Create

टी-20 इतिहास में सबसे ज़्यादा मेडन ओवर डालने वाले 5 गेंदबाज़

17 फ़रवरी 2005 को शुरू होने के बाद से टी -20 क्रिकेट ने खेल में क्रांति ला दी है और क्रिकेट प्रशंसकों के बीच इस प्रारूप की लोकप्रियता लगातार कायम है। युवा प्रशंसकों को टेस्ट क्रिकेट की बजाय टी 20 क्रिकेट देखने में ज्यादा दिलचस्पी रही है, क्योंकि छोटे प्रारूप का पूरा मूल्य प्राप्त होता, क्योंकि उन्हें उम्मीद होती है कि बहुत सारे रन बनाए जाएंगे, प्रत्येक गेंद लगभग सीमा रेखा के पार पहुंचेगी। रनो के लिए बल्लेबाज़ की भूख एक गेंदबाज के लिये परेशानियाँ खड़ी करती हैं। 2014 के आईपीएल में बेहतरीन गेंदबाजों में से एक डेल स्टेन की गेंदों को उनके ही देश के साथी खिलाड़ी एबी डीविलियर्स ने मैदान के चारों तरफ सीमा रेखा पार पहुँचाया था, वह एक दृश्य था जो बयां करता है कि कैसे टी -20 क्रिकेट में गेंदबाजों को दिक्कत होती जा रही है। टी- 20 क्रिकेट के नियम ज्यादातर बल्लेबाजों के पक्ष में हैं फिर भी ऐसे गेंदबाज हुए हैं जिन्होंने टी-20 में बहुत सफलता हासिल की है। टी -20 क्रिकेट में हर डॉट बॉल को सोने की तरह माना जाता है, और ऐसे में जब एक ओवर में छह डॉट बॉल पड़ जायें तो कल्पना की जा सकती की वह ओवर खेल पर कितना प्रभाव डालेगा। यहां हम नज़र डाल रहे हैं टी -20 क्रिकेट में सबसे अधिक मेडन ओवर डालने वाले गेंदबाजों पर:

# 5 शाकिब अल हसन - 14 मेडन

बांग्लादेश का यह आलराउंडर बतौर गेंदबाज़ एक बेहद ही खतरनाक खिलाड़ी है। शाकिब को उनकी नियमित रूप से अपनी टीमों को मैच के दौरान विकेट लेकर सफलता प्रदान की क्षमता के लिये जाना जाता है। उनकी गेंदों को सीमा रेखा के पार पहुँचाना किसी भी बल्लेबाज के लिए मुश्किल होता है। गेंदबाजी के दौरान किसी भी समय विकेट निकालने की उनकी प्राकृतिक क्षमता से उन्होंने बल्लेबाजों को काफी हद तक परेशान किया है। हालांकि उन्हें बांग्लादेश के लिए बल्लेबाजी का आधार माना जाता है, लेकिन उन्होंने गेंदबाजी विभाग में लगातार अच्छा प्रदर्शन किया है। उन्होंने टी -20 में अब तक 14 मेडन ओवर डालें हैं, जो कि छोटे प्रारूप में किसी भी गेंदबाज के लिए पांचवां सबसे ज्यादा है।

# 4 एल्फोन्सो थॉमस - 15 मेडन

हालांकि अल्फोंसो थॉमस बहुत ज्यादा अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट नहीं खेले हैं, फिर भी उन्हें टी -20 क्रिकेट के अंतिम ओवेरों में सर्वश्रेष्ठ गेंदबाजों में से एक माना जाता है। वह अपनी सटीक यॉर्कर गेंदों के लिए प्रसिद्ध हैं, और दुनिया भर के सभी शीर्ष बल्लेबाजों को परेशान किया है। उन्होंने आईपीएल 2011 और 2012 में पुणे वॉरियर्स के साथ सफल सीजन बिताया था। अपने शांत स्वभाव के साथ, उन्होंने कई मौकों पर गेंदबाजी करते हुए विशेष रूप से अंतिम ओवरों में गेंदबाजी कर कई अवसरों पर अपनी टीम को जीत दिलाई है। उन्होंने 2007 में खेले गए एकमात्र टी -20 मैच में पाकिस्तान के खिलाफ 25 रन दकर 3 विकेट लिये थे, फिर भी उन्हें दक्षिण अफ्रीका की टीम में जगह मिलना मुश्किल रहा है। उन्होंने टी -20 क्रिकेट में 15 मेडन ओवर डाले है और वे वर्तमान में वेस्टइंडीज़ के लिए गेंदबाजी कोच की भूमिका निभा रहे हैं।

