Create
Notifications

हॉक ऑई: एमएस धोनी बनाम एडम गिलक्रिस्ट (टेस्ट)

Modified 17 Jan 2017

टेस्ट क्रिकेट में विकेटकीपर का काम सबसे कठिन माना जाता रहा है। फील्डिंग के समय पूरे समय विकेट के पीछे और अगर बल्लेबाज़ी भी आती है तो ये काम और चुनौतीपूर्ण हो जाता है। क्रिकेट के इतिहास में एमएस धोनी और एडम गिलक्रिस्ट महान विकेटकीपर बल्लेबाजों में से एक हैं। इन दोनों महान खिलाड़ियों ने अपने देश के लिए क्रमश: 90 और 96 मैच खेले हैं। दोनों के कन्धों पर अपनी टीम की बड़ी जिम्मेवारी थी। जिसे दोनों ने बखूबी निभाया। धोनी और गिली ने अपने देश की काफी सेवा की है। ऐसा हम नहीं इनके आंकड़े बोलते हैं।

घर से बाहर बनाये गये रन

घर में क्रिकेट खेलना सबसे आसान होता है जहां अपने पहचान की विकेट और अपने लोगों के सामने खेलना होता है। तो वहीं विदेशों में विकेट के बारे में ज्यादा जानकारी नहीं होती है। साथ ही हमें दर्शकों से भी उतना सपोर्ट नहीं मिलता है। एमएस धोनी और गिलक्रिस्ट ने अपने युग में अपनी टीम के लिए शानदार खेल दिखाया है। हालांकि धोनी के नाम गिली जितने शतक नहीं हैं, लेकिन टीम की जरूरतों के हिसाब से योगदान देते रहे हैं। उनका औसत पाकिस्तान, न्यूज़ीलैंड और बांग्लादेश के खिलाफ बेहतर रहा है। गिलक्रिस्ट के नाम 10 शतक दर्ज हैं। वह निचले क्रम में कई बार ऑस्ट्रेलिया के खेवनहार बने थे। भारत और यूएई के खिलाफ उनका औसत अच्छा नहीं रहा है, लेकिन बाकी टीमों के खिलाफ उनका औसत बेहतर रहा है।














































































































































धोनी गिली
देश मैच रन उच्च औसत शतक देश मैच रन उच्च औसत शतक
ऑस्ट्रेलिया 9 311 57* 19.43 0 बांग्लादेश 2 156 144 78.00 1
बांग्लादेश 3 193 89 96.50 0 इंग्लैंड 10 521 152 40.07 1
इंग्लैंड 12 778 92 37.04 0 भारत 7 342 122 28.50 2
न्यूज़ीलैंड 4 272 68 54.40 0 न्यूज़ीलैंड 6 487 162 81.16 2
पाकिस्तान 3 179 148 59.66 1 दक्षिण अफ्रीका 6 523 204* 65.37 2
दक्षिण अफ्रीका 7 370 90 28.46 0 श्रीलंका 4 272 144 45.33 1
श्रीलंका 3 128 76 32।00 0 वेस्टइंडीज 4 282 101* 70.50 1
वेस्टइंडीज 7 265 74 22.08 0 यूएई 2 51 34 25.50 0
जब रन बनाये और टीम जीती
रन बनाना एक अलग बात है, लेकिन जब आप रन बनाये और टीम जीते तो बात विशेष हो जाती है। बात धोनी और गिली की करें तो इन दोनों ने निचले क्रम पर आकर टीम के लिए न सिर्फ रन बनाये हैं बल्कि टीम को विजेता भी बनाया है। धोनी का औसत कुछ खास नहीं रहा है। लेकिन जब उन्होंने रन बनाये हैं तो टीम को काफी फायदा हुआ है। धोनी के 6 शतक में 4 शतक खतरनाक गेंदबाज़ी आक्रमण वाली टीमों के खिलाफ रहे हैं। इंग्लैंड को छोड़कर धोनी ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ दोहरा शतक बनाया था। जो एक विकेटकीपर बल्लेबाज़ की बड़ी उपलब्धि है। गिलक्रिस्ट ने भी 42 से ज्यादा के औसत से रन बनाया है। गिली ने तकरीबन हर टेस्ट खेलने वाले देश के खिलाफ शतक बनाया है। जिसकी बदौलत टीम को जीत भी मिली है।




























































































































































