Create

5 रिकॉर्ड जिन्हें तोड़ना विराट कोहली के लिए बेहद मुश्किल है

टीम इंडिया इस साल की शुरुआत में साउथ अफ़्रीका के दौरे पर गई थी। ये भारत के लिए अफ़्रीकी सरज़मीं पर टेस्ट सीरीज़ जीतने का बेहतरीन मौक़ा था, क्योंकि भारतीय टीम बल्लेबाज़ी और गेंदबाज़ी दोनों में मज़बूत नज़र आ रही थी। बदकिस्मती से भारत का बल्लेबाज़ी क्रम बुरी तरह नाकाम साबित हुआ और टीम इंडिया टेस्ट सीरीज़ हार गई। हांलाकि इस सीरीज़ में प्रोटियाज़ टीम के गेंदबाज़ टीम इंडिया के बल्लेबाज़ों पर हावी रहे, लेकिन वो कप्तान विराट कोहली को काबू करने में नाकाम रहे। कोहली पूरी टेस्ट सीरीज़ में शानदार बल्लेबाज़ी करते हुए नज़र आए। सीरीज़ के 3 मैच में उन्होंने 47.66 की औसत से 286 रन बनाए। वनडे सीरीज़ में भी उनका जलावा बरक़रार रहा। टीम इंडिया के कप्तान ने बेतरीन खेल दिखाते हुए 6 मैचों की सीरीज़ में 558 रन बनाए, जिसमें 3 शतक शामिल थे। उनके इसी खेल की बदौलत टीम इंडिया ने दक्षिण अफ़्रीका के ख़िलाफ़ 5-1 से वनडे सीरीज़ पर कब्ज़ा जमाया था। क्रिकेट के हर फ़ॉर्मेट में कोहली का ज़बरदस्त फ़ॉम बरक़रार है, वो बल्लेबाज़ी का हर रिकॉर्ड तोड़ रहे हैं। इसके बावजूद कुछ रिकॉर्ड ऐसे भी हैं जिन्हें शायद कोहली कभी न तोड़ पाएं। हम ऐसे ही कुछ रिकॉर्ड्स के बारे में बता रहे हैं जिन्हें तोड़ना टीम इंडिया के कप्तान के लिए आसान नहीं होगा।

#1 टेस्ट में सबसे बेहतरीन बल्लेबाज़ी का औसत : सर डॉन ब्रैडमैन, 99.94

इस रिकॉर्ड को तफ़सील से बयान करनी की ज़रूरत ही नहीं है। ये वो रिकॉर्ड है जो ब्रैडमैन को सर ब्रैडमैन बनाता है। मौजूदा टेस्ट बल्लेबाज़ों में कोहली ही नहीं, टेस्ट के सूरमा स्टीवन स्मिथ के लिए भी ब्रैडमैन के क़रीब पहुंचना नामुमकिन सा है। स्मिथ का टेस्ट में औसत 63.75 है जो ब्रैडमैन से काफ़ी दूर है। अगर कोहली की बात करें तो टेस्ट में उनका मौजूदा औसत 53.40 है। ब्रैडमैन के क़रीब पहुंचने के लिए भी उन्हें अपना शानदार प्रदर्शन जारी रखना होगा। कोहली के पास अभी 8 से 9 साल का वक़्त है, लेकिन इस बड़े रिकॉर्ड को तोड़ पाना मुश्किल ही नहीं, नामुमकिन है।

#2 अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में सबसे ज़्यादा छक्के लगाने का रिकॉर्ड : शाहिद आफ़रीदी, 476

विराट कोहली ने अब तक अंतरराष्ट्रीय करियर में 162 छक्के लगाए हैं हैं। शाहिद आफ़रीदी का रिकॉर्ड तोड़ने के लिए अभी कोहली को 315 छक्के और लगाने की ज़रूरत है। विराट ऐसी तकनीक के बल्लेबाज़ हैं जो मैदान से लगाकर शॉट मारना पसेद करते हैं चाहे वो टेस्ट हो या सीमित ओवर का खेल। कोहली तभी ख़तरा उठाते हैं जब इसकी बहुत ही ज़्यादा ज़रुरत होती है, वरना नहीं। उनके अब तक के रिकॉर्ड से ये साबित होता है कि हर पारी में वो औसतन कम ही छक्के लगाते हैं, ऐस में शाहिद का रिकॉर्ड उनसे कोसों दूर है।

#3 टेस्ट में सर्वाधिक निजी स्कोर : ब्रायन लारा, 400

टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली टेस्ट में तभी 400 रन की पारी खेल सकते हैं जब उन्हें मैच को ड्रॉ कराना हो। ऐसा मौक़ा कभी कभी ही आता है। अगर विराट से पूछा जाए कि वो शतक लगाना चाहेंगे या टीम इंडिया को जीतते हुए देखेंगे तो ज़ाहिर सी बात है कि विराट दूसरे विकल्प का चुनाव करना पसंद करेंगे। हांलाकि विराट कोहली से उम्मीद की जा सकती है कि वो एक दिन तिहरा शतक ज़रूर लगाएंगे, लेकिन 400 का आंकड़ा पार करना उनके लिए नामुमकिन सा है क्योंकि विराट हमेशा जीतने के लिए ही खेलते हैं।

#4 सबसे तेज़ वनडे शतक : एबी डीविलियर्स, 31 गेंद

विराट कोहली ऐसे खिलाड़ी हैं जो पारी की मज़बूत शुरुआत देने में यकीन करते हैं छक्के लगाने से ज़्यादा विकेट के बीच दौड़ना ज़्यादा पसंद करते हैं। वो अपने विकेट की क़ीमत समझते हुए इसे बचाए रखने पर ज़्यादा ध्यान देते हैं। वो अपनी पारी की शुरुआत में बड़े शॉट कम ही लगाते हैं। 30 गेंद पर वो शतक तभी लगा सकते हैं जब टीम इंडिया को काफ़ी बड़े लक्ष्य का पीछा करना हो। ऑस्ट्रेलिया के होबार्ट में उन्होंने श्रीलंका के ख़िलाफ़ 86 गेंदों पर 133 रन बनाया था।

#5 अंतरराष्ट्रीय करियर में सबसे ज़्यादा अर्धशतक : सचिन तेंदुलकर, 164

वनडे में विराट कोहली ने अपने पिछले 11 अर्धशतक को शतक में बदला है। टेस्ट में भी उनका रिकॉर्ड कुछ ऐसा ही है, यहां उन्होंने पिछले 12 अर्धशतकों में से 8 को शतक में तब्दील किया है। कोहली के हाफ़ सेंचुरी को सेंचुरी में बदलने का रेट काफ़ी शानदार रहा है। कप्तान बनने के बाद उन्होंने अर्धशतक से ज़्यादा शतक ही बनाए हैं। अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में कोहली के नां 80 अर्धशतक और 56 शतक हैं। आंकड़े इस बात की तरफ़ इशारा कर रहे हैं कि वो संन्यास लेने तक अर्धशतक से ज़्यादा शतक लगाने का रिकॉर्ड बना सकते हैं। लेखक – कृष्णन मासिलामाणि अनुवादक – शारिक़ुल होदा

Edited by Staff Editor
Be the first one to comment