Create
Notifications
New User posted their first comment
Advertisement

श्रीसंत की क्रिकेट में वापसी नहीं होनी चाहिए, ये रहे 5 कारण

Modified 13 Aug 2017, 10:25 IST
Advertisement
श्रीसंत अपने जमाने के आक्रामक तेज गेंदबाज़ रह चुके हैं, लेकिन जब वह अपने करियर के पीक पर थे तभी उनकी एक बड़ी गलती ने उनके पूरे करियर को बर्बाद करके रख दिया। आईपीएल में स्पॉट फिक्सिंग की वजह से श्रीसंत के ऊपर क्रिकेट खेलने पर आजीवन प्रतिबंध लगा दिया गया। उसके बाद उन्होंने एक राजकुमारी से शादी की और खुद को राजनीति व अभिनय क्षेत्र में हाथ अजमाया। कोर्ट से बरी होने के बाद श्रीसंत भारत के लिए अब दोबारा खेलना चाहते हैं। लेकिन इस विवादित तेज गेंदबाज़ को बीसीसीआई अनुमति नहीं देना चाहती है। जबकि केरल हाईकोर्ट ने उनके खेलने से प्रतिबंध हटा लिया है। इसके बावजूद इस 35 वर्षीय तेज गेंदबाज़ के लिए दोबारा से क्रिकेट में वापसी करना बेहद मुश्किल लग रहा है। क्योंकि खेलों में भरोसा खोना खिलाड़ी पर भारी पड़ता है। श्रीसंत ने अपना आखिरी वनडे व टेस्ट 2011 में खेला था। कोर्ट से केस खत्म हो चुका है और श्रीसंत कई बार मीडिया में आकर अपनी क्रिकेट की वापसी की बात कह चुके हैं, जिससे बीसीसीआई उन्हें रोकने के लिए कानूनी सलाह ले रहा है, ऐसे में श्रीसंत की वापसी में ये 5 अड़चने आ सकती हैं: मैच फिक्सिंग व स्पॉट फिक्सिंग को लेकर भारत को जीरो टॉलरेंस नीति अपनानी होगी श्रीसंत का स्पॉट फिक्सिंग मामला जितना बड़ा है, उसके सामने उन्हें जो सजा मिली है। वह बेहद कम है। बीसीसीआई उन्हें ऐसी सजा देना चाहता है, जो भविष्य में युवा खिलाड़ियों के लिए नजीर साबित हो। साथ ही फिक्सिंग के खिलाफ भारतीय क्रिकेट में जीरो टॉलरेंस की नीति से कोई समझौता न करने का सन्देश भी जाए। अगर बीसीसीआई की गवर्निंग बॉडी अपनी इस नीति में सफल रही तो श्रीसंत का ये मामला भविष्य में किसी केस स्टडी से कम नहीं होगा। जिससे आरोपी खिलाड़ी को किसी भी तरह की कोई छूट न मिल सके।
1 / 5 NEXT
Published 13 Aug 2017, 10:25 IST
Advertisement
Fetching more content...
App download animated image Get the free App now
❤️ Favorites Edit