Create

एकदिवसीय क्रिकेट इतिहास की सर्वकालिक इंग्लिश एकादश पर एक नज़र

देवांश अवस्थी

क्रिकेट के खेल में अगर शीर्ष 8 सबसे प्रभावशाली देशों की सूची निकाली जाए तो इंग्लैंड भी उनमें से एक है। विडम्बना है कि इन देशों में सिर्फ इंग्लैंड ही है, जो अभी तक वनडे विश्व कप जीतने में नाकाम रहा है। हालांकि, इंग्लिश टीम तीन बार फाइनल और दो बार सेमीफाइनल मुकाबलों तक जरूर पहुंची है। लेकिन ट्रॉफी उठाने का मौका उन्हें आजतक नहीं मिल सका, इंग्लिश क्रिकेट ने कई उतार-चढ़ाव देखने के बाद अंततः वनडे के हिसाब से एक बेहतरीन टीम बना ली है। इससे इतर हमने इंग्लैंड की ऑल-टाइम वनडे टीम तैयार की है। इस टीम को तैयार करने में बल्लेबाजों के लिए न्यूनतम 2000 रनों का और गेंदबाजों के लिए 100 विकेटों का मानक तय किया गया।

#5 ओपनर्स

मार्कस ट्रेस्कॉथिक ने 2000 में अपना डेब्यू किया था। 2000-2006 तक अपने करियर में यह स्टाइलिश लेफ्ट हैंडर इंग्लैंड के सबसे प्रभावशाली बल्लेबाजों में शुमार रहा। उन्होंने 123 मैचों में 37.37 के औसत और 85.21 के स्ट्राइक रेट के साथ 4335 रन बनाए। इनमें 12 शतक और 21 अर्धशतक शामिल हैं। ग्राहम गूच अपने दौर के तकनीकी रूप से सबसे सक्षम बल्लेबाजों में से एक थे। उनके शॉट्स की रेंज कमाल की थी। उन्होंने 125 वनडे मैचों में 36.98 के औसत के साथ 4290 रन बनाए, जिनमें 31 अर्धशतक शामिल हैं। आधुनिक मानकों के हिसाब से उनका स्ट्राइक रेट (61.88) भले ही कम लगे, लेकिन हमें इन आंकड़ों को तत्कालीन खेल के प्रारूप को देखते हुए आंकना चाहिए। गूच, 1992 में विश्व कप फाइनल में पहुंचने वाली इंग्लिश टीम के कप्तान थे और इस ऑल-टाइम इलेवन के कप्तान के तौर पर भी उन्हें ही चुना गया है।

#4 मिडिल-ऑर्डर

जो रूट, वनडे में सर्वाधिक रन बनाने वाले इंग्लिश खिलाड़ियों की सूची में 8वें नंबर पर पहुंच चुके हैं और उन्हें अभी काफी क्रिकेट खेलना है। अभी तक 102 मैचों में उनके नाम पर 4226 रन हैं। मौजूदा हालात को देखते हुए लगता है कि 27 वर्षीय यह खिलाड़ी करियर के अंत तक अपने देश के दिग्गजों को कहीं पीछे छोड़ देगा। उनका औसत (50.91) भी बेहद कमाल का है। केविन पीटरसन, दक्षिण अफ्रीका में जन्मा यह बल्लेबाज इंग्लैंड के लिए अभूतपूर्व साबित हुआ। 2005 ऐशज में एक बेमिसाल बल्लेबाज के तौर पर लोकप्रिय होने से पहले ही वह दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ वनडे श्रृंखला में तीन शतक जमा चुके थे। रिटायरमेंट से पहले उनके खाते में 136 वनडे मैच थे, जिनमें उन्होंने 86.58 के स्ट्राइक रेट के साथ 4440 रन बनाए। इयोन मॉर्गन, हालिया इंग्लिश टीम के सबसे प्रतिभाशाली नामों में से एक। उन्होंने बतौर कप्तान और बल्लेबाज, अपने टैलेंट को साबित करके दिखाया है। बाएं हाथ के इस बल्लेबाज ने 172 वनडे मैचों में 37.91 के औसत और 91.15 के स्ट्राइक रेट के साथ 5156 रन बनाए, जिनमें 10 शतक और 29 अर्धशतक शामिल हैं। ऑल-टाइम प्लेइंग इलेवन में मॉर्गन को उपकप्तान की जिम्मेदारी सौंपी जा सकती है।