# 3 प्रवीण कुमार - 19 मेडन

इस सूची में जगह पाने वाला उत्तर प्रदेश का यह तेज गेंदबाज एकमात्र भारतीय है। प्रवीण कुमार ने हमेशा बल्लेबाजों को अपनी अपनी भ्रामक गति और घातक स्विंग के चलते परेशान किया। उनकी इसी कुशलता के चलते उन्हें पाकिस्तान के खिलाफ 18 नवंबर, 2007 को राष्ट्रीय अनुबंध मिला था। कुमार गेंद को एक भ्रामक गति से फेंकते थे और यही बल्लेबाजों के लिए खेलना कठिन बना देता है। ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाजों के पास 2008 में ऑस्ट्रेलिया में खेली गयी सी बी सीरीज़ में उनका कोई तोड़ नहीं था । कुमार के पास एक अच्छा आईपीएल रिकॉर्ड है, उन्होंने 2010 सीज़न में राजस्थान रॉयल्स के खिलाफ हैट्रिक ली थी। 2011 की नीलामी में जब वह अपने चरम पर थे, तो किंग्स-XI पंजाब ने उन्हें 800,000 अमेरिकी डॉलर के लिए खरीदा गया था। हालांकि, उनके मैदान की बाहर समस्यायों और सुस्त रवैये ने उन्हें भारतीय टीम से बाहर कर दिया। कुमार अभी भी घरेलू सर्किट में उत्तर प्रदेश के लिए खेलते हैं। वह 19 बार मेडन ओवर फेंकने के साथ सूची में तीसरे स्थान पर हैं।

# 2 सैमुअल बद्री - 20 मेडन

ट्रिनिडाड का यह खिलाड़ी बेहतरीन सटीकता के साथ गेंद को स्किड कराता है, और उनके नाम पर 20 मेडन हैं। बद्री और सुनील नारेन ने वेस्टइंडीज के लिए एक मजबूत स्पिन आक्रमण बनाया था, जो दुनिया में किसी भी टीम को परेशान कर सकता है। उनकी तेज फ्लाईट के साथ फेकी गेंदें बल्लेबाजों को हमेशा परेशान करती आई हैं। वह कई मौकों पर आईसीसी टी 20 रैंकिंग में शीर्ष पर रहे हैं। ज्यादातर समय, बद्री अपनी टीम के लिए गेंदबाजी की शुरुआत करते हैं क्योंकि वह पॉवरप्ले के दौरान गेंदबाजी करना पसंद करते आये है। उन्होंने 2016 में भारत में आयोजित वर्ल्ड टी20 में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी, जिसमें वेस्टइंडीज ने ट्रॉफी को अपने नाम किया था। हालांकि, उन्हें 2018 की आईपीएल नीलामी में कोई खरीदार नही मिला। # 1 सुनील नारेन - 21 मेडन इस समय दुनिया के सबसे अच्छे टी -20 गेंदबाज, सुनील नारेन 21 मेडन के साथ इस सूची में सबसे ऊपर हैं। नारेन सबकी नज़रों में पहली बार तब आये जब एक प्रैक्टिस मैच में उन्होंने सभी दस विकेट लिए थे, और इसके बाद उन्होंने पीछे मुड़कर नही देखा। वह उस वेस्टइंडीज की टीम में महत्वपूर्ण खिलाड़ी थे, जिसने 2012 में टी -20 ख़िताब जीता था। उनकी रहस्यमयी स्पिन गेंदबाजी का अभी तक कोई भी खिलाड़ी हल नही ढूढ़ पाया है। उनके पास नक्कलबॉल, कैरम बॉल, दूसरा जैसी गेंदों का ऐसा जाल है जो विपक्षी बल्लेबाजों के लिये खेलना मुश्किल बनाता है। उन्होंने अभी तक कोलकाता नाइट राइडर्स के लिए एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई और उन्हें 2012 और 2014 में दो आईपीएल खिताब ट्राफियां जीताने में मदद की। उन्हें आईपीएल 2012 में यूएस $ 700,000 में ख़रीदा गया और उसी साल वह प्लेयर ऑफ टूर्नामेंट भी बने। नारेन का सामना करना किसी भी बल्लेबाज के लिए एक दुःस्वप्न है। लेखक: ब्रोकन क्रिकेट अनुवादक: राहुल पांडे

Edited by Staff Editor
Be the first one to comment