धोनी गिली
बनाम मैच रन उच्च औसत शतक बनाम मैच रन उच्च औसत शतक
ऑस्ट्रेलिया 9 700 224 58.23 1 बांग्लादेश 4 199 144 66.33 1
बांग्लादेश 2 140 89 140 0 इंग्लैंड 14 749 152 49.33 2
इंग्लैंड 5 99 53 16.50 0 भारत 9 558 122 42.92 2
न्यूज़ीलैंड 4 328 98 82.00 0 न्यूज़ीलैंड 7 501 126 71.57 2
पाकिस्तान 1 57 57 57 0 पाकिस्तान 9 616 149* 68.44 2
दक्षिण अफ्रीका 4 243 132* 48.30 1 दक्षिण अफ्रीका 10 597 204* 49.75 2
श्रीलंका 5 238 100* 47.60 1 श्रीलंका 6 348 144 49.71 1
वेस्ट इंडीज 6 228 144 28.50 1 वेस्टइंडीज 11 536 101* 53.60 1
ज़िमबाब्वे 2 133 113* 133 1
बल्लेबाज़ी के दौरान कैसे आउट हुए   दोनों बल्लेबाज़ आक्रामक क्रिकेट खेलते थे। ऐसे में उनका आउट होना भी एक स्टाइल बन जाता था। ये खिलाड़ी बहुत कम बड़े शॉट खेलने के दौरान आउट हुए हैं। धोनी बल्ले को बॉटम हैण्ड से पकड़ते हैं, वह पूरे क्रीज़ सफल करते रहे हैं। जिससे उन्हें गैप तलाशने में भी मदद मिलती रहती है। 12 बार धोनी स्टम्प के सामने कैच आउट हुए हैं। ऐसा गेंदबाज़ के खिलाफ उनके एरियल रूट अजमाने की वजह से होता रहा है। गिली ने कभी अपने स्टांस में परिवर्तन नहीं किया। लेकिन गेंदबाज़ पर दबाव बनाने के लिए वह भी धोनी की तरह एरियल रूट खेलने के चक्कर में आउट हुए हैं। तेज विकेट पर बेहतरीन क्रिकेट खेलने वाले गिली कट और पुल बढ़िया खेलते थे। लेकिन ऑन द राइज खेलने के चक्कर में आउट हो जाया करते थे।






































एमएस धोनी एडम गिलक्रिस्ट
कैच 94 कैच 84
बोल्ड 15 बोल्ड 16
LBW 12 LBW 12
रन आउट 4 रन आउट 1
स्टम्प 3 स्टम्प 4
पेस बनाम स्पिन महान बल्लेबाज़ हर तरह के आक्रमण को बेहतरीन ढंग से खेलते हैं। इसमें क्रिकेटिंग बैकग्राउंड का होना न होना मायने नहीं रखता है। भारत में विकेट धीमा होता है, जो स्पिन गेंदबाजों को मदद देता है। इसके बावजूद भी धोनी कई बार स्पिन गेंदबाजों के सामने संघर्ष करते दिखे हैं। जबकि उन्होंने कई बार तेज गेंदबाज़ और सीम को मददगार विकेट पर भी रन बनाये हैं। वहीं गिली का रवैया स्पिन और तेज गेंदबाजों के खिलाफ एक जैसा रहता था। इसके अलावा उनके समय में शेन वार्न जैसे दिग्गज स्पिन गेंदबाज़ थे। जिससे उन्हें स्पिन के खिलाफ खेलने में मदद मिलती है।






































महेंद्र सिंह धोनी एडम गिलक्रिस्ट
पेस पेस
आउट हुए औसत आउट हुए औसत
88 27.81 64 35.73
स्पिन स्पिन
34 37.47 49 34.53
कैच/स्टंपिंग धोनी और गिली का फिटनेस लेवल अच्छा रहा है। जिससे इन खिलाड़ियों ने अपनी जिम्मेदारी वहन की है। दोनों ने तकरीबन 90 से ज्यादा टेस्ट मैच खेले हैं। एमएस धोनी ने कभी भी कीपिंग करते तकनीकी दक्षता नहीं दिखाई लेकिन अपनी फुर्ती और तेजी से उन्होंने बेहतरीन विकेटकीपिंग की है। वह विकेट के पीछे कभी कमजोर नहीं नजर आये हैं। वहीं एडम गिलक्रिस्ट कमाल के एथलीट थे। जो उनकी कीपिंग में भी दिखता था। उन्हें क्लोज स्लिप की जरूरत नहीं पड़ती थी। विकेट के पीछे 416 शिकार उनके नाम दर्ज हैं। जो अबतक का दूसरा श्रेष्ठ है।




















महेंद्र सिंह धोनी एडम गिलक्रिस्ट
कैच स्टम्पिंग कैच स्टम्पिंग
256 38 379 37
 
Published 17 Jan 2017
Fetching more content...
App download animated image Get the free App now