#3 विकेटकीपर और ऑलराउंडर्स

फिलहाल, जोस बटलर जैसा हार्ड हिटर शायद ही पूरे विश्व क्रिकेट में कोई हो। पिछले दो सालों में अपने बेहतरीन प्रदर्शन से इस दाएं हाथ के बल्लेबाज ने काफी लोकप्रियता हासिल की है। अभी तक खेले 104 वनडे मैचों में उन्होंने 37.63 के औसत और 117.39 के बेहतरीन स्ट्राइक रेट के साथ 2672 रन अपने नाम किए हैं। इसके अलावा 133 कैच और 18 स्टम्पिंग्स उनके बेहतरीन विकेटकीपर होने की भी गवाही देते हैं। 90 के दशक में जब ऐंड्र्यू फ्लिंटॉफ ने अपना डेब्यू किया था, तब उन्हें वनडे क्रिकेट में इंग्लैंड के सबसे प्रतिभाशाली खिलाड़ियों में गिना जाता था और उन्हें इंग्लिश क्रिकेट का भविष्य माना जाता था। अपने पूरे करियर में उन्होंने एक कारगर ऑल-राउंडर की भूमिका निभाई। बल्ले और गेंद, दोनों से ही उन्होंने टीम को अपना योगदान दिया। 141 वनडे मैचों में उनके नाम पर 88.82 के स्ट्राइक रेट के साथ 3394 रन दर्ज हैं। इसके साथ-साथ उन्होंने 24.38 के औसत और 4.39 के इकॉनमी रेट के साथ 169 विकेट भी लिए हैं। हालांकि, टेस्ट क्रिकेट में सर इयान बॉथम की यादगार पारियों के आगे वनडे में उनका योगदान कुछ फीका ही पड़ जाता है, लेकिन फिर भी वनडे करियर में, उन्होंने अपनी योग्यता और क्लास की झलकियां समय-समय पर दिखाई हैं। उन्होंने कुल 116 वनडे मैच खेले, जिनमें 23.21 के औसत और 79.10 के स्ट्राइक रेट के साथ 2113 रन बनाए। इनमें 9 अर्धशतक भी शामिल हैं। अगर गेंदबाजी में उनके योगदान की बात करें तो 145 विकेटों के साथ उनका इकॉनमी रेट (3.96) कमाल का रहा है।

#2 गेंदबाज़

आश्चर्यजनक है कि वनडे में सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले इंग्लिश खिलाड़ियों की लिस्ट में सिर्फ एक ही स्पिनर शामिल है, ग्रीम स्वान। स्वान ने 79 वनडे मैच खेले और 104 विकेट लिए। उनका औसत 27.76 और इकॉनमी रेट 4.54 का रहा। 28 रनों पर 5 विकेट, उनके करियर का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन रहा। 90 के दशक के मध्य से आखिर तक डैरन गॉफ, इंग्लैंड टीम के एकमात्र ऐसे गेंदबाज थे, जिसे वनडे क्रिकेट के बदलते मानकों के हिसाब से उपयुक्त माना जा सकता था। डेथ ओवर्स के लिए गॉफ को एक बेहतरीन गेंदबाज के तौर पर देखा जाता था। 2006 में संन्यास से पहले तक वह 159 वनडे मैचों में 26.42 के औसत और 4.39 के स्ट्राइक रेट के साथ 235 विकेट अपने खाते में जोड़ चुके थे। जेम्स ऐंडरसन के नाम पर अभी तक कुल 810 अंतरराष्ट्रीय विकेट दर्ज हैं। टेस्ट और वनडे, दोनों ही में वह इंग्लैंड की ओर से सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले गेंदबाज हैं। वनडे करियर में उन्होंने कुल 269 विकेट लिए हैं। उनका इकॉनमी रेट 4.92 का रहा है।

#1 12वां खिलाड़ी और फ़ुल लाइनअप

पॉल कॉलिंगवुड, एक ऐसे बल्लेबाज हैं, जो बैटिंग लाइनअप में किसी भी क्रम पर उपयोगी साबित हो सकते हैं। 197 वनडे मैचों में उन्होंने 35.36 के औसत और 76.98 के स्ट्राइक रेट के साथ 5092 रन बनाए। इनमें 5 शतक और 26 अर्धशतक शामिल हैं। वनडे में इंग्लिश बल्लेबाजों द्वारा बनाए गए रनों के आंकड़े में वह सिर्फ इयान बेल और इयॉन मॉर्गन से पीछे हैं। सिर्फ बल्ले से ही नहीं बल्कि उन्होंने अपनी गेंदबाजी से भी प्रभावित किया। उन्होंने 4.96 के इकॉनमी रेट के साथ 111 विकेट लिए। इसके अलावा उनके खाते में 108 कैच भी हैं।

इंग्लैंड की ऑल-टाइम वनडे टीमः

मार्कस ट्रेस्कॉथिक, ग्राहम गूच (कप्तान), जो रूट, केविन पीटरसन, इयोन मॉर्गन (उपकप्तान), जोस बटलर (विकेटकीपर), ऐंड्र्यू फ्लिंटॉफ, सर इयान बॉथम, ग्रीम स्वान, डैरन गॉफ और जेम्स ऐंडरसन। 12वां खिलाड़ी – पॉल कॉलिंगवुड

लेखकः राम कुमार अनुवादकः देवान्श अवस्थी

Edited by Staff Editor

Comments

Fetching more content...