Create
Notifications

5 सलामी बल्लेबाज जिन्हें भारतीय टीम के लिए तैयार किए जाने की जरुरत है

SENIOR ANALYST
Modified 22 Dec 2016
भारतीय टीम ने इंग्लैंड की काफी शानदार ढंग से टेस्ट सीरीज में 4-0 से हराया। इस प्रदर्शन के बाद टीम की चारों तरफ से तारीफ हो रही है। निश्चित ही इंग्लैंड को हराने के बाद भारतीय टीम के हौंसले सातवें आसमान पर हैं। लेकिन क्रिकेट में एक कहावत है कि जब टीम जीतती है तो उसकी कमजोरी अक्सर छुप जाती है। इस सीरीज में भारतीय टीम के साथ भी वैसा हुआ। सीरीज में भारत के लिए सबसे ज्यादा चिंता की बात रही उसकी ओपनिंग बल्लेबाजी। भारत के ओपनिंग बल्लेबाज कुछ ही पारियों में अच्छी शुरुआत कर पाए। ऊपर से सलामी बल्लेबाजों के चोटिल होने की वजह से ये दिक्कत और बढ़ गई। चेन्नई में खेले गए 5वें टेस्ट मैच में मुरली विजय के चोटिल होने की वजह से पार्थिव पटेल को ओपनिंग करनी पड़ी। हालांकि पार्थिव ने अच्छी बल्लेबाजी की और 71 रनों की शानदार पारी खेली। लेकिन कहीं अगर पार्थिव पटेल जल्द आउट हो गए होते तो क्या होता ?  तब भारतीय टीम को 759 रन बनाने के लिए शायद काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता। इसलिए भारतीय टीम को अब चाहिए कि वो कुछ ऐसे युवा सलामी बल्लेबाजों को तैयार करे जो ऐसी परिस्थिति में सलामी बल्लेबाजी की जिम्मेदारी संभाल सकें। घरेलू क्रिकेट में कई ऐसे शानदार सलामी बल्लेबाज हैं जो अपनी टीम के लिए नियमति ओपनिंग करते हैं। आइए नजर डालते हैं उन्हीं में से 5 खिलाड़ियों पर   5. फैज फजल faiz-fazal-1464127931-800-1482241951-800   जून में जिम्बॉब्वे दौरे के लिए जब फैज फजल को टीम में शामिल किया गया तो कई लोगों को बड़ी हैरानी हुई। हालांकि उस दौरे पर फैज को महज एक वनडे मैच खेलने का मौका मिला, जिसमें उन्होंने नाबाद 55 रन बनाए। पिछले 16 सालों में वो भारत के पहले ऐसे क्रिकेटर बने जिन्होंने 30 साल की उम्र में अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में पर्दापण किया। इसके अलावा टीम में वो एकमात्र ऐसे खिलाड़ी थे जिनके पास आईपीएल का कोई कॉन्ट्रैक्ट नहीं था। फैज फजल को चयनकर्ताओं ने उनके घरेलू क्रिकेट में बेहतरीन प्रदर्शन का ईनाम दिया। 2015-16 के रणजी सीजन में फैज फजल ने 44.62 के शानदार औसत से 714 रन बनाए। इस दौरान उन्होंने 3 बेहतरीन शतक लगाए। इनमें से एक शतक उनका काफी शानदार था जो उन्होंने ईरानी कप में रेस्ट ऑफ इंडिया की तरफ से बनाया था। उस मैच में फैज ने 480 रनों के बड़े स्कोर का पीछा करते हुए 127 रनों की जबरदस्त पारी खेली थी। दिसंबर 2003 में अपने पहले फर्स्ट क्लास मैच में ही फैज ने 151 रनों की बेहतरीन पारी खेली। तब से वो विदर्भ की टीम के लिए शानदार प्रदर्शन करते आ रहे हैं। वहीं 2004 के अंडर-19 वर्ल्ड कप में भी उनको खेलने का मौका मिला, लेकिन चोट के कारण उन्हें टूर्नामेंट से बाहर होना पड़ा। फैज फजल ने अपने 89 फर्स्ट क्लास मैचों में 5894 रन बनाए हैं। वो तेजी से रन बनाते हैं और मैच दर मैच अपनी कमियों को दूर करने का प्रयास करते हैं। अगर उन्हें भारतीय टीम की तरफ से खेलने का मौका मिले तो वो इंडियन टीम के लिए काफी उपयोगी साबित हो सकते हैं।
1 / 5 NEXT
Published 22 Dec 2016
Fetching more content...
App download animated image Get the free App now