के लिए जारी रखा गया और वीजेडी प्रणाली को अंतरराष्ट्रीय क्षेत्र में अनुमति नहीं दी गई थी। हालांकि कुछ निश्चित फायदे हैं जो DL प्रणाली में नहीं है लेकिन वीजेडी मेथड में है।

वीजेडी प्रणाली अधिक वैज्ञानिक विकल्प की पेशकश करने के लिए पारी को चरणों में बाँट देती है। यह पहले कुछ ओवरों में एक उच्च स्कोरिंग दर मानती है। फील्डिंग प्रतिबंधों को देखते हुए बीच के ओवरों में दर में गिरावट मानती है और स्लॉग ओवरों में एक वृद्धि मानती है।

अलग-अलग स्कोर के लिए स्कोरिंग पैटर्न भी है।100 से नीचे के स्कोर में अप्रोच अलग है और 100 से 200 के स्कोर में अप्रोच बदल जाती है। इस तरह अलग-अलग पैटर्न से लक्ष्य का निर्धारण करने का प्रावधान इसमें है। यह ग्राफ पर सिंगल कर्व की जगह डबल कर्व पर विचार कर गणना करता है।

एक सामान्य वक्र (Curve) बारिश की शुरुआत से पहले टीम की स्कोरिंग दर का प्रतिनिधित्व करेगा, जब वे इस धारणा के साथ खेलते हैं कि ओवरों का पूरा कोटा उपलब्ध है। ओवरों की छंटनी के बाद बदले हुए दृष्टिकोण को अनुमानित करने के लिए एक अलग 'टारगेट कर्व' की आवश्यकता होती है, क्योंकि टीमें एक बदले हुए दृष्टिकोण के साथ खेलती हैं। इस दौरान खेलने के लिए बचे हुए ओवरों की संख्या कम हो जाती है। हालांकि आईसीसी ने इसे मान्यता नहीं दी लेकिन बीसीसीआई ने घरेलू क्रिकेट में इसे लागू कर दिया।

दोनों सिस्टम में लक्ष्य का निर्धारण

टीम 1 स्कोर - 150: डीएलएस लक्ष्य 93; वीजेडी लक्ष्य 91

टीम 1 स्कोर - 200: डीएलएस लक्ष्य 124; वीजेडी लक्ष्य 118

टीम 1 स्कोर - 250: डीएलएस लक्ष्य 154; वीजेडी लक्ष्य 142

टीम 1 स्कोर - 300: डीएलएस लक्ष्य 163; वीजेडी लक्ष्य 163

टीम 1 स्कोर - 350: डीएलएस लक्ष्य 174; वीजेडी लक्ष्य 182

Quick Links

Edited by Naveen Sharma
App download animated image Get the free App now