Create
Notifications

कृष्णप्पा गौतम ने माफ़ी मांगी, बीसीसीआई ने मामला अनुशासनात्मक समिति के पास भेजा

Rahul

कर्नाटक के ऑफ स्पिनर कृष्णप्पा गौतम ने अपने गैर जिम्मेदाराना हरकत की वजह से भारतीय क्रिकेट बोर्ड से अब माफ़ी की याचना की है। गौतम की माफ़ी की याचना को बीसीसीआई ने अनुशासनात्मक समिति को सौंप दिया है। अब उनके खिलाफ कार्यवाही अनुशासनात्मक समिति के द्वारा की जाएगी। दरअसल दिलीप ट्रॉफी का पहला मैच खेलते हुए गौतम ने इंडिया रेड के लिए 5 विकेट हासिल किये थे लेकिन इस मैच के बाद उन्होंने बीमारी का बहाना किया और तुरंत बैंगलोर के लिए रवाना हो गए। बैंगलोर आकर उन्होंने बीसीसीआई की इजाजत के बिना कर्नाटक प्रीमियर लीग में एक टी20 मैच खेला। गौतम की गैर जिम्मेदाराना हरकत को लेकर बीसीसीआई ने उनपर अनुशासनात्मक कार्यवाई की और उन्हें दिलीप ट्रॉफी के बाकी मैचों और न्यूज़ीलैंड 'ए' के खिलाफ भारत 'ए' के मैचों को खेलने पर रोक लगा दी थी। गौतम ने बीसीसीआई को लिखे अपने माफीनामा पत्र में लिखा कि मुझे लगा कि वह टाइफाइड है लेकिन वह केवल एक वायरल फीवर निकला, जिसके चलते मैंने टी20 मैच खेलने की मंशा जताई। गौतम ने भारत 'ए' के लिए दक्षिण अफ्रीका दौरे पर शानदार प्रदर्शन किया था और इसी वजह से न्यूज़ीलैंड 'ए' के खिलाफ उनका खेलना लगभग तय माना जा रहा था। बीसीसीआई द्वारा गठित अनुशासनात्मक समिति के अध्यक्ष सीके खन्ना ने गौतम के माफीनामा पत्र और उनके भविष्य को लेकर एक निजी न्यूज़ एजेंसी से कहा, "हाँ, मुझे उनका माफीनामा पत्र मिला है। मेरे विचारों से गौतम ने दिलीप ट्रॉफी जैसे बड़े टूर्नामेंट का अनादर करके बहुत बड़ी गलती की है, उन्होंने इसके लिए अब माफ़ी की भी याचना की है। वह एक युवा ख़िलाड़ी हैं और हम उनके भविष्य को लेकर सोच विचार कर रहे हैं। मैं उनके बारे में कुछ लिखित में अभी नहीं बताऊंगा, उससे पहले मुझे समिति के बाकी सदस्यों से बातचीत करनी जरुरी है।" बीसीसीआई, चयन समिति और अनुशासनात्मक समिति की नाराजगी से यह जाहिर होता है कि 28 वर्षीय गौतम को भविष्य में राष्ट्रीय टीम के लिए खेलने पर अड़चनें आ सकती हैं। अनुशासनात्मक समिति के फैसले के साथ ही उनके भविष्य का फैसला भी जल्द ही होता नजर आएगा।


Edited by Staff Editor

Comments

Fetching more content...