Create
Notifications

एक ही साल में टेस्ट और एकदिवसीय दोनों में आईसीसी एकादश की कप्तानी संभालने वाले कप्तान

ऋषि

साल 2004 से आईसीसी खेल के विभिन्न विभागों में बेहतरीन प्रदर्शन करने वाले खिलाड़ियों को सम्मानित करती आ रही है। व्यक्तिगत पुरस्कारों के साथ ही आईसीसी साल के सर्वश्रेष्ठ टेस्ट और एकदिवसीय एकादश टीम का भी चयन करती है। इसमें आईसीसी दोनों ही टीमों के लिए कप्तान भी नियुक्त करती है। कप्तान का चयन पूरे साल उनकी कप्तानी में लिए गये फैसले और उसकी टीम के प्रदर्शन के आधार पर किया जाता है। इसके चयन के लिए 5 सदस्यीय कमिटी बनाई गयी है जो दोनों ही प्रारूपों के टीम का चयन करती है और साथ ही उनके कप्तान की भी नियुक्ति करती है। अब तक 4 ऐसे कप्तान हुए हैं जो एक ही साल में दोनों टीमों के कप्तान नियुक्त हुए हैं। ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान रिकी पॉन्टिंग एकमात्र ऐसे कप्तान हैं जो दो मौकों पर एक ही साल में दोनों टीमों के कप्तान थे। इंग्लैंड के पूर्व कप्तान एलेस्टेयर कुक 3 बार टेस्ट टीम के कप्तान बने लेकिन एक बार भी उन्हें एकदिवसीय टीम की कप्तानी नहीं मिली। आईये उन खिलाड़ियों को देखते हैं जो एक ही साल में टेस्ट और एकदिवसीय दोनों टीमों के कप्तान रहे हैं:

#3 विराट कोहली (2017)

जनवरी 2017 में जब महेंद्र सिंह धोनी ने एकदिवसीय टीम की कप्तानी छोड़ी तो यह जिम्मेदारी टेस्ट में टीम की कप्तानी कर रहे विराट कोहली को सौंपी गयी। विश्व क्रिकेट के सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाजों में से एक विराट कोहली ने कप्तानी में मिले मौकों को दोनों हाथ से पकड़ते हुए टीम को टेस्ट रैंकिंग में पहले और एकदिवसीय रैंकिंग में दूसरे स्थान पर पहुंचा दिया। इन दौरान बल्ले से भी उनका प्रदर्शन शानदार रहा और 2017 में उन्होंने दोनों ही प्रारूपों से 1000 से ज्यादा रन बनाये। एकदिवसीय मैच में 1460 रन बनाकर वह सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज भी थी।

#2 महेंद्र सिंह धोनी (2009)

सर क्लाइव लॉयड की अध्यक्षता में गठित की गयी कमिटी ने 2009 की आईसीसी टेस्ट और एकदिवसीय टीम की कप्तानी भारतीय कप्तान महेंद्र सिंह धोनी को मिली। इसके अलावा उन्हें एकदिवसीय के ‘क्रिकेटर ऑफ़ दी ईयर’ का पुरस्कार भी मिला। उस साल धोनी की कप्तानी में भारतीय टीम ने श्रीलंका और न्यूज़ीलैंड में अपनी पहली द्विपक्षीय सीरीज जीती। धोनी ने बल्लेबाजी में भी शानदार प्रदर्शन करते हुए करीब 1000 रन बनाये और कई बार अंत तक बल्लेबाजी कर टीम को जीत तक भी पहुँचाया। भारतीय टीम 2009 में ही पहली बार आईसीसी टेस्ट रैंकिंग में पहले स्थान पर पहुंची और उस समय टीम के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ही थे। उनकी कप्तानी में टीम ने वेस्टइंडीज और न्यूज़ीलैण्ड को उसके घर में जाकर हराया। इसके अलावा टीम ने 2008 में बॉर्डर-गावस्कर ट्रॉफी में भी जीत हासिल की और उसी सीरीज के चौथे टेस्ट मैच से पहले धोनी को पूर्ण रूप से भारतीय टेस्ट कप्तान बनाया गया था।

#1 रिकी पॉन्टिंग (2004 और 2007)

ऑस्ट्रेलियाई टीम के पूर्व कप्तान रिकी पॉन्टिंग एकमात्र ऐसे कप्तान हैं जो दो मौकों पर एक ही साल में टेस्ट और एकदिवसीय दोनों टीम के कप्तान रहे हैं। उन्हें 2004 और 2007 में आईसीसी टेस्ट और एकदिवसीय एकादश की कप्तानी मिली थी। उनके कप्तानी का दौर ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट के स्वर्णिम युग के रूप में गिना जाता है। वह टेस्ट में 48 जीत के साथ टेस्ट इतिहास के सबसे सफल कप्तान हैं और उनकी ही कप्तानी में ऑस्ट्रेलिया की टीम ने 2003 और 2007 विश्वकप में जीत हासिल की थी। लेखक- आयुष गर्ग अनुवादक- ऋषिकेश सिंह

Edited by Staff Editor

Comments

Fetching more content...