Create
Notifications

हरभजन सिंह अभी भी मुझे नींद में आकर डरा जाते हैं: रिकी पॉन्टिंग

Syed Hussain

क्रिकेट प्रेमियों को सचिन तेंदुलकर और शेन वॉर्न के बीच का वह क़िस्सा तो हमेशा याद रहता है, जब दिग्गज लेग स्पिनर ने ख़ुलासा किया था कि सचिन उनके ख़्वाब में आते हैं और उनके सिर के ऊपर से साइट स्क्रीन पर छक्का जड़ते हैं। हालांकि बाद में शेन वॉर्न ने इससे इंकार करते हुए कहा था कि उन्होंने बस एक मज़ाक के तौर पर ऐसा कहा था। लेकिन अब शेन वॉर्न के सहयोगी रह चुके और क्रिकेट इतिहास के सबसे सफल कप्तानों में शुमार पूर्व ऑस्ट्रेलियाई दिग्गज रिकी पॉन्टिंग ने भी कुछ इसी तरह का ख़ुलासा किया है। पॉन्टिंग ने कहा है कि हरभजन सिंह को खेलने में उन्हें सबसे ज़्यादा दिक़्क़त होती थी और आज भी वह उनके लिए एक बुरा सपना हैं। ''भारत के ख़िलाफ़ खेलते हुए मुझे अगर किसी से सबसे ज़्यादा डर लगता था, तो वह थे हरभजन सिंह। अभी भी भज्जी मुझे सपने में आकर डरा जाते हैं।'': रिकी पॉन्टिंग हरभजन सिंह ने रिकी पॉन्टिंग को 14 टेस्ट मैचो में 10 बार अपना शिकार बनाया था, ये आंकड़ा ये बताने के लिए काफ़ी है कि पॉन्टिंग को भज्जी का कितना खौफ़ रहता होगा। रिकी पॉन्टिंग को इस युग के बेहतरीन बल्लेबाज़ों में शुमार किया जाता है। टेस्ट क्रिकेट में दाएं हाथ के इस दिग्गज ने 13378 रन बनाए, जिसमें 41 शतक और 62 अर्धशतक शामिल हैं। पॉन्टिंग की टेस्ट औसत 51.85 की थी, लेकिन भारत के ख़िलाफ़ भारत में रिकी पॉन्टिंग के आंकड़े इसके ठीक उलट थे। पूर्व ऑस्ट्रेलियाई कप्तान ने भारत में खेली गई 25 पारियों में 26.48 की मामूली औसत से सिर्फ़ 662 रन ही बना पाए। हालांकि इसमें एक शतक भी शामिल था। हरभजन सिंह और ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ियों के बीच में कई बार तू तू मैं मैं भी हुई थी, जिसमें 2008 में सिडनी टेस्ट सभी के ज़ेहन मे ज़िंदा है। भारतीय क्रिकेट टीम के अनुभवी स्पिनर हरभजन सिंह भी पॉन्टिंग को अपने वक़्त का बेहतरीन बल्लेबाज़ मानते हैं।


Edited by Staff Editor

Comments

Fetching more content...