शुरु से ही मुझे अंतर्राष्ट्रीय खिलाड़ियों को गेंदबाजी करने का मौका मिला: मुजीब जदरण

अफगानिस्तान के खिलाड़ी इस वक्त क्रिकेट जगत में धूम मचा रहे हैं। खासकर युवा खिलाड़ियों ने अभी तक अपने खेल से सबका दिल जीता है। इन्हीं में से एक हैं मुजीब जदरण जिन्होंने अपनी स्पिन गेंदबाजी से सबको प्रभावित किया है। उन्होंने अपनी इस कामयाबी का राज भी बताया है। टाइम्स ऑफ इंडिया से बातचीत में मुजीब जदरण ने कहा कि मुझे शुरु से ही अंतर्राष्ट्रीय खिलाड़ियों को गेंदबाजी करने का मौका मिला, जिसका फायदा अब हो रहा है। उन्होंने कहा कि जब मैं छोटा था तब अपने अंकल को गेंदबाजी करता था। मैं उसी माइंडसेट के साथ गेंदबाजी करता था जैसे मैं अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट खेल रहा हूं। शुरु से ही मुझे अंतर्राष्ट्रीय खिलाड़ियों को गेंदबाजी का मौका मिला। गौरतलब है मुजीब जदरण नूर अली जदरण के भतीजे हैं, जिन्होंने 2009 में स्कॉटलैंड के खिलाफ अफगानिस्तान के पहले एकदिवसीय मैच में हिस्सा लिया था। काबुल में उन्हीं की देखरेख में जदरण ने क्रिकेट के गुर सीखे। नूर अली जदरण की काबुल में एक क्रिकेट एकेडमी भी है जिससे कई सारे प्रथम श्रेणी क्रिकेटर निकले हैं। आईपीएल में मुजीब किंग्स इलेवन पंजाब की टीम का हिस्सा थे, जहां पर उन्होंने काफी अच्छा प्रदर्शन किया था। 17 साल के मुजीब ने इस साल न्यूजीलैंड में हुए अंडर-19 विश्व कप में शानदार गेंदबाजी की थी और इसी वजह से उन्हें आईपीएल की नीलामी में चुन लिया गया। अफगानिस्तान की टीम इस वक्त बांग्लादेश के खिलाफ 3 मैचों की टी20 सीरीज खेल रही है। पहले दो मैच जीतकर अफगानिस्तान सीरीज में 2-0 की अजेय बढ़त बना चुकी है। इन दो मैचों में अफगानिस्तान के गेंदबाजों ने शानदार खेल दिखाया। खासकर राशिद खान ने जो कि इस वक्त आईसीसी टी20 रैंकिंग में नंबर एक गेंदबाज हैं। राशिद खान दोनों मैचों में मैन ऑफ द मैच रहे। मुजीब जदरण और मोहम्मद नबी जैसे गेंदबाजों ने भी उनका बखूबी साथ दिया। बांग्लादेश के खिलाफ सीरीज के बाद अफगानिस्तान को भारत के खिलाफ एकमात्र टेस्ट मैच भी खेलना है। ये अफगानिस्तान का पहला अंतर्राष्ट्रीय टेस्ट मैच होगा।